ओनलाइन कमाई – ओनलाइन नौकरी

ओनलाइन कमाई – ओनलाइन नौकरी: अक्‍सर लोग मुझसे ये सवाल पूछते हैं और मैं उन्‍हें यही जवाब देता हूं कि ‘हां, कमाया जा सकता है और मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं, क्‍योंकि मैं अपनी हिन्‍दी वेबसाईट से ही कमा रहा हूं।’ लेकिन 99 प्रतिशत से ज्‍यादा भारतीय Blogger या Website Owner नहीं कमा सकते।

क्‍यों?

बहुत Simple सा कारण है कि हम भारतीय लोग आजादी के 60 साल बाद भी गुलामी की मानसिकता से ग्रसित हैं। हमें नौकरी करना, स्‍वयं का Business करने की तुलना में ज्‍यादा आसान मालूम पडता है। क्‍योंकि नौकरी में किसी तरह का कोई Investment नहीं होता, जबकि मामूली से मामूली Business में भी हमें कुछ न कुछ तो Invest करना ही पडता है।

हम भारतीय लोग बिना कुछ खर्च किए हुए ही सबकुछ प्राप्‍त कर लेना चाहते हैं। यही तो वजह है कि 99 प्रतिशत से ज्‍यादा लोग Google की Blogger Service का प्रयोग करते हुए ही अपना Blog बनाते हैं और ये समझते हैं कि ये उनकी Personal Website है, जबकि Website व Blog में कुछ Basic अन्‍तर होते हैं और एक Blog कभी भी पूरी तरह से एक Website नहीं होती।

Blog तथा Website के बीच एक सबसे बडा अन्‍तर ये होता है कि Blog हमेंशा Forward Chronology को Follow करते हैं, जबकि कई बार हम ऐसे Content Create करते हैं, जिन्‍हें सामान्‍यत: Reverse Chronology में ही Display किया जाना महत्‍वपूर्ण होता है अन्‍यथा उन Contents के Articles का मतलब ही Confusing हो जाता है।

यानी जब भी कभी हम अपने Blogspot Blog पर कोई नया Article Post करते हैं, तो वह Article अन्‍य सभी पुराने Articles से Top पर Display होता है। इस प्रक्रिया को Forward Chronology कहा जाता है। जबकि कभी-कभी हमें ऐसे Content लिखने की जरूरत होती है, जिनमें जो Article पहले लिखा गया है, उसे ही Top पर Show होना जरूरी होता है, अन्‍यथा सभी क्रमिक Articles के बीच का आपसी तालमेल नहीं बन पाता और लिखे गए Contents का वास्‍तविक Meaning ही बदल जाता है या समझ से परे हो जाता है।

उदाहरण के लिए यदि हम किसी पुस्‍तक के विभिन्‍न Pages को Online Publish करना चाहें, तो Blogspot जैसे Free Blogging Platform को उपयोग में लेने पर हमारी पुस्‍तक का आखिरी पेज ही सबसे पहले दिखाई देगा, जबकि वास्‍तव में पुस्‍तक का पहला पेज ही सबसे पहले दिखाई देना चाहिए और Blogspot की ये सबसे पहली परेशानी है कि हम हमारे Articles के Display होने के क्रम को नहीं बदल सकते यानी हम Blogspot का प्रयोग करते हुए Reverse Chronology को उपयोग में नहीं ले सकते। क्‍योंकि हम Blogspot आधारित Blog को कभी भी एक Website की तरह Treat नहीं करवा सकते।

इतना ही नहीं Blogspot का प्रयोग करते हुए हम अधिकतम 10 ही Static Page Create कर सकते हैं और ये सभी Static Pages हमारे Blogspot Blog का Menubar बन जाते हैं, जो कि सामान्‍यत: तो ठीक है लेकिन हमेंशा ऐसा इनका Menubar में Show होना हमारे लिए परेशानी-भरा ही होता है।

