.htaccess for WordPress

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

.htaccess for WordPress – इस File को किसी WordPress Site में मुख्‍य रूप से Pretty PermalinksKeyword Injected URLs Create करने के लिए Use किया जाता है। Default रूप से WordPress सभी Web Pages व Posts के लिए एक Query-String Formatted URL Create करता है, जिसमें सामान्‍यत: Page/Post का ID होता है। जैसे:

http://www.bccfalna.com/?p=1

ये URLs Completely Functional होते हैं, लेकिन Search EngineSite Visitor Friendly नहीं होते। इसलिए WordPress में Pretty Permalinks को Enable करने पर WordPress हमारी Web Site के Content जैसे कि Page या Post के Titles, Category, Tag NameDate के आधार पर URLs Create करता है, जो कि User व Search Engine दोनों के लिए उपयोगी व Meaningful होता है।

Enable SEO Friendly Permalinks

WordPress में Permalinks को Enable करने के लिए हमें WordPress Dashboard क Settings Panel में Permalinks Sub-Panel को Open करना होता है, जो कि निम्नानुसार दिखाई देता है:

.htaccess for WordPress - Hindi

.htaccess for WordPress – Hindi

जब हम इस Web Page पर दिखाई देने वाले विभिन्न तरीकों में से किसी भी तरीके को Select करके “Save Changes” Button पर Click करते हैं, तो यदि WordPress की Root Directory Writable हो, तो WordPress हमारी Default .htaccess File Create करने की कोशिश करता है। जबकि यदि WordPress .htaccess File में Write करने में सक्षम न हो, तो इस बात की Instruction देता है कि Permalinks Setup करने के लिए कहां और कैसे Change करना होगा।

उदाहरण के लिए यदि हमारी “Post name” Option को Select करते हैं, तो हमारे हर Post का URL, Web Browser के Addressbar में निम्नानुसार दिखाई देता है:

http://www.bccfalna.com/wp/postname

Permalinks Use करने के कई फायदे हैं, जिनमें से कुछ निम्नानुसार हैं:

  • Search Engine Optimization (SEO) : हमारा Page/Post Search Engines में अच्छी Position पर Rank हो सके] इसके लिए जरूरी है कि हमारे Page/Post में हम जिन Keywords को मुख्‍य रूप से Use करते हैं, उन्हें उस Page/Post के URL में भी Use किया जाए।
  • User Friendly URL : User Friendly URL होने की वजह से User आसानी से किसी Page/Post को Back Link करने के लिए Use कर सकते हैं, जिससे Search Engines में हमारी Web Site की Ranking Improve होती है।
  • Sharing : Easy URL होने पर लोग हमारी Site के URL को आसानी से Social Networking Sites पर Share कर सकते हैं, जिससे हमारी Site का Free Traffic Increase होता है।

.htaccess Rewriting Rules

WordPress के Pretty Permalinks के लिए निम्नानुसार केवल दो Rewriting Rules जिम्मेदार हैं, जो कि .htaccess File में Append होते हैं:

RewriteCond %{REQUUEST_FILENAME} !-f
RewriteCond %{REQUUEST_FILENAME} !-d

जब भी Web Browser द्वारा WordPress Site के किसी Page/Post का Request करने हेतु URL का प्रयोग किया जाता है, ये दोनों Rules उस URL को इस बात को Check करते हैं कि क्‍या Specified URL किसी Existing File या Directory को Refer कर रहा है या नहीं।

उपरोक्त दोनों Lines में !-f!-d का प्रयोग किया गया है जो File व Directory के Exist न होने की स्थिति को निि”चत कर रहे हैं कि URL में Specified Resource के नाम की कोई Valid File या Directory Exist न हो।

यदि URL में Specified Resource के नाम की कोई File या Directory Web Server पर Exist न हो, तो URL WordPress के Core Code को Pass हो जाता है जहां URL के Resource से Matching Query String Generate होता है। जबकि यदि URL में Specified Resource, Web Server पर Exist हो, तो WordPress द्वारा URL में कोई परिवर्तन नहीं किया जाता और Specified Resource, Web Browser को Return कर दिया जाता है।

