Define Pointer in C

C Programming Language in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook  C Programming Language in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

C Programming Language in Hindi | Page: 477 + 265 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Define Pointer in C: जब हमें किसी Variable में किसी अन्‍य Variable की Storage Cell का Address Store करना होता है, तब हम इस Variable को Pointer प्रकार का Declare करते हैं। Pointer Variable भी उसी प्रकार से Declare किये जाते हैं, जिस प्रकार से अन्‍य सामान्‍य Variables Declare किये जाते हैं। किसी Variable को Pointer प्रकार का Declare करने के लिए उसे * चिन्ह के साथ Declare करते हैं। इसके Declaration का Syntax निम्नानुसार होता है-

      Data Type *Pointer_Variable_name ;

ऊपर बताए उदाहरण में यदि हमें Variable (character) की Storage Cell का Address 2000 किसी Variable में Store करना हो, तो एक अन्‍य Variable ptr Declare करना होगा, जो कि Pointer प्रकार का होगा। इसे हम निम्नानुसार करेंगे:

      char *ptr;

किसी भी Variable के Storage Cell के Address द्वारा उस Variable के मान को Access करने के लिए उस Variable के Storage Cell के Address को किसी अन्‍य Pointer प्रकार के Variable में Store करना इसलिए जरूरी होता है, क्योंकि हम किसी भी Memory Storage Cell को बिना किसी Variable में Store किये Access नहीं कर सकते।

यहां ध्‍यान से इस Pointer Variable के Declaration को देखें तो सवाल दिमाग में आ सकता है कि एक Pointer Variable में केवल किसी अन्‍य Variable का Address ही Store हो सकता है और कोई भी Address एक Unsigned Integer ही होता है, तो फिर यहां इस Pointer ptr को char प्रकार का क्यों Declare किया गया है, int प्रकार का क्यों नहीं किया गया?

ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि ये Data Type “C” Compiler को बताता है, कि इस Pointer Variable में जिस Variable की Storage Cell का Address Store होगा, वह char प्रकार का ही हो सकता है। यानी हम एक int प्रकार के Variable के Address को char प्रकार के Pointer Variable में Store नहीं कर सकते हैं।

char प्रकार का ये Pointer Variable “C” Compiler को ये बताता है कि हम जिस Variable के Address को Access कर रहे हैं, वो char प्रकार का है और char प्रकार का ये Variable, Memory में एक Byte की Space Reserve करता है।

इसी प्रकार यदि हमें किसी int प्रकार के Variable का Address किसी Pointer Variable में Store करना हो तो Pointer Variable को भी int प्रकार का ही Declare करना होगा। तभी “C” Compiler समझ पाएगा कि इस Pointer Variable में जिस Variable का Address Store है वह int प्रकार का मान Store करता है और Memory में दो Byte की Space Use करता है। (Define Pointer in C – Wiki)

What is Pointer in C
Variable Address Accessing in C using Pointers

C Programming Language in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook  C Programming Language in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

C Programming Language in Hindi | Page: 477 + 265 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।