What is Internet and Website?

PHP in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook PHP in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

PHP in Hindi | Page: 647 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

यदि हम Root Level पर समझें, तो एक Web Sites केवल किसी Information को Represent करने का Electronic Medium है। यदि Professional शब्दों में कहें तो एक Web Site वास्तव में एक सबसे कम खर्चे वाला तथा Customers के लिए सबसे ज्यादा सुविधापूर्ण तरीके से किसी Product के बारे में Detail से Information देने वाला Advertising Medium है। जिसे विभिन्न Businessman अपने किसी Product को Internet के माध्यम से Directly Sell करने अथवा किसी Product को Indirectly Promote करने के लिए Develop करवाते हैं।

क्या आपने कभी सोंचा है कि Advertising का मूल उद्‌देश्‍य क्या होता है?

Advertising का मूल उद्‌देश्‍य किसी Product की Direct Selling करना अथवा Indirect Promoting करना ही होता है, ताकि उस Product के Owner का व्यापार बढ सके। Internet किसी व्यापार को बढाने में Newspaper, Radio, Television आदि की तरह ही एक बहुत बडा माध्यम है, जहां करोडों लोग किसी भी समय Internet Surfing करते हुए उपलब्ध रहते हैं और इसीलिए विभिन्न Business Owners अपनी Web Site बनवाते हैं।

सामान्यतः नए Web Programmers एक और गलती करते हैं। उनका तर्क ये होता है कि सभी Web Sites हमेंशा किसी Product की Selling या Promoting नहीं करतीं, बल्कि ज्यादातर Web Sites पर वे जो Information देखते हैं, उनमें कहीं भी किसी भी तरह के Product का जिक्र नहीं होता।

उदाहरण के लिए Google, Yahoo आदि Web Sites हैं, जो बिना किसी तरह की Fees लिए हुए हमें Internet पर Searching करने की सुविधा देते हैं, जबकि सच्‍चाई ये है कि हर Web Site किसी ना किसी Product की Selling के लिए ही Develop की जाती है और जो Web Site Online Selling या Promotion नहीं करतीं, वे Web Site ज्यादा समय तक Available नहीं रहतीं।

नए Web Programmers Marketing FundasAdvertising Tricks से अनभिज्ञ होते हैं। उन्हें हर Web Site पर Selling के लिए Product दिखाई नहीं देते, इसलिए वे समझते हैं कि वह Web Site मुफ्‌त में सारी जानकारी दे रहा है और यहीं नए Web Programmers गलती करते हैं। सामान्यतः वे समझते हैं कि हर Product Physical होता है, जो कि उनकी सबसे बडी भूल है।

Product हमेंशा Physical ही हो, ऐसा जरूरी नहीं है।

उदाहरण के लिए यदि मानलें कि आपने अपनी School की पढाई पूरी कर ली और अब आप किसी Best MBA College में Admission प्राप्त करना चाहते हैं। ये जानने के लिए कि सबसे अच्छा MBA College कौनसा है और वहां क्या Fees है, कितने साल का कोर्स है, क्या Subjects पढाए जाते हैं, पुराने Students की Job Placements की क्या स्थिति है, आदि विभिन्न प्रकार की जानकारियों को प्राप्त करने के लिए आप लोगों से पूछते हैं अथवा आप Internet पर Surfing का प्रयोग करते हैं।

जब आप Internet द्वारा किसी College का Selection करना चाहते हैं, ताकि आप Best College में Admission प्राप्त कर सकें, तो वास्तव में आप विभिन्न Colleges की Advertising ही तो देख रहे होते हैं। क्योंकि आप जिस किसी भी School या College में Admission लेंगे, वह School या College आपसे Fees के रूप में पैसा वसूल करेगा और यदि उस College ने अपनी Web Site न बनवाई होती, तो आपको उस College के बारे में जानकारी कैसे मिलती। यदि आप उस College के बारे में Internet के माध्यम से जान नहीं पाते, तो आप वहां Admission कैसे लेते और यदि आप उस Internet द्वारा Selected College में Admission नहीं लेते, तो वह College आपसे Fees कैसे वसूलता।

यदि ध्यान से देखा जाए, तो यहां आपने उस College से कुछ नहीं खरीदा, फिर भी फीस के रूप में आपने उसे पैसा दिया। तो आप कैसे कह सकते हैं कि हर Web Site अपना Product Sell नहीं करती क्योंकि किसी College के लिए उसके Course ही उसके Products हैं और कोई Service या Course कोई Physical वस्तु नहीं होती, फिर भी उसे खरीदा जाता है।

यानी मूल रूप से समझने वाली बात ये है कि Internet दुनियां का एक सबसे बडा Advertising Medium है और हर Web Site किसी न किसी Product की Advertising के लिए ही बनायी गई होती है, फिर चाहे वह Product Physical हो अथवा Virtual.

जब Product Physical होता है, तब Web Site उस Product को Directly Offer करती हैं, ताकि जो User उस Web Site को देखे, वे उस Product को Directly Internet के माध्यम से Online खरीद सकें जबकि जो Product Directly Sellable नहीं होते, जैसे कि कोई Service या Course, उन्हें Internet के माध्यम से Promote किया जाता है, ताकि लोग उन Offer की गई Services के बारे में जानें और Web Site Owner को ज्यादा से ज्यादा Customers यानी Clients मिलें, ताकि उसका व्यापार बढ सके। इस प्रक्रिया को हम Indirect Selling या Promotion कह सकते हैं।

तो सारांश के रूप में कहें तो हर Web Site किसी ना किसी Businessman की ही होती है और हर Businessman चाहता है कि उसे ज्यादा से ज्यादा Customers मिलें। इसलिए एक Businessman के नजरिए से समझें, तो उसकी Web Site को Visit करने वाला हर User, उसका एक Customer या Client है।

क्योंकि जो User किसी Owner की Web Site को Visit करता है, उस User को भी Client कहा जा सकता है, जबकि User जिस Owner की Web Site को Visit करता है, उस Web Site Owner को Server भी कहा जा सकता है, क्योंकि वह Owner अपने User को किसी न किसी तरह की Physical Product या Virtual Service Provide करता है।

जिस प्रकार से Real World में ClientServer होते हैं, जैसाकि हमने उपरोक्त Discussion द्वारा समझा, उसी प्रकार से जब हम Web Development की बात करते हैं, तब भी Client व Server होते हैं, जिन्हें सामान्यतः Web Browser व Web Server कहा जाता है।

Basics of INTERNET and WEB Technology
How Web Browser Communicates with Web Servers

PHP in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook PHP in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

PHP in Hindi | Page: 647 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।