Data and Data Type – The Min-Max Limits

Data and Data Type: हम हमारे जीवन में विभिन्न प्रकार के Data Use करते हैं। यदि ध्यान से देखा जाए, तो मुख्‍य रूप से कुल तीन प्रकार के ही Data हो सकते हैं, जिन्हें हम Use करते हैं। या तो हम पूर्णांक संख्‍याओं के रूप में किसी Data को Represent करते हैं, या किसी दसमलव वाली संख्‍या के रूप में अथवा Character के रूप में। ठीक इसी Concept को ही Computer Programming Language में भी Use किया गया है।

C++ का Compiler भी हम इन तीन प्रकार के Basic Data Type प्रदान करता है। इनमें एक Data Type Character को Represent करता है। दूसरा Integer प्रकार का Data Type है, जिसे तीन अलग-अलग प्रकार के Data Type में विभाजित किया गया है और इसी तरह से दसमलव वाली संख्‍याओं को Represent करने वाला Float प्रकार का Data Type है, जिसे तीन अन्य अन्य Real Numbers या Floating Point Numbers को Represent करने वाले Data Type में विभाजित किया गया है। इन्हें  C++ में और भी कई भागों में विभाजित किया गया है, ताकि Data को विभिन्न तरीकों से Represent किया जा सके। इसे निम्नानुसार दर्शाया जा सकता हैः

Type Name                Used to Store             Examples of Values Stored
char              Characters‘a’, ‘B’, ‘$’, ‘3’, ‘?’
short Small whole numbers7, 30,000, -222
intNormal-sized whole numbers(same as short or same as long)
longLarge whole numbers1,000,000,000, -123,456,789
floatSmall real numbers3.7, 199.99, -16.2, 0.000125
doubleLarge real numbers7,553.393.95,47, -0.048512934
long doubleExtra-large real numbers 9,123,456,789,012,345.666

चलिए, अब हरेक को समझते हैं। जब हमें Memory में Characters को Store करने के लिए Space बनाना होता है, तब हम निम्न Statement द्वारा Character प्रकार का Variable Declare करते हैं:

char character;1

ये Statement Memory में एक Character Store करने के लिए 1 Byte की Memory Reserve करता है और उसका नाम Character1 रख देता है। अब यदि हमें इस Variable में कोई Character Store करना हो, तो हम निम्न Statement लिखते हैं :

character1 = ‘A’;

Character को हमेंशा Single Quote में लिखते हैं। जैसे ‘A’, ‘x’, ‘%’ आदि।

Assignment Operator ( = )

= के चिन्ह के Right Side में जो मान होता है उसे Compiler = चिन्ह के Left Side के Variable में Store कर देता है। जैसाकि ऊपर बताए गए Statement में character1 में A को Assign किया गया है। ये Statement Execute होने के बाद Variable Character1 में ‘A’ Store हो जाता है। = चिन्ह को Assignment Operator कहा जाता है क्योंकि ये Operator इसके Right Side के मान को Left Side के Variable में Store कर देता है। Computer की Memory में वास्तव में सभी Characters Integer के रूप में Store होते हैं जिसे Computer समझता है। ASCII Codes का प्रयोग Characters को Integer में Convert करने के लिए होता है। जैसे ‘A’ का ASCII Code 65 है, ‘B’ का 66 आदि।

Escape Sequences

C++ में कुछ Special Characters होते हैं जो विशेष काम करते हैं। इन्हें Back Slash के बाद लिखा जाता है। इन्हें Escape Sequence Characters कहा जाता है। ये Special Characters निम्नानुसार हैं :

Escape Sequence Character Represented
‘n’इसे New Line Character Constant कहते हैं। ये हमारे Program में नई Line देता है।
‘t’ये Tab Space प्रदान करता है।
‘b’ ये Backspace देता है।
‘r’Carriage Return यानी Cursor को Line की शुरूआत में रख देता है। जब भी हम Enter Key Press करते हैं, ये Escape Character Generate होता है।

Character प्रकार के Variables का प्रयोग अक्सर छोटी संख्‍याएं Store करने के लिए भी होता है। जैसे

Character1 = 60;

चूंकि Character प्रकार के Variable की Size केवल 1 byte या 8 Bit की होती है, इसलिए यदि संख्‍या बिना चिन्ह की यानी unsigned हो तो इसमें अधिकतम –128 से +127 तक की संख्‍या ही Store हो सकती है। जब हमें बहुत ही छोटे मान के साथ काम करना होता है, तब हम इस प्रकार के Data Type का प्रयोग करते हैं। (Data and Data Type)

Message Passing System
Types and Limits of Integer

CPP Programming Language in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook C++ Programming Language in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

C++ Programming Language in Hindi | Page: 666 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All EBooks

सभी हिन्दी EBooks के DEMO DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।