Early Binding and Late Binding in C++ – Virtual Functions

Early Binding and Late Binding in C++: पिछले Post के आधार पर आप सोंच सकते हैं कि Compiler एक ही प्रकार के Statement के Response में ये कैसे तय करता है कि उसे किस Class के Member Function को Execute करना है? पिछले Post के पहले उदाहरण में हमने देखा कि Compiler हमेंशा Base Class के Member Function को ही Execute करता है लेकिन दूसरे उदाहरण में Compiler को ये पता नहीं होता है कि Pointer ptr में किस … [Read more...]

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Polymorphism and Overloading

जैसाकि हमने पहले भी बताया कि एक Class "C" के Structure का ही Modified रूप है। यानी हम Structure प्रकार के Variable तो Declare कर सकते हैं, लेकिन जिस प्रकार से Built - In प्रकार के Data Type के दो Variables को हम आपस में जोड सकते हैं, ठीक उसी प्रकार से किसी Structure के दो Variables को हम नहीं जोड सकते। इसे समझने के लिये हम एक उदाहरण देखते हैं। माना एक Structure निम्नानुसार है- struct Add { … [Read more...]

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।