Why you must learn Manual Coding of Web Languages?

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Manual Coding: आज बहुत सारे एसे Software उपलब्‍ध हैं, जिनका प्रयोग करके बहुत ही आसानी से Web Pages Create किए जा सकते हैं। Microsoft FrontPage व Macromedia Dreamweaver दो ऐसे ही Professional Web Site Development Tools हैं, जिनका प्रयोग हम ना केवल Web Pages Create करने के लिए बल्कि पूरी की पूरी Web Site Create करने व उन्‍हें Manage करने के लिए उपयोग में ले सकते हैं। लेकिन इन Software को खरीदने की जरूरत नहीं है। हम बडी ही आसानी से Notepad का प्रयोग करके भी अपने Web Pages Create कर सकते हैं।

हालांकि इन Software का प्रयोग करके हम WYSIWYG Interface द्वारा Web Pages Create करते हैं, इसलिए, इन Software का प्रयोग करने पर हमारा Site Development का काम कुछ आसान हो जाता है, क्‍योंकि ये हमें Graphical User Interface प्रदान करते हैं और हम इन Software में जिस तरह का Page बनाते हैं, वे Page Internet पर भी उसी तरह से दिखाई देते हैं, जिस तरह से हमारे Pages इन Software में दिखाई देते हैं।

निश्चित रूप से इन Software का प्रयोग करने पर हमें हमारे काम में सरलता व सुविधा प्राप्‍त होती है, क्‍योंकि हमारे Web Page के लिए जिन HTML Codes को लिखने की जरूरत होती है, उन्‍हें ये Software स्‍वयं ही Automatically हमारे लिए लिख देते हैं। लेकिन फिर भी इन Software द्वारा लिखी जाने वाली कौनसी Coding क्‍या काम करता है, इस बात को अच्‍छी तरह से समझने के लिए हमें HTML Language को Manually Code सीखना चाहिए अन्‍यथा हम पूरी तरह से इन Software पर निर्भर हो जाते हैं और थोडे ही समय में हमें महसूस होने लगता है, कि हमारे Web Pages पर हमारा पूरा Control नहीं है और हम हमारे Web Pages को जिस तरह से Create करना चाहते हैं, ये Software हमें उसके लिए पूरी सुविधा प्रदान नहीं करते हैं।

उदाहरण के लिए यदि हम MS-FrontPage उपयोग में लेते हैं, तो ये Software हमें केवल उन Server Side Scripting Languages को उपयोग में लेने की सुविधा ही प्रदान करते हैं, जिन्‍हें Microsoft Company ने बनाया है। यदि हम FrontPage में Server Side Scripting Language के रूप में PHP Language को उपयोग में लेना चाहें, तो MS-FrontPage हमें इस काम के लिए कोई सुविधा प्रदान नहीं करता है। इसी तरह से यदि हम Macromedia Dreamweaver का प्रयोग करते हैं, तो हम इसमें Inline Frames का प्रयोग Graphically नहीं कर सकते हैं। यदि हम Dreamweaver में Inline Frames का प्रयोग करना चाहें, तो हमें ये काम Manual Codes लिखकर करना पडता है।

यानी Web Site Development के क्षैत्र में ये ही दो एसे Software हैं,‍ जिन्‍हें सबसे ज्‍यादा Powerful माना जाता है, लेकिन ये दोनों ही Software हमारी सभी जरूरतों को पूरी तरह से पूरा करने में सक्षम नहीं हैं। जब हम इसी तरह के किसी Web Page Development Tool का प्रयोग करके अपने Web Pages Create करते हैं, तब हमें कुछ सुविधाएं तो मिलती हैं लेकिन हमें कुछ असुविधाओं का सामना भी करना पडता है। चलिए, देखते हैं कि इन Softwares से होने वाले लाभ के बारे में हमने पहले ही जान लिया है, अब हम इनकी सीमाओं को देखते हैं:

