Java Programming Language सीखिए Step by Step आसान Tutorial के माध्‍यम से।

What is Java Programming Language

आज हम देख सकते हैं Internet व Mobiles का कितना विस्तार हो चुका है। आज Internet इतना बढ चुका है कि दुनिया की जो भी जानकारी चाहिए, Internet पर उस जानकारी को प्राप्त किया जा सकता है। आज इस Internet की वजह से दुनिया बिल्कुल छोटी सी हो गई है। हम जब चाहें जिससे चाहें बात कर सकते हैं या Online Meeting कर सकते हैं। दुनिया की लगभग सारी चीजें आज Internet से जुडी हुई हैं। Internet पर आज हम केवल Texts ही नहीं पूरे Multimedia को देखते हैं, जिसमें Sound, Video, Animation, Graphics आदि जो कुछ भी हो सकता है, सब है। Click the Title to read more…

What are the Features of Java Language

Java केवल एक Programming Language ही नहीं है बल्कि ये एक Platform भी है। जब Sun Microsystems ने November 1995 में Java को दुनिया से परिचित करवाया तब Company के Cofounder Bill Joy ने Java की निम्न परिभाषा दी थी कि:  Click the Title to read more…

How the Java Program Works

जब Java के किसी Program को Compile किया जाता है तब Java का Program पूरी तरह से Machine Language में Convert नहीं होता है बल्कि एक Intermediate Language में Convert होता है, जिसे Java Bytecodes कहा जाता है। ये Codes Platform Independent होते हैं, इसलिए इन्हें किसी भी Operating System व किसी भी Processor पर चलाया जा सकता है। Java के Program की Compilation केवल एक ही बार होती है लेकिन जितनी बार भी Java के Program को चलाया जाता है, हर बार उस Program का Interpretation होता है।  Click the Title to read more…

What are the Basics of Java Programming

Computer Program एक तरीका है जो Computer को ये बताता है कि उसे कब और क्या करना है। Computer के Boot होने से लेकर Shut Down होने तक जो भी कुछ होता है, किसी ना किसी Program की वजह से होता है। MS-Word एक Program है, Norton Antivirus एक Program है, DOS Prompt पर लिखा जाने वाला हर Command एक Program है, यहां तक कि विभिन्न प्रकार के Computer Viruses भी एक Program हैं। Click the Title to read more…

What is Procedural Programming Language

Pascal, C, Basic, Fortran जैसी पारम्परिक भाषाएं Procedural Languages के उदाहरण हैं, जिसमें प्रत्येक Statement Computer को कुछ करने का आदेश देता है। यानी Procedural Language Program Instructionsका एक समूह होता है। Procedural Languages में छोटे Programs के लिये किसी भी अन्य प्रकार के Pattern की आवश्‍यकता नही होती है। Programmer Instructions की List बनाता है और Computer उनके अनुसार काम करता है। Click the Title to read more…

What are Object Oriented Programming Concepts in Java

Object Oriented Language का मूलभूत विचार ये है कि जिस समस्या का समाधान Computer पर प्राप्त करना है उस समस्या के मूल Data और उस Data पर काम करने वाले Functions को Combine करके एक Unit के रूप में ले लिया जाता है। इस Unit को Object कहा जाता है। Click the Title to read more…

What are Differences between C++ and Java Programming Language

वास्तव में Java “C” व “C++” का ही Modified रूप है। चूंकि आज भी ज्यादातर Professional लोग बडे Projects के लिए “C++” को ही चुनते हैं, इसलिए ये जानना जरूरी है कि Java में “C++” की किन विशेषताओं को लिया गया है और किन चीजों को छोडा गया है जो सामान्य Programmer को परेशान करती हैं। Click the Title to read more…

What is the Compiler and Interpreter Difference in Java

Java Compiler (Javac) Java Developer’s Kit का एक Component है, जिसका प्रयोग Java की Source Code File को Bytecodes Executable File में Convert करने के लिए किया जाता है, ताकि वह File Java Runtime Environment (JRE) System में Run हो सके। Java की Source Code File का Extension .java होता है। Java की Source Code File एक Standard ASCII Text File होती है। ये Java के Compiler का काम होता है कि वह Java Source Code File को Process करे और Executable Java Bytecodes Class File Create करे। Executable Bytecodes Class File का Extension .class होता है और ये अपनी Useable Form में Java Class को Represent करते हैं। Click the Title to read more…

What is the Difference between Application and Applet in Java

जावा में हम दो तरह के Programs Develop कर सकते हैं। पहले Program वे Program होते हैं जो किसी एक Computer पर Execute होते हैं और किसी समस्या का समाधान प्रदान करते हैं। ये Programs जिस Computer पर Store होते हैं उसी Computer पर Run होते हैं और उस Computer के Resources को Use करते हैं। इस प्रकार के Programs को Application Programs कहते हैं। Click the Title to read more…