हालांकि Blogspot Blog की सैकडों परेशानियां हैं लेकिन इसकी सबसे बडी परेशानी तो यही है कि Blogspot पर आधारित हमारे Blog के Server Side Codes को हम किसी भी स्थिति में अपनी जरूरत के अनुसार Modify नहीं कर सकते। परिणामस्‍वरूप विभिन्‍न प्रकार की उन जरूरतों को पूरा नहीं कर सकते, जिनकी जरूरत हमें हमारे Blog/Website से Online Earning करने के लिए Compulsory रूप से जरूरी होती है।

उदाहरण के लिए Blogspot Blog द्वारा हम हमारे Visitor के NameEmail Address को Capture नहीं कर सकते और जब हम हमारी Website/Blog पर आने वाले Visitor का नाम व Email Address ही Capture नहीं कर सकते, तो फिर हम उस Visitor को फिर से Contact कैसे कर सकते हैं और जब हम हमारे किसी Visitor को फिर से Contact ही नहीं कर सकते, तो फिर उसे किसी Specific Product को Purchase करने के लिए Offer कैसे दे सकते हैं और जब तक हम किसी Product को Offer नहीं करेंगे, तब तक कोई हमारे Product को खरीदेगा कैसे और जब तक कोई हमारे Product को खरीदेगा नहीं, तब तक हम Online Earning कैसे करेंगे।

आप कहेंगे, कि आप FeedBurner की Email Subscription Service का प्रयोग करते हुए Blogspot Blog पर भी अपने Visitors का Email Address तो Capture कर ही सकते हैं और वो भी Google द्वारा Provided एक Free Service ही है।

तो, आप FeedBurner का प्रयोग करते हुए अपने Visitor के Emails तो Capture कर लेंगे और हमें हमारी Blog/Site पर FeedBurner का प्रयोग करते हुए अपने Visitors को Capture भी करना चाहिए, लेकिन उसे कोई Offer Send करने के लिए Email कैसे करेंगे?

अब आप कह सकते हैं कि आप फिर से Google की GMail Service को Use करके अपने सभी Visitors को Free Email Send कर सकते हैं।

क्‍या आप वास्‍तव में ऐसा कर सकते हैं?

निश्चित रूप से नहीं कर सकते।

क्‍यों नहीं कर सकते?

इसलिए नहीं कर सकते, क्‍योंकि Google की GMail Service का प्रयोग करते हुए आप प्रतिदिन अधिकतम 500 लोगों को Email Send कर सकते हैं।

आप कहेंगे कि 500 ईमेल प्रतिदिन तो काफी हैं, तो मेरा जवाब ये है कि हालांकि GMail से आप 500 Emails प्रतिदिन Send कर सकते हैं, लेकिन Gmail Service का प्रयोग करते हुए आप एक घण्‍टे में अधिकतम 20 Emails ही Send कर सकते हैं और यदि आप प्रति घण्‍टे 20 से ज्‍यादा ईमेल Send करने की कोशिश करते हैं, तो GMail उन सभी Extra Emails को Spam Email की तरह Treat करते हुए उन्‍हें Deliver ही नहीं करता।

तो क्‍या आप 24 घण्‍टे लगातार बैठे-बैठे प्रति घण्‍टे 20 Emails Send करेंगे? क्‍या ये Practically सम्‍भव है?

एक और बात, 500 लोगों को जब आप ईमेल द्वारा कोई ऑफर करते हैं, तो उनमें से अधिकतम 20 प्रतिशत लोग ही आपके ऑफर को अपने ईमेल में पढते हैं। यानी 500 में से केवल 100 लोग ही आपके ईमेल को पढेंगे और इंटरनेट पर Product Selling की Conversion Rate सामान्‍यत: 1 प्रतिशत होती है।