  • जब हम इस तरह के किसी Tool का प्रयोग करते हैं, तब हमें HTML Codes को सीखने की जरूरत नहीं होती है। ये Tools स्‍वयं ही हमारे लिए सभी जरूरी Codes Generate कर लेते हैं। इसलिए यदि हमें HTML व Web Technology से सम्‍बंधित विभिन्‍न प्रकर की Languages की Manual Coding की जानकारी ना हो, तो हमें अपनी सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए इन पर निर्भर रहना होता है।
  • यदि हमें Manual Coding की जानकारी ना हो, तो हम हमारे Web Pages की Fine Tuning नहीं कर सकते हैं, क्‍योंकि हमें पता ही नहीं चलेगा कि हमारे Web Page के लिए कौनसा Code जरूरी है और किस Code को हम हमारे Web Page से हटा सकते हैं। इसलिए अपने Web Pages पर पूरी तरह से अपना Control रखने के लिए हमें HTML जैसी विभिन्‍न Web Languages को जरूर सीखना चाहिए।
  • ये Tools किसी काम को करने के लिए हमें कभी भी Best Approach Use करने में मदद नहीं कर सकते हैं, विशेष रूप से ये Tools हमें कभी भी किसी Web Page के लिए Best Layout तय करने में कोई मदद नहीं कर सकते हैं। इसलिए हमें हमारे Web Pages को ठीक से Structure करने के लिए यानी Web Page के Layout को तय करने के लिए कई तरीकों की जानकारी होना जरूरी होता है, ताकि हम हमारे Page को Best तरीके से Organize कर सकें।
  • ज्‍यादातर Tools एसे Codes Generate करते हैं, जो कि पूरी तरह से Standard नहीं होते हैं, जिसकी वजह से हमारे Web Pages सभी प्रकार के Browsers पर समान रूप से दिखाई नहीं देते हैं। ये अक्‍सर Elements व Attributes को Place करने के क्रम में परिवर्तन करते हैं तथा Attributes में सामान्‍यतया Default Values का प्रयोग करते हैं, जिससे हमें इन Software द्वारा Web Page Create करने में कभी-कभी काफी परेशानी का सामना करना पडता है।
  • एक Tool द्वारा Create किए गए Web Pages दूसरे Tool के पूरी तरह Compatible नहीं होते हैं। इसलिए यदि हम एक ही Web Page में अलग-अलग तरह की Requirement को पूरा करने के लिए अलग-अलग Web Tools का प्रयोग कर रहे हों, तो भी हम हमारी जरूरत को बेहतर तरीके से पूरा नहीं कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि हमें हमारे Web Page में Inline Frame चाहिए और हम Server Side Scripting Language के रूप में PHP का प्रयोग कर रहे हैं। अब Inline Frame प्राप्‍त करने के लिए यदि हम FrontPage का प्रयोग करते हैं और फिर उस Page को Dreamweaver में Open करके PHP Language को Server Side Scripting के लिए Use करते हैं, तो Dreamweaver Inline Frame को Graphically Show ही नहीं करता है साथ ही Page को एक Tool से दूसरे Tool में Move करने पर हमारे Page का Layout भी बिगड जाता है।
  • जब हम एक बार Web Languages को Manually Code करना सीख लेते हैं, तो फिर ही किसी भी Web Authoring Tool को Best तरीके से उपयोग में ले सकते हैं, क्‍योंकि हम हमारी किसी Special जरूरत को पूरा करने के लिए किसी भी समय FrontPage या Dreamweaver के Code Window में जा कर Manual Coding कर सकते हैं। इसलिए हमें विभिन्‍न Web Languages को Manually Use करना जरूर सीखना चाहिए।

इस Discussion का मतलब ये नहीं है कि हमें इन Tools को Use ही नहीं करना चाहिए, बल्कि इन Tools को Best तरीके से पूरा करने के लिए हमें Manual Coding को जरूर सीखना चाहिए। ज्‍यादातर Professional Web Developers इन Tools को उपयोग में लेते हैं ताकि ये Software उनके लिए जरूरी Codes लिख सकें, लेकिन ये Software जो Code Generate करते हैं, उन Codes को वे लोग समझते हैं और जहां उन्‍हें लगता है कि Software उनकी जरूरत के अनुसार सही Code Generate नहीं कर रहा है, तो ये लोग स्‍वयं Manually उन Codes को Fine Tune कर लेते हैं।

हालांकि इन Languages को सीखने में थोडा समय लगता है, लेकिन इस Languages को सीखने से Development Process में आने वाली भविष्‍य की परेशानियों से बचा जा सकता है और हमारी Site पर हमारा पूरा Control होता है। MS-FrontPage व Dreamweaver Tools का प्रयोग Professional Web Developers केवल अपने Codes Generate करने के लिए नहीं करते हैं, बल्कि इन Softwares द्वारा अपनी Web Site को बेहतर तरीके से Manage करने के लिए करते हैं। (Manual Coding:)

HTML Vs XHTML. The Differences?
Create your first web page wit easy to follow steps.

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।