Elements and Attributes in HTML5 – What is Hypertext?

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Elements and Attributes in HTML5: 1990 से पहले तक किसी भी तरह की Information को Internet से Access करना काफी Technical काम होता था। Internet से Information को Access करने का ये तरीका काफी Tricky होता था जो कि एक आम आदमी के बस की बात नहीं होती थी। इसलिए एक ऐसे तरीके की जरूरत हुई, जिससे Internet के माध्यम से Information को Access करना सरल हो सके। ये काम Tim Berners-Lee नाम के एक Physicist ने किया।

Tim ने एक एसा तरीका विकसित किया जिससे “Hypertext” Links के रूप में Internet से Text Information को आसानी से Cross-Reference किया जा सकता था। ये विचार वास्तव में Tim का नहीं था, लेकिन उन्होंने एक ऐसी Markup Language का विकास किया, जिससे इस विचार को Implement किया जाना सम्भव हो सका।

Hypertext का मतलब ऐसे Text से होता है, जिसे Electronic Form में Store किया गया हो और जिसे Links के माध्यम से Cross-Reference किया जा सकता हो। यानी जिस Information को Electronic Form में Convert करके Links द्वारा Cross-Reference किया जा सकता है, ऐसे Text को “Hypertext” कहा जाता है।

HTML (Hypertext Markup Language) Web Pages की मूल भाषा है। Internet पर आज जितनी भी Web Sites हैं, वे सभी Web Sites HTML Pages का Collection मात्र है, जिनमें HTML Elements का प्रयोग किया जाता है। HTML के इन Elements को ही Markup भी कहते हैं, क्योंकि ये Elements Web Page के विभिन्न प्रकार के Contents को विभिन्न तरीकों से Web Browser में Render होने के लिए Mark करते हैं और Web Browser को इस बात का Indication करते हैं, कि Web Browser में किस Content को किस जगह पर और किस तरह से Render करना है।

ये एक Markup Language है जो कि पूरी तरह से Content या Text के Organization से संबंधित है। उदाहरण के लिए किसी Newspaper में हम जो Content देखते हैं, उसमें कुछ Text बडे होते हैं जो Heading की तरह दिखाई देते हैं जबकि कुछ छोटे होते हैं जो Sub-Heading या Paragraph की तरह दिखाई देते हैं तो कुछ Texts List के रूप में होते हैं।

Elements

HTML, किसी Document के Texts की विभिन्न प्रकार की Marking करता है और ये तय करता है कि कौनसा Text Heading के रूप में दिखाई देगा, कौनसा Text Sub-Heading के रूप में दिखाई देगा। कौनसा Text List के रूप में होना चाहिए और कौनसा Text Paragraph के रूप में होना चाहिए।

Document के Contents की Marking करने के लिए HTML Specification में जिस तरीके को उपयोग में लिया जाता है, उसे Element कहते हैं। इसे हम निम्न चित्रानुसार समझ सकते हैं:

Elements and Attributes in HTML5

Elements and Attributes in HTML5

विभिन्न प्रकार के HTML Elements को एक Angle Brackets के Pair के रूप में Specify किया जाता है। हर HTML Element के दो भाग होते हैं, जिन्हें Tag कहा जाता है। पहला Tag Opening Tag होता है और ये Opening Tag किसी Feature को On करता है, जबकि दूसरा Tag Closing Tag होता है और ये Tag उस On किए गए Feature को Off करता है।

उदाहरण के लिए यदि हमें हमारे Web Page में “Hello WWW” शब्द को मुख्‍य Heading के रूप मे दिखाना हो, तो हमें इस Text को Web Browser में Render करने के लिए HTML Source Page में <h1> Element को निम्नानुसार Use करना होगाः

   <h1>Hello WWW</h1>

जब Web Browser इस Line को Interpret करता है, तब उसे <h1> Tag का Pair का पहला Opening Tag प्राप्त होता है। यह Tag Web Browser को इस बात का Signal देता है, कि इस Tag से आगे, जो भी Text है, उसे Web Browser में Heading के रूप में Render करना है।

