HTML Vs XHTML. The Differences?

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Difference between HTML vs XHTML: XHTML के नियमों को समझ लें, तो हम इन दोनों Languages के बीच के आपसी अन्‍तर को भी समझ सकते हैं। XHTML के विभिन्‍न Restrictions व विशेषताएं निम्‍नानुसार हैं:

Include XML Declaration

HTML की तुलना में XHTML के Syntax ज्‍यादा Strict होते हैं। चूंकि XHTML को XML में लिखा गया है, इसलिए जब हम एक XHTML Document बनाते हैं, तब वास्‍तव में हम एक XML Document भी बना रहे होते हैं। इसलिए हम हमारे Document की शुरूआत निम्‍नानुसार एक Optional Line से भी कर सकते हैं, जो कि सभी XML Documents में एक Optional Declaration होता है।

<?xml version=”1.0” encoding=”UTF-8” ?>

यदि हम हमारे Document में इस XML Declaration को Include करते हैं, तो ये Statement हमारे Document का सबसे पहला Statement होना जरूरी होता है, यहां तक कि इस Statement से पहले एक Blank Space भी नहीं होना चाहिए। इस Statement द्वारा हम अपने Web Browser को ये बताते हैं कि हम हमारे Document में XML के 1.0 Version के Standards के आधार पर नए Elements भी Create करने की सुविधा प्राप्‍त करना चाहते हैं और encoding Attribute द्वारा हम ये बताते हैं कि हम हमारे Document में किस Encoding को Support करवाना चाहते हैं।

उदाहरण के लिए यदि हम हमारे Web Page में हिन्‍दी भाषा में भी Contents लिखना चाहते हैं और हम चाहते हैं कि इस भाषा में लिखे गए Content को दुनियां के सभी नए Web Browsers बिना किसी परेशानी के दिखा सकें, तो हमें Encoding के रूप में “UTF-8” को चुनना होता है, क्‍योंकि हिन्‍दी भाशा के Unicode इसी Encoding के अन्‍तर्गत Defined हैं।

Include a DOCTYPE Declaration

DOCTYPE Declaration इस बात को Indicate करता है कि हम HTML/XHTML के कौनसे Version को उपयोग में ले रहे हैं। इसे Opening <html> Tag को Use करने से पहले Specify किया जाता है। यदि हम हमारे Document में Transitional XHTML 1.0 Version के आधार पर Coding कर रहे हैं, जिसमें हम पुराने HTML 4.01 Version के Elements को Use करना चाहते हैं, तो हमें हमारे Web Browser को ये बात निम्‍नानुसार बतानी होती है:

<!DOCTYPE html PUBLIC "-//W3C//DTD XHTML 1.0 Transitional//EN" "http://www.w3.org/TR/xhtml1/DTD/xhtml1-transitional.dtd">

इसके बजाय यदि हम Strict XHTML 1.0 Version के आधार पर अपने Web Pages तैयार कर रहे हों, तो हमें अपने Web Page में निम्‍न DOCTYPE Declaration Statement को उपयोग में लेना होता है:

<!DOCTYPE html PUBLIC "-//W3C//DTD XHTML 1.0 Transitional//EN" "http://www.w3.org/TR/xhtml1/DTD/xhtml1-strict.dtd">

जबकि यदि हम हमारे Document में Frameset का प्रयोग करना चाहते हैं, तो हमें हमारे Web Page में निम्‍न DOCTYPE Declaration Statement को Use करना होता है:

<!DOCTYPE html PUBLIC "-//W3C//DTD XHTML 1.0 Transitional//EN" "http://www.w3.org/TR/xhtml1/DTD/xhtml1-frameset.dtd">

Strict XHTML Documents में हमें DOCTYPE Declaration Statement को <html> Tag से पहले Use करना जरूरी होता है, जबकि यदि हम Transitional अथवा Frameset Document Create कर रहे हों, तो हम इस Declaration को छोड भी सकते हैं।

Use Lowercase Names

एक HTML Document में हम Uppercase अथवा Lowercase किसी भी तरह के Case में HTML Elements व Attributes को लिख सकते हैं, लेकिन XHTML Document में हमें सभी Element व  Attribute को Lowercase में लिखना जरूरी होता है। हालांकि Elements के बीच के Contents व Attributes के मान Case Sensitive नहीं होते हैं।

Close All Tags Correctly

XHTML में हमें हर Open होने वाले Tag को ठीक तरह से Close करना जरूरी होता है। हम केवल उसी स्थिति में किसी Tag  को Close करने से बच सकते हैं, जबकि वह Tag एक Empty Tag हो। HTML में हम किसी Paragraph को निम्‍नानुसार लिख सकते हैं:

<p> This is a HTML Paragraph Element.
<p> HTML could leave the closing tag.

