What is Data Dictionary in DBMS? You must know it.

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Data Dictionary in DBMS: हर DBMS में एक Data Dictionary या Catalog होता है। Relational Database का Structure इसी Catalog या Data Dictionary में Store होता है। Data Dictionary Relations के समूह से बनी होती है और हमारे Database के सभी Elements इस Data Dictionary Relation में उसी तरह से Store होते हैं, जिस तरह से एक Entity के Relation में विभिन्न Data Store होते हैं। यानी Data Dictionary Relation में Database के सभी Relations Data की तरह Store होते हैं।

हम Data Dictionary Relation की भी उन्हीं Tools का प्रयोग करके Query कर सकते हैं, जिन Tools का प्रयोग करके किसी सामान्य Relation की Query करते हैं। कोई भी User, Data Dictionary Tables को Directly Modify नहीं कर सकता है। फिर भी जिन Data Manipulation Language Commands (SQL Commands) का प्रयोग हम Database के Elements को Create व Destroy करने के लिए करते हैं, उन्हीं Commands का प्रयोग हम Data Dictionary Tables के Rows को Modify करने के लिए भी कर सकते हैं। हमें Data Dictionary में निम्न प्रकार की Information प्राप्त होती हैं:

  • हर Table को Create करने वाले Columns की Definitions की Information
  • Relations पर Apply किए गए Integrity Constraints की Information
  • Security Information जो ये बताती है कि कौनसा User किस Table पर किस प्रकार के Operations को Perform कर सकता है।
  • Database Structure Elements जैसे कि View व अन्य User Defined Domains की Information

User जब भी किसी भी तरीके से Data को Access करने की कोशिश करता है, Relational DBMS सबसे पहले Data Dictionary में ये तय करने के लिए जाता है कि User ने जिस Database Elements की Request की है, क्या वास्तव में वे Elements Database Schema का हिस्सा हैं अथवा नहीं। साथ ही DBMS ये भी Verify करता है कि क्या User को उस जानकारी को प्राप्त करने का अधिकार है, जिसके लिए उसने Request किया है।

जब User Database के किसी Data को Modify करना चाहता है, तब भी DBMS Data Dictionary में जाता है और उन Integrity Constraints को Check करता है, जिन्हें उन Relation पर Place किया गया हो सकता है। यदि DBMS का Data के साथ Constraint Match हो जाता है, और DBMS को लगता है कि User एक Legal Operation कर रहा है, तो DBMS उस User की Request को पूरा करता है और Database के किसी Relation के Data को Modify करने की Permission दे देता है।

लेकिन यदि User Data के साथ Apply किए गए Constraint की जरूरत को पूरा नहीं करता है, तो DBMS User को एक Error Message देता है और Database के किसी भी Relation के किसी भी Data में कोई Change नहीं करता है।

क्योंकि Relational Database में सभी प्रकार के Data Accesses Data Dictionary के Through होते हैं, इसलिए Relational DBMS को Data Dictionary Driven भी कहा जाता है। वे सभी Relations जो एक Data Dictionary को Create करते हैं, कुछ हद तक DBMS पर निर्भर होते हैं। इसलिए विभिन्न प्रकार के DBMS विभिन्न तरीकों से इस Data Dictionary को Manage करते हैं। (Data Dictionary in DBMS)

Views in DBMS. It's just Virtual Tables.
What is Database Normalization and why is it important?

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।