Oracle Logical Schema – It’s different than Physical Schema

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Oracle Logical Schema: ये Physical Files होती हैं, जहां पर Data को Store किया जाता है और इसे हम Data का Physical Representation भी कह सकते हैं। हमें इन Files का Backup समय-समय पर लेते रहना चाहिए।

हर वह Data File जिसका Extension सामान्‍यतया .ora या .dbf होता है, वह Native Operating System File Structure के आधार पर Data Blocks का एक समूह होता है। इस Base Level के उपर Oracle अपने Logical Structure को Impose करता है। इस तरह से Oracle विभिन्न Platforms पर अपने Database को Run करता है, जो कि बहुत ही मामूली रूप से Native Operating System पर निर्भर होता है।

Logical Structure

Oracle अपना Logical Database Structure उस Disk Space से बनाता है, जो Operating System Oracle को प्रदान करता है। ध्‍यान रखें कि Database शब्द वास्तव में Oracle Database के File Part पर Apply होता है ना कि Memory या Process Based Part पर। Oracle अपने Logical Structure को Tablespaces के आधार पर Maintain करता है और हर Tablespace के लिए Files को Resource की तरह Use करता है। Oracle के Logical Structure के विभिन्न हिस्सों को हम निम्नानुसार समझ सकते हैं:

Database

Database Data का एक Total Collection होता है, जो कि एक Separate Unit की तरह होता है। Physically ये Data Files की एक Series होती है, जबकि Logically ये Tablespaces का Group होता है।

Tablespace

Tablespace Storage का एक Logical Unit होता है, जिसे किसी विशेष Purpose के लिए DBA द्वारा Setup किया जाता है। SYSTEM Tablespace Oracle के लिए सबसे जरूरी Tablespace होता है और Oracle स्वयं ही इसे Automatically Create करता है। Users इस Tablespace का प्रयोग Dictionary InformationSystem Definitions के लिए करता है।

हमें Sorting के काम के लिए Temporary Memory Area में TEMPORARY नाम का एक Tablespace भी Add करना चाहिए और हमें कम से कम एक और Tablespace Create करना होता है, जिसका प्रयोग User Data के लिए किया जाना होता है। यदि हम User Data के लिए एक अलग Tablespace Create नहीं करते हैं, तो हमें SYSTEM Tablespace को ही User Data Hold करने के लिए Use करना पडता है।

हमें सामान्‍यतया सभी Applications के लिए एक Tablespace Create करना चाहिए और हर Index के लिए भी एक अलग Tablespace Create करना चाहिए। हमें Rollback Segments के Data को Hold करने के लिए भी एक Tablespace Create करना चाहिए।

इस Special Tablespace को Create करने का कारण ये है कि यदि किसी Tablespace में Online Rollback Segment के Data हों] तो उस Tablespace को Offline में Use नहीं किया जा सकता है। इसलिए Rollback Segments को सभी अन्‍य Segments से अलग यानी Isolated रखा जाना जरूरी होता है।

हर Tablespace में Physically एक या एक से ज्‍यादा Data Files होती हैं, जिन्हें हम उस स्थिति में समान Disk पर Hold करके रख सकते हैं, जब हमारे पास अधिक Disks ना हों। Logically एक Tablespace Segments का एक Group होता है, जो कि Database के Internal Structures को Organize करने का काम करता है।

Tablespaces को Offline भी बनाया जा सकता है या इसे बाकी के Database को बिना प्रभावित किए हुए स्वतंत्र रूप से Backed Up भी किया जा सकता है। फिर भी SYSTEM Tablespace को किसी भी हालत में Offline नहीं बनाया जा सकता।

Segments

हर Segment एक अमुक प्रकार के Database Structure को Represent करता है। हर Segment Extents के एक समूह का बना होता है। Segments कई प्रकार के होते हैं, जिन्हें निम्नानुसार समझा जा सकता है:

  • Data Segments

      Oracle के Database में हर Non-Clustered Table के लिए एक Data Segment होता है।

  • Cluster Segments

हर Cluster के लिए एक Cluster Segment होता है। ये Cluster उन एक या एक से ज्‍यादा Tables को Hold करने का काम करता है, जिन्हें Database Designer ने आपस में Physically नजदीक रखने के लिए Decide किया है, ताकि Tables की Performance को Improve किया जा सके।

  • Rollback Segments

Oracle में हमेंशा कम से कम एक या अधिक Rollback Segment होता है, जो कि Oracle के SYSTEM Tablespace में होता है। इन Segments को इस Information को Hold करने के लिए Use किया जाता है, यदि जरूरत हो तो किसी Transaction को किस प्रकार से Roll Back किया जा सकता है।

  • Index Segments

        इनका प्रयोग किसी Individual Indexes को Hold करने के लिए किया जाता है।

  • Temporary Segments

इस Area को Temporary Work Area के रूप में Use किया जाता है, जिसमें Sorting जैसे किसी काम को पूरा किया जाता है। ये Segments सामान्‍यतया Temporary Type के Tablespace में उपस्थित होते हैं।

हमें हमेंशा एक Temporary Tablespace को Create करना चाहिए और इसे CREATE USER Command में Specify करना चाहिए। यदि हम स्वयं ये Segment Create नहीं करते हैं, तो Oracle स्वयं SYSTEM नाम के Tablespace के Segments को Use करके इससे सम्बंधित काम को पूरा करता है।

Extents

Extent किसी Data File के Data Blocks का एक Contiguous Group होता है, जो किसी Particular Type की Information को Hold करने का काम करता है। Extents आपस में Logically Group होकर एक Segment के रूप में Identify होते हैं।

Database Blocks

Database Blocks किसी Database के Logical Storage का Lowest Level होता है। हम Database Blocks का प्रयोग करके Schema Objects जैसे कि Table, View आदि को Create करते समय उनके लिए Storage Requirement को Define करते हैं। हर Logical Database Block को एक या एक से ज्‍यादा Physical Operating System Blocks द्वारा Represent किया जाता है।

Oracle Datafile Architecture - 3rd part of Oracle Architecture

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।