जबकि इसी Paragraph को यदि हम XHTML में लिखें, तो हमें ये Paragraph Element निम्‍नानुसार Use करना होगा:

<p> This is a XHTML Paragraph Element. </p>
<p> XHTML could not leave the closing tag. </p>

जितनी बार भी एक XHTML Browser एक नए <p> Tag  को Run करता है, वह पिछले </p> Tag के अन्‍त को स्‍वयं ही मान लेता है, लेकिन XHTML तब तक नए Paragraph को नहीं मानता, जब‍ तक कि उसे पहले वाले Paragraph का Closing Tag प्राप्‍त नहीं हो जाता। इसलिए XHTML में हमें हर Tag को ठीक तरह से Close करना जरूरी होता है।

कुछ Tags एसे होते हैं, जिनके Opening व Closing Tag के बीच कोई Content नहीं होता। इस प्रकार के Tags को Empty Tag कहा जाता है। <img> व  <br> एसे ही Empty Tags हैं। इन्‍हें HTML में तो एसे ही लिखा जाता है, लेकिन जब हम XHTML Document बनाते हैं, तब हमें इन Empty Tags को भी Forward Slash के साथ लिखना होता है। यानी हमें इन्‍हें <img /> व <br /> लिखना पडता है।

Attribute Values

जब हम XHTML Attributes को कोई मान प्रदान करते हैं, तब हमें तीन बातें ध्यान में रखनी होती हैं। सबसे पहली बात ये कि हर Value को Double Quotes के बीच Enclosed रखना जरूरी होता है। दूसरी बात ये कि हर Attribute को मान प्रदान करना जरूरी होता है और तीसरी बात ये कि Value के पहले व बाद के Spaces Remove हो जाते हैं, इसलिए हमें Spaces के सम्‍बं‍ध में ध्‍यान रखने की जरूरत नहीं होती है।

HTML Element Must Be The Root Element

किसी भी XHTML Document की शुरूआत हमेंशा <html> Opening Tag से होती है व अन्‍त हमेंशा </html> Closing Tag से होती है। <html> Tag से पहले केवल XML Declaration व  DOCTYPE Declaration Statements ही आ सकते हैं, क्‍योंकि सभी XML Documents में एक Unique Root Element होना जरूरी होता है, जो कि बाकी के पूरे Document को अपने में Included या Contained रखता है। हमारे XHTML Document के सन्‍दर्भ में वह Root Element <html> Tag है।

Tags Must Nest Properly

XHTML Document में हम जिस Tag को सबसे पहले Open करते हैं, उसे सबसे बाद में व जिस Tag को सबसे बाद में Open करते हैं, उसे सबसे पहले Close करना जरूरी होता है। यदि हम एक साथ एक से ज्‍यादा Tags को Open करते हैं, तो हमें इस बात का ध्‍यान रखना होता है। उदाहरण के लिए निम्‍न Statement में पहले <p> Tag को Open किया है और बाद में <em> Tag को इसलिए सबसे पहले हमें <em> Tag को Close करना होता है और बाद में <p> Tag को।

<p> This is a <em>HTML Paragraph Element. </em></p>

जिन उपरोक्‍त नियमों का हमें XHTML Document बनाते समय ध्‍यान रखना जरूरी होता है, HTML Document बनाते समय हमें इन नियमों को ध्‍यान में रखने की जरूरत नहीं होती है। HTML व XHTML Document Creation में ये ही मुख्‍य अन्‍तर हैं। (Difference between HTML vs XHTML)

HTML and XHTML. What is the difference?
Why you must learn Manual Coding of Web Languages?

******

ये पोस्‍ट Useful लगा हो, तो Like कर दीजिए।

HTML5 with CSS3 in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook HTML5 with CSS3 in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

HTML5 with CSS3 in Hindi | Page: 481 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।