WordPress Database Schema

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

WordPress Database Schema – वर्तमान समय में लगभग हर Web Application या Web Site, Database से Connected है और Database में ही इनके Data Stored रहते हैं। WordPress भी अपने Data को MySQL Database को Data Storing के लिए Backend के रूप में Use करता है।

इस MySQL Database में WordPress अपनी Web Site से सम्बंधित सभी प्रकार के Data को Store करके रखता है, जिसमें Content, User Information, Links, Metadata Information, Settings, आदि होता है।

WordPress में विभिन्न प्रकार की Information को Store करने के लिए कुल 11 Tables का ही प्रयोग किया गया है। जबकि Joomla व Drupal जैसे CMS में लगभग 100 या ज्यादा Tables होती हैं।

इसीलिए WordPress को Joomla या Drupal की तुलना में सीखना व उपयोग में लेना ज्यादा आसान होता है क्योंकि 11 Tables व उनमें Store किए जा सकने वाले Data को आसानी से समझा व याद रखा जा सकता है।

हालांकि WordPress का Database काफी छोटा है लेकिन फिर भी CMS से सम्बंधित ऐसी कोई जरूरत नहीं है, जिसे इन 11 Tables के माध्‍यम से पूरा न किया जा सके। साथ ही हम हमारी जरूरत के अनुसार अपनी Theme या Plugin की Information को Store करने के लिए Extra Tables Create कर सकते हैं और WordPress हमें उन Extra Tables के Data को Access व Manipulate करने के लिए कई तरीके Provide करता है।

WordPress Database Structure व उनकी सभी Tables के बीच की आपसी Relationship को समझना हमारे WordPress Development के लिए काफी उपयोगी साबित होता है और WordPress की विभिन्न Tables के बीच की आपसी Relationship को हम निम्न चित्रानुसार आसानी से समझ सकते हैं:

WordPress Database Schema - Hindi

WordPress Database Schema – Hindi

जबकि सभी Tables के सभी Fields निम्न चित्रानुसार होते हैं:

WordPress Database में जब भी कोई बडा Change किया जाता है, उसकी Information http://codex.wordpress.org/Database_Description#Changelog पर Provide किया जाता है। ये Changes काफी Minor होते हैं, जैसे किसी Table के किसी Field  के Data Type को Change करना या किसी Table के किसी ऐसे Field को Remove करना जो कि अब उपयोगी नहीं है।

Backward Compatibility बनाए रखने के लिए Database में जब भी कोई Change किया जाता है तो इस बात को विशेष रूप से ध्‍यान रखा जाता है कि किए गए Change का प्रभाव किसी भी तरह से पहले से Available Plugin व Theme पर न पडे।

WordPress API
WordPress Database Structure

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।