Advantages of Python – Why Learn Python Scripting Language?

Advantages of Python – अगर आप पहली बार Programming सीख रहे हैं और Python आपकी First Programming Language है, तो आप Python से शुरूआत करके कोई गलती नहीं कर रहे हैं। और अगर Python आपकी First Programming Language नहीं है, तो निश्चित रूप से आप जानते हैं कि आप क्‍या और क्‍यों सीखने जा रहे हैं और Python आपके लिए सीखना क्‍यों जरूरी है।

अगर केवल इतना कहा जाए कि यदि आप सिर्फ Python को ठीक से सीख लें, तो आपको किसी भी तरह की Programming से सम्‍बंधित जरूरत को पूरा करने के लिए किसी भी अन्‍य Programming Language को सीखने की जरूरत नहीं रहेगी, तो ये बात बिल्‍कुल भी गलत नहीं होगी।

क्‍योंकि Python अपने आप में इतना विस्‍तृत और बहुआयामी विषय है, जिसे पूरी तरह से सीखने में हफ्ते, महीने नहीं, बल्कि सालों का समय भी कम पड़ सकता है और इसी तथ्‍य को हम इस Chapter में थोड़ा विस्‍तार से समझने की कोशिश करेंगे कि क्‍यों सीखना चाहिए Python को और किन-किन तरह की जरूरतों को आसानी से पूरा किया सकता है Python द्वारा।

Advantages of Python

हालांकि वर्तमान में ढ़ेर सारी अन्‍य आधुनिक Programming Languages हैं, जो कि लम्‍बे समय से विभिन्‍न प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए Use हो रही हैं। इसलिए किसी के भी मन में ये सवाल पैदा हो सकता है कि आखिर Python को क्‍यों सीखा जाए जबकि ढ़ेर सारी अन्‍य Modern Programming Languages पहले से ही सफलतापूर्वक उपयोग में ली जा रही हैं।

इस सवाल का जवाब ठीक से समझने के लिए हमें Python के Advantages को समझना होगा। इसलिए, सबसे पहले हम Python की उन विशेषताओं को ही देख लेते हैं।

Python is an Scripting Language

Python एक General Purpose Programming Language है जो Procedural, Functional व Object Oriented Paradigm तीनों को समान रूप से और पूरी Capabilities के साथ Support करता है।

सामान्‍यत: लोग Scripting Language व Programming Language को अलग-अलग समझते हैं जो कि आंशिक रूप से सभी भी है लेकिन अक्‍सर लोग किसी Scripting Language को Programming Language की तुलना में कमजोर व कम उपयोग समझ लेते हैं, जो कि पूरी तरह से गलत है।

वास्‍तव में एक Programming Language व Scripting Language में केवल मात्र इतना ही अन्‍तर होता है कि Programming Language के Codes, एक ही बार में Compile हो कर Machine Language Codes में Convert हो जाते हैं, जिसकी Current Operating System पर आधारित एक अलग Executable File बन जाती है परिणामस्‍वरूप हम जब भी कभी इन Compiled Code वाले Programs को Run करते हैं, हमें इनकी Source Code File की जरूरत नहीं रह जाती।

लेकिन जिन Programs को हम किसी Scripting Language का प्रयोग करते हुए Develop करते हैं, वे हमेंशा Source Codes के रूप में ही रहते हैं और इन Programs को हमें जब भी कभी Run करना होता है, हमें उस Language के Interpreter की जरूरत पड़ती है, जिसका प्रयोग करते हुए हमने उस Scripting Language के Program को Develop किया है क्‍योंकि ये Interpreter ही उस Program के Source Codes को Machine Language Code में Convert करता है जो कि पूरी तरह से RAM में रहता है और जैसे ही हम उस Scripting Language के Program को Terminate कर देते हैं, हमारा Machine Code भी पूरी हमारे Computer की Memory से पूरी तरह से Destroy हो जाता है।

इस प्रकार से Programming Language व Scripting Language में केवल इतना ही अन्‍तर है कि Programming Language के Compiled Codes की एक Separate Executable File बन जाती है जिसके लिए फिर से Source Code File की जरूरत नहीं रहती। जबकि Scripting Language के Source Codes को एक Interpreter द्वारा हर बार Machine Codes में Translate करके Execute किया जाता है।

अत: यदि सरलतम शब्‍दों में कहें, तो प्रत्‍येक Scripting Language अपने आप में एक Complete Programming Language ही होती है और एक Scripting Language द्वारा हर उस जरूरत को पूरा किया जा सकता है, जिसे पूरा करने के लिए हम किसी Compiled Language को Use कर सकते हैं।