यानी 100 में से कोई एक व्‍यक्ति ही आपके प्रोडक्‍ट को खरीदता है या आपके ऑफर पर Action लेता है। जबकि भारत में तो एक व्‍यक्ति कम से कम 8 से 10 बार आपके प्रोडक्‍ट के बारे में जानने के लिए आपकी वेबसाईट पर आता है, आपके Social Network पर आपके बारे में जानकारी प्राप्‍त करता है, आपके बारे में Internet पर Search करता है कि आप कहीं Fraud तो नहीं हैं, उसके बाद कहीं जाकर वह आपको Contact करता है और फिर आप द्वारा Offer किए जा रहे Product के लिए भाव-ताव करना शुरू करता है।

यानी यदि आप 24 घण्‍टे लगातार जागकर प्रति घण्‍टा 20 ईमेल Send करें, तो आपकी Website द्वारा कोई एक व्‍यक्ति आप के Offer को महत्‍व देगा और वो भी कम से कम तब जब उसी Visitor को आपने कम से कम 10 बार तरह-तरह के Offer Send किए हों। यानी जब आप लगातार 10 बार किसी व्‍यक्ति को अलग-अलग समय पर विभिन्‍न तरीकों से ऑफर देंगे, तब वह आपका प्रोडक्‍ट खरीदेगा।

क्‍या काफी है आपके लिए इतना क्‍योंकि यदि आप सबकुछ Free प्राप्‍त करना चाहते हैं, तो 10 दिन में एक Customer मिलेगा आपको और वो भी निश्चित नहीं है कि आपका Customer आपके Blogspot Blog से ही उस Product को खरीदेगा। हो सकता है कि वह आपके Blog से उस Product के विषय में केवल जानकारी ही प्राप्‍त करे, जिसे वह खरीदना चाहता है और खरीदने के लिए वह किसी अन्‍य ज्‍यादा विश्‍वसनीय व्‍यक्ति की Website द्वारा उसी Product का Order कर दे। क्‍योंकि एक Blogspot Blog पर आप Shopping Cart Attach नहीं कर सकते न ही एक उपयुक्‍त Order System लगा सकते हैं, जिसका प्रयोग करके आपका Visitor आपके Blogspot Blog द्वारा Order कर सके। ऐसे में निश्चित रूप से Buying के Mood में आया हुआ आपका Visitor किसी अन्‍य Website Owner की Website पर Order Place कर देगा, क्‍योंकि आपके Blogspot Blog पर वे सुविधाऐं ही नहीं हो सकतीं, जिनकी जरूरत एक E-commerce Customer को होती है।

यहां तक कि आपके Blogspot Blog का जो नाम होता है, वह भी एक Sub-Domain होता है, जो कि Google के Blogger System द्वारा आपको दिया जाता है और Sub-Domain को कोई भी Customer महत्‍व नहीं देता। क्‍योंकि Sub-Domain की अपनी स्‍वयं की कोई Market Value, कोई Brand या कोई Identity नहीं होती और जब तक आपकी अपनी स्‍वयं की कोई Identity ही नहीं होती, तो लोग आप पर विश्‍वास भी नहीं करते और आप द्वारा Offer किए जा रहे Product को भी आपके Visitor किसी दूसरी Website से खरीद लेते हैं।

आप कहेंगे कि आप Blogspot Blog के साथ अपना स्‍वयं का Domain Associate कर सकते हैं, क्‍योंकि Blogger ऐसा करने की सुविधा देता है। तो कृपया ऐसा मत कीजिएगा, नहीं तो भविष्‍य में बहुत पछताऐंगे क्‍योंकि कभी न कभी तो आपको Blogger छोडकर अपने स्‍वयं के Paid Hosting Account पर Move होना ही होगा और जब आप Google के Blogspot Platform को छोडकर अपने स्‍वयं के Paid Hosting पर Move करेंगे, तो उस स्थिति में आपको Google के Negative Impression को भी Face करना पडेगा।

यानी Google आपके Blog की Page Rank Decrease कर देगा और भविष्‍य में शायद कभी भी आपके Website की Page Rank को Increase न करने के लिए Block कर देगा, जिसकी वजह से Google से आने वाला आपका Search Traffic धीरे-धीरे कम होने लगेगा और जितना Traffic आपको Blogspot पर मिल रहा था, उतना Traffic प्राप्‍त करने के लिए आपको बहुत सारे Alternative तरीके Use करने पडेंगे।

आप कहेंगे कि Google ऐसा क्‍यों करेगा?