Web Browser इस पहले Tag से आगे लिखे गए Texts को तब तक Heading के रूप में Render करता रहता है, जब तक कि उसे Tag Pair का Closing Tag </h1> प्राप्त नहीं हो जाता। HTML Element के <h1> Pair व उस Pair के बीच लिखे गए Contents के पूरे समूह को HTML का Element कहा जाता है। यानी यदि हम पिछले Syntax को देखें, तो ये एक HTML Element का उदाहरण है। एक HTML Element में सामान्यतया एक Opening Tag एक Closing Tag व दोनों Elements के बीच में लिखा गया कुछ Content होता है लेकिन कई HTML Elements ऐसे भी होते हैं।

HTML Specification में विभिन्न प्रकार के Elements Define किए गए हैं और इन Elements को समझ कर उन Elements के अनुसार Document को Display या Render करने का काम Web Browser करता है। यानी Web Browser किसी Document के HTML Codes को Web Server से प्राप्त करता है और उनकी Parsing करके Contents को Web Browser में Render कर देता है।

उदाहरण के लिए किसी HTML Document में यदि कोई Content Heading के रूप में दिखाई देना चाहिए, तो हम उस Content को Heading Element के बीच Specify करते हैं। जब Web Browser उस Document को Read करता है, तो जहां पर भी उसे HTML Elements प्राप्त होते हैं, वहां के Content को वह Element की Specification के अनुसार Modify कर देता है। इसी प्रक्रिया को सरल शब्दों में Document की Parsing होना कहते हैं।

HTML वास्तव में कोई Programming Language नहीं है, बल्कि ये एक Markup Language है, जो मूल रूप से Web Browser में दिखाई देने वाले Web Page के Contents की Organization करने का काम करता है। Web Browser में हम जिस Page को देखते हैं, वह Page वास्तव में HTML Elements के आधार पर ही Render या Display होता है। यदि हम HTML Elements की File को Source Program मानें, तो Web Browser उस Source Program को Interpret करने वाले Interpreter की तरह काम करता है।

Attributes

विभिन्न Elements सामान्य काम करने के अलावा कुछ Special प्रकार के काम भी कर सकते हैं। इन Special प्रकार के कामों को करने के लिए इन Elements के Opening Tag में कुछ Properties को Specify किया जाता है। इन Properties को Attributes कहते हैं। ये Attributes, Element के विभिन्न Optional या Compulsory Features को Represent करते हैं, जिसे हम निम्न चित्रानुसार समझ सकते हैं :

Elements and Attributes in HTML5

Elements and Attributes in HTML5

Element के हर Attribute के दो भाग होते हैं। पहले भाग को Name से व दूसरे भाग को Value से Represent किया जाता है।

Element के किसी Attribute की Name Property वह Property होती है, जिसे हम Set करना चाहते हैं और Value वह मान होता है, जिससे हम किसी Name Property को Set करते हैं।

उदाहरण के लिए <h1> एक Element है, जिसे पूरे Document Page पर Uniquely Identify करने के लिए हम उसे एक ID दे सकते हैं। इस स्थिति में “id” एक Name Property है जबकि उसमें Specified नाम एक Value है।

   <h1 id=”MainSite”> </h1>

Elements and Attributes के Name को हमेंच्चा Small Case Letters में Specify करना चाहिए तथा Attributes में Set किए जाने वाले मान को हमेंशा Double Quotes के बीच लिखना चाहिए, क्योंकि Double Quotes के बीच हम निम्नानुसार Single Quotes को Use कर सकते हैं:

<h1 title=”Main Site’s Heading”> </h1>

लेकिन Single Quotes के बीच हम Double Quotes को Use नहीं कर सकते।

<h1 title=’Main Site’s Heading’> </h1>

हालांकि हम Single Quotes के बीच Double Quotes को Use कर सकते हैं। लेकिन HTML Document में Strings, Text या Name Values को Double Quotes में ही Specify करना चाहिए, ताकि Server Side Scripting Language में Single Quotes को String के लिए आसानी से उपयोग में लिया जा सके। (Optional)

How to Link External JavaScript HTML Simple Examples
HTML5 Content Elements Related to Content Rendering

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।