How WordPress Works Behind the Scene?

WordPress in Hindi - BccFalna.comये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

WordPress in Hindi | Page: 420 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

WordPress, DreamWeaver या FrontPage की तरह कोई Webpage Create करने वाला Tool नहीं है बल्कि एक Framework है और इसे Use करते हुए अपनी Website बनाने के लिए आपको मामूली से HTML व CSS की जानकारी होना काफी होता है, जिनका प्रयोग करके आप अपनी जरूरत के अनुसार अपनी Website के Structure व Look and Feel को Modify करने की क्षमता प्राप्त करते हैं।

WordPress का प्रयोग करके वास्तव में आप एक Static Website नहीं बल्कि एक Dynamic व Easily Extensible Website बनाते हैं, जबकि ऐसा करने के लिए आपको कोई Manual Code लिखने की जरूरत भी नहीं होती। क्योंकि WordPress के लिए दुनियां में किसी भी अन्य Framework की तुलना में ज्यादा Plugins Themes को Develop किया गया है और उनमें से लगभग ज्यादातर Free हैं।

यानी आपकी Website की किसी भी प्रकार की जरूरत को पूरा करने के लिए पहले से ही सैकडों Plugins उपलब्ध हैं, जिनमें से आप उस Plugin को चुनकर अपनी WordPress Website के लिए उपयोग में ले सकते हैं, जो आपकी जरूरत को Best तरीके से Fulfill करता हो और ये सारा काम आप कर सकते हैं केवल अपने Mouse से।

अत: जब आप अपनी Website Develop करने के लिए WordPress Framework को Use करते हैं, तब आपको एक भी Line का Code लिखने की जरूरत नहीं होती। परिणामस्वरूप आप अपना पूरा ध्‍यान अपनी Website के Contents को Develop करने पर लगा सकते हैं, जो कि आपकी Online Income के लिए जरूरी होता है।

एक Dynamic Website बनाने में मूल रूप से किसी भी Website के तीन हिस्से काम करते हैं, जिन्हें Frontend, Backend व Database के नाम से जाना जाता है। लेकिन जब हम WordPress को अपनी Website बनाने के लिए उपयोग में ले रहे होते हैं, तब हमें इन तीनों में से किसी भी हिस्से को बनाने के लिए कुछ भी नहीं करना होता, क्योंकि WordPress स्वयं ही इन तीनों हिस्सों को Maintain करता है।

WordPress Framework में हमारा सारा Data (Contents and Metadata) एक MySql Database में Stored रहता है, जबकि Frontend के रूप में हमारी Website के Visitor को क्या और कैसा दिखाई देगा, ये बात पूरी तरह से WordPress Theme द्वारा तय किया जाता है, जिसे हम हमारे WordPress Software में Use करते हैं।

इसलिए जब कोई Visitor किसी WordPress आधारित Website से किसी Webpage के लिए Request करता है, तो WordPress निम्न चित्रानुसार तरीके से काम करते हुए Visitor की Request को पूरा करता है:

How WordPress Works

How WordPress Works

यानी Visitor किसी Web Browser के माध्‍यम से किसी Webpage के लिए Web Server से Request करता है। Web Server उस Request को पूरा करने के लिए WordPress Framework को वह Request Redirect कर देता है।

परिणामस्वरूप WordPress System आने वाली Request के आधार पर इस बात को तय करता है कि User को किस Webpage की जरूरत है और उस Webpage के Data को MySQL Database से Retrieve करता है तथा इस Retrieved Data को उस WordPress Theme के Layout के अनुसार Structure करते हुए Dynamically नया Webpage Generate करता, जिसे हमने WordPress Framework में Activate कर रखा होता है।