तो जवाब ये है कि Google ने आपकी सुविधा के लिए Blogger Blogspot Platform को Launch नहीं किया है बल्कि खुद कमाने के लिए Blogger बनाया है, ताकि पहले आप मुफ्त के चक्‍कर में Blogspot पर मेहनत करके अपना Blog Establish करें और जब आपका Blogspot Blog काफी Famous हो जाए, उसके बाद आप Google से ही Domain व वह Hosting खरीदें, ताकि उसकी Income Increase हो, जबकि Server Side Code पर आपका तब भी कोई Control नहीं रहता, जब आप Google से खरीदी गई अपनी Paid Hosting पर अपने Blogspot Blog को Host करते हैं।

इतना ही नहीं, मूल रूप से कुल 5 तरीके होते हैं, Online Earning करने के, लेकिन Blogspot Blog पर आप किसी भी तरीके को ठीक से Use नहीं कर सकते क्‍योंकि Blogspot Blog पर आपका कोई Control नहीं होता, इसलिए यदि आप Paid Hosting Use नहीं करते, तो Google का Computer Program किसी भी दिन आपके Blogspot Blog को Close कर देगा और आप अपने Blog को फिर से Start करवाने के लिए कुछ नहीं कर सकते क्‍योंकि Google के लिए आपके Blog की कोई Value नहीं है और न ही Google के किसी Employee के पास आपका Blog फिर से Activate करने का समय है, न ही जरूरत, क्‍योंकि उन्‍हें आपके Blog से किसी भी प्रकार का Direct या Indirect Income प्राप्‍त नहीं हो रहा है।

सरल शब्‍दों में कहें तो ‘Blogspot का Blog यानी पिंजरे का शेर, जो ठीक से मिमिया भी नहीं सकता, दहाडना तो दूर की बात है।

तो फिर करना क्‍या चाहिए, ताकि एक हिन्‍दी भाषी Website द्वारा भी Online कमाया जा सके?

जवाब बिलकुल आसान है: मुफ्त का लालच छोडिऐ और थोडा खर्च करने की मानि‍सकता बनाईए। क्‍योंकि बिना खर्च किए हुए तो आप Online नहीं कमा सकते। कम से कम उतना तो किसी भी हालत में नहीं कमा सकते, जितना वास्‍तव में आपको अपनी Website/Blog द्वारा कमाना चाहिए या जितना आप अपनी Paid Hosting वाली Website से कमा सकते हैं।

और हां, आपको कोई लाखों रूपए खर्च करने की जरूरत नहीं है Online Earning करने के लिए। मात्र लगभग 250/- रूपए प्रतिमाह का खर्च यदि आप कर सकते हैं, तो आप Online Earning के पहली व सबसे महत्‍वपूर्ण जरूरत को पूरा कर सकते हैं और यदि आपको 250/- रूपए प्रतिमाह भी बहुत ज्‍यादा लगता है, तो इसका सीधा-साधा मतलब यही है कि आप नौकरी वाली मानसिकता के व्‍यक्ति हैं और नौकरी वाली मानसिकता के लोग कभी Business में सफल नहीं होते। क्‍योंकि Online Earning वास्‍तव में एक प्रकार के Online Business के समान ही होती है और जब आप 250/- रूपए प्रतिमाह जैसे मामूली सा Investment करते हुए भी अपने Online Business को Establish करने से घबरा रहे हैं, तो फिर भूल जाईए Online Earning के विषय में और लगे रहिए अपने Blogspot के साथ जिंदगी भर।

किस बात के लिए खर्च करना है आपको 250/- रूपए प्रतिमाह?