Python, PHP, Perl, JavaScript, TypeScript, ActionScript, CoffeeScript, Ruby, ASP, JSP, VBScript, Tcl, Lua, Unix Shell Scripts (ksh, csh, bash, sh, etc…), Windows Batch Script, PowerShell आदि सभी Scripting Languages भले ही कहलाती हों, लेकिन ये सभी अपने आप में पूर्ण Programming Languages हैं और इन्‍हें किसी भी Compiled Language से कम समझने की गलती न करें।

Python is High Performing Scripting Language

Python एक ऐसी Language है, जो C/C++ जैसी क्षमताओं से युक्‍त है और लगभग C/C++ जितनी ही Powerful है।

इसलिए न केवल High Level Application Software से सम्‍बंधित जरूरतों को पूरा करने के लिए बल्कि Machine Dependent Low Level Application Software से सम्‍बंधित जरूरतों को भी आसानी से पूरा करने के लिए Python को बहुत ही प्रभावशाली तरीके से Use किया जा सकता है और इसीलिए Python, वर्तमान समय की सबसे ज्‍यादा तेज गति से Use होने वाली Programming Language बन चुकी है।

C/C++ के बाद अगर System Level Programming के लिए किसी एक Language पर भरोसा किया जा सकता है, तो वो Python ही है क्‍योंकि Python, C/C++ Code Libraries को बड़ी ही आसानी से Reuse कर सकता है और High Performance Result दे सकता है और ऐसा इसीलिए है क्‍योंकि Python, C/C++ के बाद अस्तित्‍व में आया, इसलिए इसे शुरू से ही C/C++ के Compatible रखा जाना जरूरी था जो कि अपने समय की ही नहीं, बल्कि वर्तमान की भी सबसे ज्‍यादा Powerful Compiled Programming Languages हैं और आज भी जहां High Performance की जरूरत होती है, C/C++ का कोई भी अन्‍य Alternative नहीं है।

लेकिन अक्‍सर जब Performance के साथ Fast Development Speed की भी जरूरत होती है, तब एकमात्र Python ही C/C++ के Best Possible Alternative का Role Play करने में पूरी तरह से सक्षम हो पाता है।

Python is Multi-Purpose Scripting Language

Python की सबसे बड़ी विशेषता ये है कि Python Language के Programming Codes की Readability काफी अच्‍छी होती है क्‍योंकि Python को बनाया ही इसी तरह से गया है ताकि इसके Program Codes आसानी से Readable रहें। साथ ही किसी भी अन्‍य Scripting Language की तुलना में कहीं ज्‍यादा आसानी से Reusable व Maintainable भी रहें।

Python Scripting के Syntax काफी आसानी से याद हो जाते हैं। क्‍योंकि विभिन्‍न प्रकार के Data Structures को लगभग समान प्रकार के Python Codes द्वारा Specify किया जाता है। यानी Dictionary Create करने के लिए लिखे गए Code और Tuple Create करने के लिए लिखे गए Code में केवल Curly Braces व Bracket का ही अन्‍तर होता है।

इसीलिए यदि आप Dictionary Create व Manipulate करने से सम्‍बंधित Codes को समझ लें, तो आपने काफी हद तक Tuple को Create व Manipulate करने का Code भी समझ ही लिया होता है क्‍योंकि दोनों ही Data Structures को Access व Manipulate करने से सम्‍बंधित सभी Functionaries लगभग एक समान ही हैं।

इसी वजह से Python को सीखना, समझना और याद रखना किसी भी अन्‍य Programming Language को सीखने की तुलना में कहीं ज्‍यादा आसान व Fast होता है और एक बार Python को सीख लेने के बाद तरह-तरह की जरूरतों को पूरा करने के लिए बार-बार Python के Manual को नहीं देखना पड़ता।

Python को Develop करते समय इसके Creators के दिमाग में यही बात थी कि एक ही काम को करने के लिए चाहे जितने भी तरीके हों, लेकिन सभी तरीकों में लिखे जाने वाले Codes में एकरूपता रहनी चाहिए। ताकि किसी Task को Complete करने के लिए चाहे जो भी तरीका अपनाया गया हो, लेकिन सभी तरीके एक दूसरे के समरूप हों ताकि कोई भी Programmer किसी दूसरे Programmer द्वारा लिखे गए Codes को आसानी से पढ़ व समझ सके।

अन्‍य शब्‍दों में कहें तो Python में किसी Task को Complete करने का एक निश्चित तरीका होता है जो कि Most Obvious तरीका होता है। फिर उसी Task को Complete करने के कुछ अन्‍य Alternative तरीके होते हैं जो छोटे-मोटे Changes के साथ उस पहले तरीके को ही Follow कर रहे होते हैं।