What are the Different Parts of Java Program

किसी जावा के Program में हम आवश्‍यकतानुसार एक से अधिक Classes को Define कर सकते हैं। लेकिन फिर भी हम एक Program में किसी एक Class में ही main() Method को Define कर सकते हैं। विभिन्न Classes में विभिन्न प्रकार के Data और उन Data पर Perform होने वाले Operations को Define किया जाता है। जावा का Program बनाने के लिए हम सबसे पहले विभिन्न प्रकार की Classes बनाते हैं और फिर उन सभी Classes को Combine कर लेते हैं। Click the Title to read more…

How to Make Java Application

किसी भी Language में Programming सीखने के लिए हम सबसे पहले Hello World Program से शुरूआत करते हैं। ये Program कुछ नहीं करता है, केवल Screen पर “Hello World” Message Print करता है, लेकिन इस Program के द्वारा हम Language के Program की Basic चीजों को Clear करते हैं। Click the Title to read more…

How Java Application Programs Flows

हमने Java में एक छोटा सा Program Develop किया और उसे Compile करके Run भी कर लिया। अब हम इसकी बनावट व इसके काम करने के तरीके को समझते हैं। सबसे पहली बात तो यही है कि Java Application Standalone Java Programs होते हैं। इन्हें Java Applets की तरह किसी Java Enabled Web Browser की जरूरत नहीं होती है। Click the Title to read more…

What is Java Applet

जावा Applet Internet Computing में Use किए जाने वाले छोटे-छोटे Programs होते हैं। इन Programs को एक Computer से दूसरे Computer में Internet पर Transport किया जा सकता है और Applet Viewer या किसी Java Enabled Web Browser द्वारा Run किया जा सकता है। Click the Title to read more…

How to Build Applet in Java

Applications व Applets दोनों ही जावा Programs होते हैं, लेकिन दोनों ही प्रकार के Programs में कुछ अन्तर होता है। Applets कभी भी Full Featured Application Programs नहीं होते हैं। सामान्यतया इन्हें किसी छोटे से काम को पूरा करने के लिए लिखा जाता है। चूंकि इन्हें Internet पर Run करने के लिए Design किया गया है, इसलिए इनकी Design की कुछ सीमाएं हैं। Click the Title to read more…

What is the Difference between OOP and OOPS

हम Computer पर जो भी Program बनाते हैं वो Program किसी ना किसी Real Life Problem को Solve करने के लिए बनाते हैं और हर Real World Problem में Real World Objects होते हैं। इस स्थिति में OOPS एक ऐसा Concept है जिसके आधार पर हम विभिन्न प्रकार की Real Life से Related Problems को Solve करने के लिए हमारी समस्या से सम्बंधित विभिन्न Real World के Physical Objects को Computer में Logically Represent कर सकते हैं और उस Real Life से सम्बंधित समस्या को Computer में Logically भी उसी तरह से Solve कर सकते हैं, जिस तरह से उस समस्या को Real World में Physically Solve करते हैं। Click the Title to read more…

What is Abstraction and Encapsulation in Java

किसी भी Real Life Problem को जब हमें Computer पर Logically Represent करना होता है, तो सबसे पहले हमें ये तय करना होता है कि समस्या से सम्बंधित वे जरूरी चीजें कौन-कौन सी हैं, जो समस्या के परिणाम को प्रभावित करती हैं। समस्या के समाधान को प्रभावित करने वाली जरूरी बातों को समस्या के समाधान को प्रभावित ना करने वाली बिना जरूरी बातों से अलग करने की प्रक्रिया को Abstraction कहते हैं। OOPS के इस Concept को हम पिछले उदाहरण द्वारा ही समझने की कोशिश करते हैं। Click the Title to read more…

What is the Object Oriented Concepts Class Definition

अभी तक हमने OOPS के जिन Concepts व Elements को परिभाषित किया है, उनमें से ज्यादातर परिभाषाएं भ्रमित करने वाली व समझ में ना आने वाली हैं। चलिए, हम इन परिभाषाओं को केवल जावा के सम्बंध में ही Apply करने की कोशिश करते हैं। Click the Title to read more…

How to Insert Java Applet in Web Page

जैसाकि हमने पहले भी कहा है कि Applet वे छोटे Programs होते हैं जो किसी Web Page को अधिक Interactive बनाने के लिए Develop किए जाते हैं। Applet को समझने से पहले हम ये समझते हैं कि आखिर Web Pages क्या हैं और इनकी जरूरत क्या है। Click the Title to read more…