फलस्वरूप User की Request के अनुसार Dynamically एक नया Webpage Generate होता है और User की Request को Fulfill करते हुए उस Webpage को फिर से Response के रूप में उसी Visitor को Return कर दिया जाता है, जिसने Request Perform किया था। WordPress द्वारा Follow किए जाने वाले इस Procedure को हम निम्नानुसार एक अन्य चित्र द्वारा भी ज्यादा बेहतर तरीके से Represent कर सकते:

How WordPress Works

How WordPress Works

यानी Website के Frontend व Database को WordPress System उपरोक्तानुसार तरीके से Internally उपयोग में लेते हुए Website के विभिन्न Webpages को Dynamically Generate करता है, जबकि Backend के रूप में हमें एक ऐसा Editor Provide करता है, जहां हम हमारे हर Webpage के Content को Best तरीके से Format कर सकते हैं और हमारा Create किया जाने वाला हर Content MySQL Database में Store होता है, जो उस समय WordPress की Theme के Layout में Appropriate तरीके से Place हो जाता है, जब कोई User उस Content वाले Webpage के लिए Web Browser के माध्‍यम से Request करता है।

यानी एक WordPress Powered Website में Webpages के Content तथा Webpage के Layout (Theme) दोनों को एक दूसरे से पूरी तरह से Separate रखा गया है। जिसकी वजह से जब हम Content Create कर रहे होते हैं, तब हमें इस बात की चिन्ता करने की जरूरत नहीं होती है कि हमारा Content किसी Visitor को Frontend में कैसा दिखाई देगा।

क्योंकि Content को Render करने का काम हमारे द्वारा Activate की गई WordPress Theme का होता है और हम हमारे Content को Visitor के सामने किस प्रकार से Render करना चाहते हैं, ये बात पूरी तरह से Activated Theme में Create की गई Template Files पर निर्भर करती है।

इसलिए अपने Content को किसी Specific तरीके से Render करने के लिए हमें हमारे Content को नहीं बल्कि WordPress Theme की किसी Specific Template File को जरूरत के अनुसार Create या Modify करना होता है, जिसका कोई प्रभाव हमारे Content पर नहीं पडता।

चूंकि कई तरह की Websites हो सकती हैं और उन्हें कई तरीकों से बनाया जा सकता है। लेकिन किसी Website को जब WordPress का प्रयोग करते हुए बनाया जाता है, तब एक अकेला व्यक्ति भी अपनी Website को बेहतर तरीके से Manage कर सकता है और इस प्रकार की Website का Monthly खर्चा औसतन 200/- से 500/- रूपए प्रतिमाह के बीच ही होता है।

लेकिन जब WordPress जैसे किसी Framework को Use किए बिना किसी Website को बिल्कुल शुरूआत से Design किया जाता है, तब इस प्रकार की Website को Design करने के लिए कई प्रकार के Software Engineers (Graphics Designer, Database Designer, Backend Developer, Frontend Developer, etc…) की जरूरत पडती है और ऐसी Website को Develop करने का खर्चा लाखों में आता है।

WordPress एक Framework है जो हमें Fast Website Develop करने की सुविधा Provide करता है और ये इतना Flexible है कि हम दुनियां कि किसी भी प्रकार की Website Develop करने के लिए इसका प्रयोग कर सकते हैं, जिसके अन्तर्गत Shopping CartCheckout System वाली भारी-भरकम E-Commerce Websites भी हो सकती हैं, जिसमें Security मुख्‍य Issue होता है और एक Simple Blog भी।

Blog एक विशेष प्रकार की Website होते हैं, जिसमें बडी ही तेजी से Change होने वाले Contents लिखे जाते हैं। ये एक प्रकार से Online Daily Diary की तरह होते हैं, जहां हम अपने प्रतिदिन के क्रिया-कलापों के बारे में Discuss कर सकते हैं। जब Blogs की शुरूआत हुई थी, तब तो इसका वास्तविक मतलब यही था और इसे Blog नहीं बल्कि WebLogs के नाम से जाना जाता था। लेकिन वर्तमान समय में इसका मतलब पहले की तुलना में काफी बदल गया है।

