How to Solve Many to Many Relationship?

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

How to Solve Many to Many Relationshipजैसाकि हमने पहले बताया है कि Many To Many Relationship के साथ कुछ अलग प्रकार की समस्याएं हैं। सबसे पहली समस्या तो यही है कि कोई भी Relational Data Model Many To Many Relationship को Directly Handle नहीं कर सकता है। किसी Relational Data Model में हम केवल One To One या One To Many Relationship को ही Handle कर सकते हैं। इसका मतलब ये हुआ कि हमने Music Store Database में जिन Many To Many Relationship को Identify किया है, उन्हें One To Many Relationships के Collections के रूप में Convert करके Relational Data Model में Use करना होगा, ताकि हम इन्हें एक Relational DBMS में Use कर सकें।

दूसरी समस्या थोडी ज्यादा जटिल है। इसे समझने के लिए मानलो कि Music Store किसी Distributor को कोई Order देता है और Music Store पर कोई Customer Order Place करता है। इसलिए Order व Item के बीच Many To Many की Relationship बनती है, क्योंकि हर Order में एक से ज्यादा Items Appear हो सकते हैं और बाद में हर Item कई Orders पर Appear हो सकता है। जब कभी Music Store किसी Item के लिए कोई Order Place करता है, तब Item के Copies की संख्या Music Store को प्राप्त होने वाली Copies की संखया से भिन्न हो सकती है। यानी हो सकता है कि Music Store किसी Item के चार Copy प्राप्त करना चाहता हो जबकि Stock की कमी के कारण उसे वह Item केवल तीन ही प्राप्त हो।

अब सवाल ये है कि Order किए गए Item की Quantity को कहां Store करना चाहिए? क्योंकि ये Quantity Order Entity का हिस्सा (Attribute) तो हो नहीं सकता क्योंकि Quantity उस Item पर Depend करती है, जिसे Music Store Order कर रहा है। इसी तरह से ये Quantity Item Entity का भी हिस्सा (Attribute) नहीं हो सकता क्योंकि Quantity किसी Specific Order पर Depend करता है।

इस प्रकार के Attribute में Store होने वाले Data को Relationship Data कहा जाता है, जहां कोई Data किन्हीं Entities के Relationship का हिस्सा होता है ना कि वह Data Relationship में भाग लेने वाले किसी Entity का हिस्सा (Attribute) होता है।

चूंकि किसी Relationship में Attributes नहीं होते हैं। इसलिए हमें Relationship Data को Represent करने के लिए किसी एसे Entity की जरूरत होती है, जो दो Entities के बीच की Relationship को Represent करे और इस Entity में हम उस Relationship Data को एक Attribute के रूप में Store कर सकते हैं।

यानी जब किन्ही दो Entities के बीच कोई एसा Data हो जो किसी भी Entity में स्वतंत्र रूप से Represent नहीं हो सकता, लेकिन  दोनों Related Entities के Group पर आधारित होता है, तब हमें इस प्रकार के Relationship Data को Store करने के लिए एक नए Entity की जरूरत पडती है और इस प्रकार के Data को उस नए Entity में Store किया जाता है। (How to Solve Many to Many Relationship)

How to Define Relationship Set in DBMS?
What is Composite Entity in DBMS?

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।