WordPress Hooks are foundation of any WP Theme and Plugin

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

WordPress Hooks Explained: WordPress को Extend करने के लिए, WordPress हमें कई तरह के Hooks Provide करता है, जिनके माध्‍यम से हम WordPress के Core Codes के Execution के दौरान अपना स्वयं का Code Execute करने के लिए उसे WordPress Initialization Sequence में Append कर सकते हैं।

यानी WordPress हमें एक ऐसा Hook System Provide करता है, जिसका प्रयोग करके हम WordPress Initialization Process के दौरान ही Response के रूप में Return होने वाले Content को अपनी जरूरत के अनुसार Change कर सकते हैं अथवा किसी Specific Event की स्थिति में यानी किसी Specific Action के Perform होने की स्थिति में हम हमारे स्वयं के किसी Function Code को Execute करके किसी Specific Type की जरूरत को पूरा कर सकते हैं।

Hooks, WordPress Initialization Process के कुछ ऐसे Specific Points या Locations होते हैं, जहां हम हमारे Plugin Code को Attach कर सकते हैं। यानी हम हमारे स्वयं के Custom Functions को Execute होने के लिए Attach (Hook) कर सकते हैं। परिणामस्वरूप जब WordPress Initialization Process के दौरान WordPress Control किसी Specific Code Location या Point पर पहुंचता है, उस Attachment Point (Hook) के लिए Execution हेतु Registered हमारा Custom Function Execute हो जाता है।

Hooks, WordPress Platform का एक बहुत ही महत्वपूर्ण Concept है, क्योंकि इसी का प्रयोग करके हम WordPress के Initialization Process के दौरान Theme या Plugin के माध्‍यम से Execute होने वाले Core Codes को Modify करने की क्षमता प्राप्त करते हैं।

Hooks के कारण WordPress Platform एक Event Driven Architecture आधारित Platform की तरह Treat करता है और इसके Event Driven होने की वजह से Plugin Development करते हुए WordPress की Functionalities को Extend करना काफी आसान हो जाता है।

इसका मतलब ये है कि WordPress Plugin कोई Second-Class Functionality नहीं है बल्कि WordPress के Core Codes के साथ काम करने के लिए स्वयं WordPress Core द्वारा Provide किया गया एक माध्‍यम है।

WordPress के इस Hook Architecture का प्रयोग करके हम बिना WordPress Core की Size को Increase किए हुए अपनी Requirements के आधार पर External Codes को WordPress Core Codes में Append करके WordPress की Functionalities को Extend कर लेते हैं। जबकि जरूरत समाप्त हो जाने पर अथवा जरूरत न होने पर इन Plugins को Deactivate या Remove करके इन्हें बडी ही आसानी से WordPress Core Codes से हटा भी सकते हैं।

WordPress Hooks Explained: WordPress Hooks Basics

Hooks Architecture को ठीक से समझे बिना हम WordPress को उसकी पूरी Flexibility व Strength के साथ उपयोग में नहीं ले सकते। इसलिए सबसे पहले हम WordPress के Hook Architecture को ही समझने की कोशिश करते हैं।

WordPress की Functionality को Extend करने के लिए हम WordPress द्वारा Provided WordPress Plugin API को Use करते हैं जो कि मूल रूप से दो Core Elements, ActionsFilters पर आधारित है और इन्हीं Actions व Filters को Actions HookFilter Hook कहा जाता है। हालांकि ये दोनों Conceptually काफी अलग हैं लेकिन फिर भी इन दोनों का Practical Implementation लगभग एक समान ही होता है।

WordPress Hooks Explained: Actions Hook

Actions Hook, WordPress के Event Driven Hooks हैं। यानी जब WordPress Initialization के दौरान क्रम से विभिन्न Core Codes Execute होते हैं, तो उन विभिन्न Core Codes के Completion Points को एक Action Hook की तरह Define कर दिया गया है।

उदाहरण के लिए जब हम किसी Post को Save करते हैं, तो Post को Save करने के लिए WordPress का कोई न कोई Core Code Execute होता है। जैसे ही ये Core Code Execute हो जाता है, हमारा कोई Specific Post Database में Save हो जाता है और जैसे ही हमारा Post Database में Save होता है, एक Action Event Trigger होता है।

यानी WordPress में जब भी कोई Event Trigger होता है अथवा दूसरे शब्दों में कहें तो कोई Specific Action Perform होता है, उस Action को Action Hook द्वारा Identify किया जाता है। जैसे:

  • Post का Save होना,
  • Admin Page का Load होना,
  • HTML Codes यानी Response का Web Browser को Send होना, आदि।

WordPress Plugins में इन Actions के Perform होने यानी Events के Trigger होने पर किसी Custom Code या Function को इन Events से सम्बंधित किसी Specific Core Code Location पर Hook या Attach करने की Capability होती है।

यानी WordPress में जब भी कोई Action Hook Trigger होता है, WordPress Core Code में किसी Specific Location पर हम हमारे किसी Custom Function Code को Execute होने के लिए Attach कर सकते हैं।

परिणामस्वरूप Action Hook के Trigger होते ही हमारा Custom Function Code, Execute हो जाता है और Custom Function Code के Execute होने के बाद फिर WordPress Initialization Process का अगला Core Code Execute होने लगता है।

Plugins न केवल WordPress के Events के साथ किसी Custom Function Code को Hook या Attach कर सकते हैं बल्कि स्वयं का Custom Event भी Create कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए जब हम किसी Post को Save करते हैं, तब Save Action के Perform होने पर Save Event Trigger होता है और इस Event के साथ हम किसी ऐसे Plugin को Hook कर सकते हैं, जो कि Post को Save करते ही Execute हो जाता है। साथ ही इस Plugin में हम ऐसा Code लिख सकते हैं, जो स्वयं Execute होते ही किसी Web Server को Ping करके उसे इस बात की Information दे सकता है कि एक नया Post Create करके Save किया गया है।

WordPress Hooks Explained: Filters Hook

Filters Hook, WordPress के Response के रूप में Return होने वाले Content को Modify करता है। ये Content किसी Post या Page का Text हो सकता है, Author का नाम हो सकता है, या Database से Retrieve किया गया कोई Option हो सकता है।

Filters ऐसे Functions होते हैं जो हमेंशा Argument के रूप में Data Accept करते हैं और Processing करने के बाद फिर से Return Value के रूप में Data Return करते हैं।

Actions HookFilters Hook में मूल अन्तर यही है कि Actions Hook हमेंशा किसी न किसी WordPress Action यानी WordPress Event के Response में Execute होते हैं और इन्हें किसी प्रकार के Data की जरूरत Compulsory रूप से नहीं होती। जबकि Filters Hook को हमेंशा Data की जरूरत होती है।

WordPress Hooks Anatomy. If you want to create WP Plugin and Theme, you must need to understand it.

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

WordPress in Hindi - BccFalna.com ये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Advance WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Advance WordPress in Hindi | Page: 835 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।