नहीं। मुझे नहीं चाहिए आपका 250/- रूपए प्रतिमाह। मैं तो आपको मुफ्त की जानकारी ही दे रहा हूं जो कि आप पढ रहे हैं इस Website पर। 250/- रूपए प्रतिमाह चाहिए आपको अपनी स्‍वयं की Online Presence के लिए, अपनी स्‍वयं की पहचान के लिए, अपने स्‍वयं के Brand के लिए यानी आपके स्‍वयं के Personal DOMAIN + HOSTING के लिए, ताकि आपकी Website पर पूरा Control रहे आपका और सिर्फ आपका।

जब एक बार आप अपना स्‍वयं का DOMAIN + HOSTING खरीद लेते हैं, तो आपकी Website के Frontend व Backend दोनों पर आपका स्‍वयं का पूरा Control होता है। आप अपनी इच्‍छानुसार स्‍वयं अपनी Website के Theme को Modify कर सकते हैं और अपनी Website के Look and Feel को Control कर सकते हैं, जो कि Blogger जैसे Free Blog के साथ पूरी तरह से सम्‍भव नहीं है और हां, Blogspot Blog को Manage करने की तुलना में कई गुना ज्‍यादा आसान तरीके से आप WordPress Blog को Manage व Maintain कर सकते हैं, जबकि आपको उतने भी Technical Knowledge की जरूरत नहीं है एक WordPress Blog को Manage करने के लिए, जितने की जरूरत आपको एक Blogspot Blog को Manage करने के लिए होती है, जबकि WordPress नाम का दुनियां में सबसे ज्‍यादा Use किया जाने वाला Best Blogging Software भी पूरी तरह से Free है, जिसके लिए आपको किसी प्रकार का कोई Payment नहीं करना पडता।

जब आप अपना स्‍वयं का Domain + Paid Hosting पर अपने Blog/Website को Maintain करते हैं, तब आप हर वो काम कर सकते हैं, जिसकी जरूरत अपनी Online Earning को Increase करने के लिए होती है, जिनमें से अपने Visitors की Email Capturing सबसे महत्‍वपूर्ण है। क्‍योंकि पूर्ण Control वाली अपनी Website पर आप कई तरीकों का प्रयोग करते हुए अपने Visitor के Email Address को Capture कर सकते हैं, जो कि आपके Online Business की Online Earning का मूल आधार होता है और जितने ज्‍यादा Registered Visitors आपके पास होते हैं, आपकी Online Income भी उतनी ही ज्‍यादा होता है।

क्‍योंकि Online Marketing World में एक कहावत काफी मशहूर है कि “Money is in the List” यानी पैसा आपके Subscribers की List में हैं। आपके Registered Visitors की List जितनी बडी होती है, आपके Online Earning की सम्‍भावना व मात्रा भी उतनी ही ज्‍यादा होती है।

फिर भी एक सामान्‍य अंदाजे के अनुसार प्रति Registered Visitor द्वारा आप भारत में औसतन 5 रूपए प्रतिमाह जबकि International Visitor होने की स्थिति में औसतन $0.5 प्रतिमाह कमा सकते हैं, जो कि लगभग 30/- रूपए के बराबर होता है।

यानी यदि आपकी Website पर 1000 भारतीय लोग रजिस्‍टर्ड हैं, तो भारत में आप प्रति व्‍यक्ति 5 रूपए के अनुसार अपनी वेबसाईट द्वारा कम से कम 5000 रूपए प्रतिमाह कमा सकते हैं जबकि यदि आपके पास International Registered Visitors की संख्‍या 1000 हो, तो आप कम से कम 20 से 30 रूपए प्रति Registered Visitor प्रति माह के औसत से Online Earning कर सकते हैं, क्‍योंकि International Visitors द्वारा Generate होने वाली Earning Dollars में होती है, जो कि भारतीय रूपए से लगभग 60 गुना ज्‍यादा है।

