Learn Referential Integrity Constraint with Example. It’s simple.

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Referential Integrity Constraint with Example: पिछले Paragraph में Data के Access होने का जो तरीका बताया गया है, वह तरीका तब तक अच्छे तरीके से काम करता है, जब तक किसी कारणवश कोई एसा Record Orders Table में नहीं होता है, जिसमें OrderID Filed में Null हो। क्योंकि यदि Order Table में OrderID Field में Null Stored हो, तो उस Row से Match होने वाला कोई Record Order Lines Table में प्राप्त नहीं होगा। ये एक बहुत ही अवांछित स्थिति होती है, क्योंकि इस स्थिति में Order किए गए Items को Ship नहीं किया जा सकता है, क्योंकि इस स्थिति में एसा कोई तरीका नहीं होता है, जिससे ये पता लगाया जा सके, कि उस Order को किस Customer ने Place किया है।

इसलिए इस प्रकार की स्थितियों से बचने के लिए Relational Data Model Referential Integrity नाम के एक Constraint को Enforce करता है, जो ये तय करता है कि हर Non-Null Foreign Key Value किसी Existing Primary Key Value से जरूर Match हो। किसी Relational Database में Use किए जाने वाले सभी Constraint की तुलना में ये सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण Constraint होता है, क्योंकि ये Database के विभिन्न Entities के बीच के Cross-Reference की विश्‍वसनीयता या Consistency को सुनिश्चित या Ensure करता है।

Referential Integrity Constraints Database में Stored होते हैं और इन्हें DBMS द्वारा Enforce किया जाता है। अन्य Constraints की तरह ही, User जब भी Database में Stored किसी Data को Modify करने की कोशिश करता है या Database में नया Data Enter करता है, DBMS इस Constraint को Check करता है और इस बात का Verification करता है कि उस Data से सम्बंधित सभी Entities आपस में पूरी तरह से Compatible हैं।

यानी हर Foreign Key उसके Primary Keys से Matched है। यदि इस Input किए जाने वाले या Modify किए जाने वाले Data द्वारा इस Constraint को Violet किया जाता है, तो DBMS उस Data Modification या Insertion को Allow नहीं करता और Database में स्थित किसी भी Entity के किसी भी Data को किसी भी प्रकार से Change नहीं करने देता है।

हमेंशा ये जरूरी नहीं होता है कि किसी Table की Foreign Key हमेंशा किसी दूसरी Table के Primary Key से ही Refer हो, बल्कि Foreign Key को केवल एक Primary Key के Reference की ही जरूरत होती है, इसलिए हम एक Foreign Key के साथ उसी Table की Primary Key का Reference भी Set कर सकते हैं, जिसमें वह Foreign Key Stored है। उदाहरण के लिए निम्न Employee Relation को देखिएः

Employee ( EmpID, FName, LName, Dept, MngrID)

चूंकि Manager भी एक Employee ही होता है, इसलिए हालांकि इस Relation में MngrID को EmpIDसे अलग नाम दिया गया है, लेकिन फिर भी वास्तव में MngrID एक Foreign Key है, जो कि अपनी ही Table के Primary Key को Refer कर रहा है। इसलिए जितनी बार भी एक User एक MngrID Input करता है, DBMS हर बार इस बात को Ensure करता है कि वह Manager एक Employee की तरह उस Table में पहले से ही Exist है। (Referential Integrity Constraint with Example)

How to Make Relationship in Core Data? It's not too hard.
Views in DBMS. It's just Virtual Tables.

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।