.htaccess File का प्रयोग URL Redirects को Manage करने के लिए भी किया जा सकता है। उदाहरण के लिए यदि हम हमारे किसी Web Page को http://www.bccfalna.com/contact से Rename करके http://www.bccfalna.com/contact-me कर दें, तो जो भी User इस Web Page को इसके Original URL पर देखने की कोशिश करेगा, उस HTTP 404 – Page Not Found  Error प्राप्त होगा।

जबकि URL Redirect का प्रयोग करके हम Old URL को New URL पर Redirect कर सकते हैं। यानी जो भी Visitor Web Browser में Old URL को Specify करेगा, हमारी .htaccess File उसे फिर से New URL ij Redirect कर देगा। जिसकी वजह से हमारे किसी भी Visitor को HTTP 404 – Page Not Found Error प्राप्त नहीं होगा। जैसे:

redirect 301 /contact http://www.bccfalna.com/contact-me

Increase Allotted PHP Memory Size

.htaccess File URL Redirecting के अलावा भी कई और जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी उपयोगी है। उदाहरण के लिए यदि हम निम्न Statement को .htaccess File में Specify करें:

php_value memory_limit 64M

तो ये Statement हमारे PHP को Allotted Memory की Size 64MB कर देता है।

Increase WordPress Allotted File Upload Size

PHP की Memory Size की तरह ही हम WordPress में Upload की जा सकने वाली File की Maximum Size को भी Set कर सकते हैं। सामान्‍यत: ये Size 8MB होती है।

लेकिन कई बार जब हम Backup लेकर अपने WordPress Database को फिर से Restore करना चाहते हैं, तब इस Setting को Specify किए बिना हम 8MB से ज्यादा बडी Size की Backup File को WordPress में Upload करने में सक्षम नहीं हो पाते। उस स्थिति में इस Setting को Specify करना जरूरी हो जाता है। इस Setting को निम्नानुसार Perform किया जाता है:

php_value upload_max_filesize 30M

इसी तरह से हम किसी WordPress Post/Page की अिधकतम Size को भी निम्नानुसार .htaccess Code द्वारा Control कर सकते हैं:

php_value post_max_size 10M

/यान दें कि इन दोनों Settings को सभी Hosts Modify करने की सुविधा नहीं देते और यदि कोई Web Server इस Option को Support न करता हो, तो इस Option को Specify करने पर Error Trigger होता है।

Error Logging via .htaccess

जब हम .htaccess Rule के माध्‍यम से Errors की Logging किसी Log File में करना चाहते हैं, तो सबसे पहले हमें एक Log File Create करके उसे अपने WordPress की Root Directory में Save करना होता है और फिर निम्नानुसार Rules को .htaccess File में Specify करना होता है:

php_flag display_startup_errors off
php_flag display_errors off
php_flag html_errors off
php_flag log_errors on
php_value error_log /public_html/php-errors.log

उपरोक्त .htaccess Rules सभी प्रकार की Errors को php-errors.log नाम की Log File में Write तो करता है लेकिन किसी भी तरह का Error Web Browser में Render नहीं होता। इस Option को भी हमें केवल Production के समय ही Setup करना चाहिए, जबकि Web Site को Live करने से पहले इस Option को हटा देना चाहिए, ताकि यदि किसी कारणवश कोई Error Generate हो, तो वह Error किसी User या Site Visitor को दिखाई न दे।

Files of wp-content Folder

इस Folder में जितनी भी Files होती हैं, वे सभी हमारी Web Site को Customize करने से सम्बंधित ही होती हैं। इसलिए इस Folder की किसी भी File को Modify किया जा सकता है।

इस Directory में सामान्‍यत: Themes, Plug-in तथा वे Additional Files होती हैं, जो WordPress की Functionalities को Extend करती हैं।

इस Directory में index.php नाम की केवल एक ही File होती है, जिसमें निम्नानुसार केवल एक Comment लिखा होता है:

<?php

        // Silence is golden.

?>

इस File का मुख्‍य उपयोग यही है कि जब भी कोई User हमारी Web Site के इस wp-content Folder को देखने की कोशिश करेगा, index.php नाम की ये File Open हो जाएगी] जिसमें कोई Content लिखा हुआ नहीं होगा। परिणामस्वरूप किसी Visitor को कभी भी पता नहीं चल पा,गा कि हमने अपनी Web Site में किन Plugins व किस Theme को Use किया है।

wp-config.php File - Advance Configurations
wp-content - Important Directories

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।