उदाहरण के लिए BccFalna.com पर कुल FeedBurner Registered Users की संख्‍या वर्तमान में 3500 से ज्‍यादा है और ये Website प्रतिमाह औसतन 20,000/- रूपए Online Revenue के रूप में Generate करता है, क्‍योंकि इस Website पर लगभग 99 प्रतिशत Registered Visitors भारतीय हैं।

इस Website पर आप Online Earning करने से सम्‍बंधित जितने भी Articles पढेंगे, वे सभी पूरी तरह से Self Hosted Website के लिए ही उपयोगी होंगे। इसलिए यदि आप वास्‍तव में Online Earning करना चाहते हैं, तो अपना स्‍वयं का Personal DOMAIN + HOSTINGखरीदिए, ताकि Online Earning से सम्‍बंधित हर उस Tool को आप अपनी Website के लिए भी Use कर सकें, जिन्‍हें हम स्‍वयं Online Earning करने के लिए अपनी Website पर उपयोग में लेते हैं।

जबकि यदि आप अपना स्‍वयं का Personal DOMAIN + HOSTINGPurchase नहीं करते, तो फिर इस Website पर दी जाने वाली Online Earning से सम्‍बंधित जानकारियां आपके लिए कुछ विशेष उपयोगी साबित नहीं होंगी, हालांकि Online Earning से सम्‍बंधित जानकारियां हिन्‍दी भाषा में पढकर व अन्‍य लोगों को Online Earning करता हुआ देखकर आप Enjoy जरूर कर सकते हैं, लेकिन कमा नहीं सकते।

अब एक और महत्‍वपूर्ण बात जो कि कहनी जरूरी है कि जब सामान्‍यत: हम Blogger Platform छोडकर Paid Hosting पर Move करने के लिए मानसिक रूप से तैयार होते हैं, तो फिर से वही पुरानी भारतीय मानसिकता काम करने लगती है और हम सबसे सस्‍ता Hosting Provider खोजने की तैयारी में लग जाते हैं, जिसका नुकसान हमें बाद में Direct या Indirect Income Loss के रूप में उठाना पडता है।

Blogger से दु:खी होकर जब मैंने अपनी Website को Paid Hosting पर Move किया था, तब मैंने भी यही गलती की थी, यानी सबसे सस्‍ते Hosting Provider या अन्‍य शब्‍दों में कहूं तो घटिया Reseller Hosting Provider पर Move किया था और Directly व Indirectly काफी आर्थिक नुकसान व मानसिक परेशानी उठाने के बाद अन्‍त में थोडे महंगे लेकिन ढंग के Hosting Provider की Service Purchase की, जिसे मैं Currently Use कर रहा हूं।

इसलिए यदि आप भी ये गलती न दोहराऐं, यानी सस्‍ते के चक्‍कर में न पडें, तो मेरे खयाल से बेहतर ही होगा क्‍योंकि एक कहावत है:

महंगा रोवे एक बार, सस्‍ता रोवे बार-बार

और निश्चित रूप ये ये कहावत बिल्‍कुल सही भी है, जिसका अनुभव आपको भी कभी न कभी अपनी जिन्‍दगी में भी जरूर प्राप्‍त हुआ ही होगा। इसलिए एक बार महंगे को ही रो लीजिए, ताकि बार-बार सस्‍ते को न रोना पडे।

वर्तमान समय में हजारों Hosting Providers Paid Hosting Service Provide करते हैं, जिनमें से BlueHost, HostGator, FatCow, JustHost, HostMonstor, iPage, InMotion, BigRock, 1&1 काफी मशहूर व बडी Domain + Hosting Provider Companies हैं और ज्‍यादातर लोग इन्‍हीं से Domain + Hosting खरीदते हैं। आप अपनी इच्छानुसार इन विभिन्‍न Hosting Providers के विभिन्‍न Hosting Plans को Check कर सकते हैं और जो भी Plan आपको अपनी Website के लिए बेहतर लगे, उसे खरीद सकते हैं।