What are the Components of Java Applet

किसी Applet को एक Web Page में किस Code द्वारा Embed किया जा सकता है और Web Page को Java Applet का प्रयोग करके किस प्रकार से अधिक Interactive बनाया जा सकता है, इस सम्बंध में थोडी Basic जानकारी लेने के बाद अब हम ये समझेंगे कि Applets को कैसे Develop किया जाता है। साथ ही हम ये भी जानेंगे कि Applets किस प्रकार से काम करते हैं और किस प्रकार से Define किए जाते हैं। यानी हम Applets के Architecture को समझेंगे। Click the Title to read more…

What are the Java Applet Lifecycle Methods

हम जब भी कोई Applet Extend करते हैं, तो Create होने वाले किसी भी Applet की Lifetime के मुख्‍य-मुख्‍य चार Events होते हैं और हर Event से Applet Class का एक Method Associated रहता है। किसी Applet की Life Cycle के चारों Steps को हम चार Methods द्वारा Represent कर सकते हैं।  Click the Title to read more…

How to Create a Working Java Applet Programs Code

किसी Applet में Text को Display करना सबसे सरल काम है। लेकिन Applet Window Based GUI को Support करता है और Window में जो कुछ भी दिखाई देता है, वह सबकुछ Graphical Form में होता है, इसलिए जावा के Graphical Text Function को Use करके Applet में String को Draw करना पडता है। जावा में String को Draw करने के लिए drawString() Method को Generally Use किया जाता है। ये Method awt Package में स्थित Graphics Class का एक हिस्सा है। Package कुछ सम्बंधित प्रकार की Classes के Collection के अलावा और कुछ नहीं होता है।  Click the Title to read more…

What are the Constants and Variables in Java

सभी Programming Languages में यदि कोई चीज Common होती है तो वह यही है कि सभी Programming Languages में Develop किए जाने वाले Programs में Data को Input किया जाता है और उन पर Required Processing Perform करके Output Generate किया जाता है। Click the Title to read more…

What are the Basics of Java Network Programming

जावा की एक सबसे बडी विशेषता ये है कि हम इसमें Network Programming बहुत ही सरलता से कर सकते हैं। Network Programming के अन्तर्गत ऐसे Software बनाए जाते हैं, जो किसी Computer Network जैसे कि Internet या Intranet पर Run होते हैं और Distributed होते हैं। जावा में Network Programming को सरल बनाने के लिए बहुत सारी Classes को Create किया गया है और ये Classes हमें जावा की Class Library के रूप में JDK के साथ प्राप्त होती हैं। हालांकि जावा में Network Programming करना काफी सरल काम होता है, लेकिन फिर भी हमें Network Programming समझने से पहले Network से सम्बंधित कुछ Basic Concepts को ध्यान में रखना जरूरी है। Click the Title to read more…

How Java Networking Programs Works

TCP/IP Internet पर स्थित विभिन्न प्रकार के Computers व Networks के बीच Communication करवाने वाले Communication Protocols का एक समूह होता है। TCP/IP Suite में मुखय रूप से निम्न Protocols होते हैं,

    • User Datagram Protocol (UDP)
    • Internet Control Message Protocol (ICMP)
    • Internet Group Multicast Protocol (IGMP)

ये सभी Protocols मिलकर विभिन्न प्रकार के Hosts के बीच Information Exchange करने के लिए एक Standard Format Define करते हैं। TCP/IP का Implementation लगभग सभी प्रकार के Hardware व Operating System के लिए समान रूप से काम करता है। इसलिए सभी प्रकार के Networks TCP/IP के प्रयोग द्वारा आपस में Connect हो सकते हैं। Click the Title to read more…

What are the Java Networking Classes

URL Class द्वारा Web पर उपलब्ध Resources को उनके Uniform Resource Location का प्रयोग करके काफी आसानी से Access किया जा सकता है। वे Applications व Applets जो कि World Wide Web के Contents को Access करके अपनी किसी जरूरत को पूरा करते हैं, URL Class उन Programs के लिए काफी उपयोगी Class होती है। Click the Title to read more…

How Client Server Architecture Works

एक Network एक या एक से ज्यादा Computers को आपस में Connect करके किसी ऐसे काम को पूरा करता है, जिसे कोई एक अकेला Computer नहीं कर सकता। Business, Government, Education, Hospital आदि कुछ ऐसे स्थान होते हैं, जहां Network Create करके Computers की Power को पूरी तरह से Use किया जाता है। Click the Title to read more…

What is Multithreaded Programming

ज्यादातर Computer Games में Graphics व Sounds का प्रयोग होता है। किसी भी Game में Graphics, Sounds व Score सभी कुछ एक साथ दिखाई देते हैं। मानलो कि Game में सबसे पहले Screen Change हो फिर Score Update हो और अन्त में Music सुनाई दे, तो Game कैसा लगेगा। जाहिर सी बात है कि ऐसा होने पर हमें Game अच्छा नहीं लगेगा। किसी भी Game के ये हिस्से एक साथ Process होते हैं। दूसरे शब्दों में कहें, तो एक Program तीन Sub-Programs में Divided है, और हर Sub Program को एक Thread द्वारा Handle किया जाता है। Click the Title to read more…