Blogs में सामान्यत: ऐसे Content लिखे जाते हैं, जो Time Dependent होते हैं और इस प्रकार के Contents के साथ Article Publishing का Date and Time भी Specified होता है। News या Magazine Style के Contents को Manage करने के लिए सामान्यत: Blog Type का Website Create किया जाता है।

ज्यादातर लोग केवल Personal Satisfaction के लिए ही Blogging करते हैं। जबकि कुछ लोग अपने Business को Increase करने के लिए Professional Blogging करते हैं और बाकी के बचे हुए लोग Directly या Indirectly Online Earning करने के लिए Blogging को एक Profession की तरह Use करते हैं। जबकि इनकी संख्‍या काफी कम होती है।

यानी मात्र 8 से 10 प्रतिशत लोग ही Online Income Generate करने के लिए Blogging करते हैं। जबकि इन 8 से 10 प्रतिशत लोगों में से भी मात्र 1 से 2 प्रतिशत लोग ही Blogging को Continue रख पाते हैं और Blogging से Generate होने वाली Income के आधार पर ही अपना जीवन-यापन करते हैं।

जबकि अन्य 98 प्रतिशत लोग Blogging को ठीक तरह से कैसे Online Earning के लिए Use किया जाए, इस बात की जानकारी के अभाव में थोडे समय तक Blogging करके अपनी Website को हमेंशा के लिए बन्द कर देते हैं।

Blog कई तरह के हो सकते हैं, जैसे News Blog, Magazine Blog, Photo Blog, Video Blog आदि और इन सभी प्रकार के Blogs को Create करने के लिए हम WordPress Platform को समान प्रकार से Use कर सकते हैं।

क्योंकि किसी भी प्रकार का Blog Create करने के लिए हमें WordPress System को Change करने की जरूरत नहीं होती बल्कि हमें केवल एक नई प्रकार की जरूरत को पूरा करने के लिए एक नए प्रकार का WordPress Theme ही Create करना होता है, जिसके लिए WordPress Platform हमें पूरा एक API System Provide करता है।

हालांकि WordPress वर्तमान समय में एक Best Blogging Platform है लेकिन अब हम इसे केवल एक Blogging Platform के रूप में नहीं बल्कि एक पूर्ण CMS (Content Management System) के रूप में उपयोग में ले सकते हैं और WordPress का प्रयोग करते हुए हर उस जरूरत को पूरा कर सकते हैं, जिसे सामान्यत: Drupal या Joomla जैसे कि किसी CMS द्वारा पूरा किया जाता है।

इसीलिए हम WordPress का प्रयोग न केवल Blogging Platform के रूप में कर सकते हैं बल्कि उतनी ही सफलता के साथ हम इसका प्रयोग किसी Traditional Website को Create करने के लिए भी कर सकते हैं और ऐसा करने के लिए हमें हमारे WordPress Theme के Templates में किसी Specific प्रकार के Change को ही Perform करने की जरूरत होती है।

WordPress Platform का प्रयोग करते हुए किस-किस प्रकार की Websites को बनाया जा सकता है और किस-किस तरीके से बनाया जा सकता है, इस बात का पता लगाने के लिए आपको कहीं और Search करने की जरूरत नहीं है।

क्योंकि स्वयं WordPress की Website के https://‍wordpress.org/‍showcase‍ URL पर आप इस बात की Detailed Information प्राप्त कर सकते हैं और देख सकते हैं कि WordPress कितना Powerful Platform है, जिसकी वजह से बडी-बडी Companies अपने Blogging Platform या Website Framework के रूप में इसे को Use कर रही हैं।

Best Domain Selection Tips - Only 6 Rules to Follow
How to Install WordPress Manually on Server in Hindi?

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

WordPress in Hindi - BccFalna.comये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

WordPress in Hindi | Page: 420 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।