लेकिन यदि आप विभिन्‍न कम्‍पनीयों के विभिन्‍न Hosting Plans में से अपने लिए उपयुक्‍त Hosting Provider का चुनाव नहीं कर पा रहे हैं, तो आप भी उसी Hosting Provider को Use कर सकते हैं, जिसे मैं BccFalna.com के लिए Use कर रहा हूं। इस Hosting Provider को मैंने काफी Research करने के बाद Select व Purchase किया है और मेरी नजर में ये काफी बेहतर Hosting Provider है BlueHost, HostGator, FatCow, JustHost, HostMonstor, iPage, InMotion, BigRock, 1&1 आदि महंगे Web Hosting Providers की तुलना में, जिसके विषय में मैं किसी अन्‍य Article में Detail से Discuss करूंगा।

जब आप Paid Hosting खरीदते हैं, तब आप Bandwidth व Storage Space को महत्‍व देने के स्‍थान पर Email Sending Limit पर ध्‍यान दें, तो बेहतर रहेगा क्‍योंकि हालांकि इनमें से ज्‍यादातर Hosting Providers काफी महंगे होने के बाद भी इनकी Email Sending Limit काफी कम है, जो कि 50 Emails प्रति घण्‍टा से 300 Emails प्रति घण्‍टा तक है और Email Sending Limit के आधार पर ही इनके Packages की Price भी बढती जाती है।

जबकि एक Online Business से Earning करने का सबसे बेहतर तरीका यही है कि अपने Visitors को लगातार उपयोगी जानकारियां व Product Offers दिए जाऐं, ताकि आपका Visitor आपके Customer में Convert हो सके और ऐसा तभी किया जा सकता है, जबकि आप कम से कम समय में ज्‍यादा से ज्‍यादा Registered Subscribers को Emails Send कर सकें।

इसीलिए जिस Hosting Provider की Hosting को मैं BccFalna.com के लिए Use कर रहा हूं, वह Hosting Provider मुझे लगभग $3.29 यानी लगभग 200/- रूपए प्रतिमाह के Basic Plan में भी 500 Emails प्रति घण्‍टा यानी प्रतिदिन अधिकतम 12000 Emails Send करने की सुविधा देता है, जो कि इतने कम कीमत पर इतने Emails Send करने की सुविधा कोई भी अन्‍य Paid Hosting Provider Provide नहीं करता।

वर्तमान समय में मेरे पास लगभग 10000 Registered Users हैं, जिन्‍हें मैं प्रतिदिन अपना हर Article Email के माध्‍यम से Send कर सकता हूं और इन्‍हीं 10K लोगों में से लगभग 1000 लोग मेरे Offer में Interested होते हैं, जिनमें से लगभग 10 लोग मेरी हिन्‍दी पुस्‍तकें खरीदने के लिए Order करते हैं और प्रतिदिन औसतन 2 से 4 लोग कोई न कोई Hindi Ebook खरीदते हैं। जबकि औसतन प्रति Ebook मुझे 250 रूपए की Income होती है।

यानी प्रतिदिन 500 से 1000 रूपए के बीच Selling होती है, क्‍योंकि मैं Blogspot जैसी किसी Free Service व किसी सस्‍ते Reseller Hosting Plan पर अपनी Website को Host नहीं करता, बल्कि थोडा पैसा खर्च करके अपने Online Business के विकास के लिए हर वो काम करता हूं, जो Online Earning के जरूरी होता है और Blogspot जैसे Free Host द्वारा किया जाना सम्‍भव नहीं होता।

तो, इस पूरे Article का सारांश ये है कि ‘हां, हिन्‍दी Website/Blog से भी अच्‍छा Online Income किया जा सकता है’, लेकिन केवल उस स्थिति में, जबकि हम हमारी Website को एक Online Shop की तरह, एक Online Business की तरह Treat करें और Online World में अपनी स्‍वयं की Identity व अपना स्‍वयं का Brand Establish करें और ऐसा करने के लिए सबसे पहली जरूरत है, Blogspot जैसे Free व सस्‍ते Reseller Hosting Plan जैसी घटिया Services को छोडकर थोडा Paid Services में Invest करें, क्‍योंकि Paid Services हमेंशा Free की तुलना में ज्‍यादा बेहतर Result Generate करती हैं और अपने Online Business को Establish करने के लिए पूर्ण आजादी देती हैं।