How to do Event Driven Programming in Java

मानलो कि हम सुबह-सुबह जैसे ही Office जाने के लिए घर से बाहर निकलने वाले होते ही हैं कि तुरन्त Phone की घण्टी बजने लगती है। Phone की घण्टी का बजना एक प्रकार का Event है। Real Life में कई बार ऐसे Events होते हैं, जिन्हें बाकी सभी कामों को Suspend करके तुरन्त Respond करना पडता है। Click the Title to read more…

ये सारे Articles हमारी पुस्‍तक Java Programming Language in Hindi से लिए गए हैं और यदि आपने इन सभी Articles को पढा है, तो आप आसानी से समझ सकते हैं कि विभिन्‍न Articles कितनी सरल भाषा में विभिन्‍न Programming Concepts को Clear कर रहे हैं। यदि आपको इन Articles  से Programming Concepts समझने में मदद मिलती है, तो निश्चित रूप से आपको ये पुस्‍तक न केवल विभिन्‍न प्रकार के Programming Concepts को समझने में बहुत मदद करेगी बल्कि आपको Professional Development की बारीकियों का भी पता चलेगा।

इस पुस्‍तक की सबसे बडी विशेषता यही है कि इस पुस्‍तक को एक निश्चित क्रम में लिखा गया है। यानी किस Chapter को Clear करने के बाद किसी दूसरे Related Chapter पर Move करना चाहिए, इस बात पर विशेष ध्‍यान दिया गया है, क्‍योंकि ज्‍यादातर Programming Related Books में इस बात पर कोई ध्‍यान नहीं दिया जाता, जबकि किसी भी Programming Language को तेजी से सीखने के लिए ये जरूरी होता है कि उसमें लिखे गए Contents एक निश्चित Sequence में हों, ताकि विभिन्‍न Concepts को आसानी से समझा जा सके। क्‍योंकि किसी भी Programming Language के विभिन्‍न Programming Concepts काफी गहराई से एक दूसरे के साथ Connected यानी जुडे हुए रहते हैं और यदि उनके बीच एक व्‍यवस्थित तारतम्‍य न हो, तो उस Programming Language को ठीक से समझा या समझाया नहीं जा सकता।

ये पुस्‍तक किसी अन्‍य अंग्रेजी भाषी पुस्‍तक का Hindi Translation मात्र नहीं है, बल्कि लम्‍बे समय तब सैकडों Students की Coaching करवाने यानी सैकडों Students को Programming सिखाने के बाद इस पुस्‍तक को लिखा गया है, जिसमें किसी Programming Language को तेजी से सीखने व सिखाने के लिए जरूरी सभी बातों को सम्मिलित किया गया है, जिसके अन्‍तर्गत विभिन्‍न प्रकार के Real Life Practical Examples, चित्र, Programming Related Chapters व Concepts का क्रम आदि विभिन्‍न बातों को ध्‍यान में रखा गया है, ताकि आप ज्‍यादा से ज्‍यादा तेज गति व गहराई के साथ इस Programming Language को सीख सकें।

इतना ही नहीं, यदि ये पुस्‍तक खरीदने के बाद भी आपको कोई Programming Concept समझने में परेशानी आती है, तो आप हमसे Online Chatting, Email, Phone Call बादि विभिन्‍न तरीकों से Contact करके अपनी समस्‍याओं का समाधान प्राप्‍त कर सकते हैं। यानी Book Sell करने के बाद भी हम हमारे Customers की Care करते हैं, जो कि किसी भी अन्‍य Book Publisher द्वारा नहीं किया जाता।

तो इन्‍तजार मत कीजिए। ये पुस्‍तक निश्चित रूप से आपके Programming Knowledge व Programming Quality को बढाने में आपकी मदद करेगी। अभी इस पुस्‍तक का Order कीजिए और अपने Programming Career की मजबूत नींव तैयार कीजिए। क्‍योंकि जिनकी C Language पर अच्‍छी पकड नहीं है, वे कभी अच्‍छे Programmer नहीं बन सकते।

Related articles...

ये Article "Java Programming Language in Hindi" पुस्‍तक से लिया गया है।

Java Programming Language in Hindiइसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। यदि आप चाहें तो इस पुस्तक को खरीद भी सकते हैं अथवा DEMO EBOOK के रूप में इस पुस्तक के कुछ CHAPTERS Download करके पढ सकते हैं।

Java Programming Language in Hindi | Page: 682 | Format: PDF
ORDER NOWDOWNLOAD

Follow to Get Latest Updates On

Register करके Login कीजिए और इस Popup से छुटकारा पाईए।