और Online Earning से सम्‍बंधित एक अन्तिम लेकिन सबसे महत्‍वपूर्ण बात जो कि मैं इसी एक Article में दुबारा कह रहा हूं कि “Money is in the List” इसलिए जितने ज्‍यादा हो सके, उतने ज्‍यादा Visitors के Email Capture करो और अपने हर Visitor को Emails के माध्‍यम से अपने हर नए व उपयोगी Post की जानकारी दो, क्‍योंकि वे Registered Visitors ही Repeat Visitor बनते हैं और Repeat Visitor ही Customers में Convert होते हैं।

इसलिए अपना पूरा ध्‍यान अपनी Subscribers की List बढाने पर दो जो कि आपकी Online Earning का आधार हैं और इन Registered Visitors को Customers में किस प्रकार से Convert किया जाता है, जिससे आपकी Online Earning Increase हो सके, इस विषय में किसी अन्‍य Article में बात करेंगे। (ओनलाइन कमाई – ओनलाइन नौकरी)

How to Start a Blog for Free Just in 10 Minutes

Comments

  1. sujit kr. prasad says:

    thank you sir itna important jankari share karne ke liye

  2. jayecommbusy says:

    great work…& important information…

  3. sanjeev kumar singh says:

    but aap ne jo ebooks banayi hai vo kaise kare jaise mai kisis aur cheej ki ebook banana chahta hu.

  4. hum apni website ko bigrock jaise company ke badle direct register kar sakte he.
    jo ki bigrock jaise company se sasta bhi padega aur us par hamara full control bhi rahega, na ki bigrock company ka.

    • I still not able to understand “What exactly you want to SAY by DIRECT REGISTER.

      Either you host your website on BigRock or where I am Hosting My Site, you will sure need two things: DOMAIN and HOSTING and as I know, there is no any other way to put your Website Online other then you start your own WEB SERVER on a Powerful MINI or Mainframe Computer with High Speed Network Connection.

      Plus you will have to not only manage your Own Web Server, you also need to setup a MAIL SERVER too so that you can send and Receive EMails and all these things are not POSSIBLE without a STATIC IP ADDRESS. and if you BUY a STATIC IP Address, what you are doing other then REGISTERING your own SITE with your ISP Provider?

      Then What is DIRECT REGISTERING?

      If that is possible, I would sure like to know about it in DETAIL about what exactly you want to say with “DIRECT REGISTER” What it means?

      Plus, whenever you put your Site on a HOSTING PROVIDER’s SERVER, you have total Control on your Website and Domain, because you can do whatever you want to do with your SITE but when you host your BLOG on Blogger.com or WordPress.com, you don’t have any Server Side Coding Control.

  5. dear sir,
    kya hum direct apni website registered nahi karva sakte hai aur usse business kar sakte hai?

    • Neeraj, मुझे आपका सवाल ही ठीक से समझ में नहीं आया। अगर आप अपनी Website बनाना चाहते हैं, तो निश्चित रूप से आपको अपना Personal Domain + Paid Hosting Purchase करना ही पडेगा और इन्‍हें Purchase करने का मतलब यही है कि आपने अपनी Website को Register किया है।

  6. Sir
    Very-Very Nice, Informative and Knowledgeable Articles and Please continue to work on these articles of Ways of Online Earnings.

    One more thing about your article which makes you different than other website’s articles is that I understand your article 99% more then others.

    So Thank you so much, for these all articles and I wish, you will continue working on these articles.

    Thanks again.

  7. Jagesh pal says:

    It’s a really mindblowing… Gazab ka artical h.. Hamare jaise youth ke liye inspirational se kam ni h..

Leave a Comment

*

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।