एक ध्‍यान रखने वाली बात ये है कि Python हमारे लिए किसी भी तरह के Automated Decisions नहीं लेता जैसाकि अन्‍य Modern Programming Languages में होता है। उदाहरण के लिए कई Programming Languages में Double Quotes के बीच कुछ भी न लिखा जाए, तो वह Programming Language उस String को Default रूप से Empty String मान लेता है। लेकिन Python में हम ये उम्‍मीद नहीं कर सकते कि Python किसी String को स्‍वयं अपने स्‍तर पर Empty String मान लेगा बल्कि जब भी कभी जरूरत होगी, हमें Manually Empty String को Specify व Compare करना होगा।

इसलिए यदि आप C/C++, Java, C# जैसी Programming Languages सीखने के बाद Python सीख रहे हैं, तो तरह-तरह के Bugs से बचने का एक ही तरीका है कि आप इन Languages के Implicit तरीकों को भूल जाऐं और हमेंशा Explicit तरीकों पर ही विश्‍वास करें।

Python Codes की Uniformity (एकरूपता) के कारण इसमें लिखे Codes आसानी से समझ में आ जाते हैं, फिर भले ही उन Codes को आपने लिखा हो या किसी दूसरे Programmer ने। इसके अलावा Python एक ऐसा Scripting Language है जो Functional ProgrammingObject Oriented जैसे कई उन तरीकों को Support करता है, जिनके माध्‍यम से Code Re-usability की सुविधा को भी प्राप्‍त किया जाता है। जिसके परिणामस्‍वरूप Python एक बहुत ही Powerful Scripting Language बन जाता है और किसी भी तरह की Programming से सम्‍बंधित समस्‍या का समाधान प्राप्‍त करने के लिए Python को उतनी ही सक्षमता के साथ Use किया जा सकता है जितना किसी अन्‍य Modern Programming Language जैसे कि C/C++, Java, C# आदि को।

Python is Developer Friendly Scripting Language

C/C++, Java, C# जैसी CompiledStatically Typed Programming Languages की तुलना में Python Programmer की Productivity कई गुना ज्‍यादा Increase हो जाती है। क्‍योंकि इन Programming Languages द्वारा जिन कामों को करने के लिए जितने Program Codes लिखने पड़ते हैं, उनकी तुलना में Python में केवल 20% से 30% Program Codes द्वारा ही उन कामों को कर लिया जाता है।

यानी Python में हमें काफी कम Program Codes लिखने पड़ते हैं जिसकी वजह से एक Developer के रूप में हमारा काम काफी आसान हो जाता है। क्‍योंकि हमें कम Codes Type करने पड़ते हैं, कम Codes Debug करने पड़ते हैं और एक बार Application Complete हो जाने के बाद कम Codes Maintain करने पड़ते हैं। परिणामस्‍वरूप एक Python Programmer का जीवन, C/C++, Java, C# Programmer की तुलना में काफी आसान हो जाता है।

इतना ही नहीं, Python एक Interpreter Based Scripting Language है, इसलिए इसे Develop करने के बाद हमें इसे C/C++, Java, C# जैसी Programming Languages की तरह लम्‍बे Compile and Linking Process को भी Follow नहीं करना पड़ता बल्कि हम जैसे ही Program लिखते हैं, उसे तुरन्‍त Interpret करके उसे Output को Test कर सकते हैं और Application Development के दौरान इस बार-बार के Time Consuming व Lengthy Compiling and Linking Process से बच जाते हैं, जिससे एक Python Programmer के रूप में हमारा काम काफी आसान हो जाता है। जबकि एक बड़े C/C++, Java, C# आधारित Application Software को Development के दौरान बार-बार Compile and Linking Process Follow करना पड़ता है, जिसमें काफी ज्‍यादा समय बर्बाद होता है।

Python एक ऐसी Scripting Language है जिसमें कम Codes द्वारा ज्‍यादा Tasks Complete किए जाते हैं और इसे मूल रूप से Development की Speed को कम से कम करने के लिहाज से ही Develop किया गया है ताकि कम से कम समय में Best Possible Application Software Develop किया जा सके।

Python द्वारा Provide किए जाने वाले Simple Coding Syntax, Dynamic Typing, Compiling and Linking से सम्‍बंधित Lengthy Steps से छुटकारा व Built-In Toolsets की वजह से एक Python Programmer किसी भी अन्‍य Programming Language की तुलना में कहीं कम समय में Up and Running Application Software Develop कर पाता है जिससे न केवल Development Cost कम हो जाती है बल्कि Application को Debug, Manage व Maintain करना भी काफी आसान हो जाता है।

Python is Portable Scripting Language

लगभग सभी Python Programs बिना किसी तरह का कोई Change किए हुए किसी भी Computer System पर ज्‍यों का त्‍यों Run हो जाते हैं। यदि हमने किसी Python Program को Linux पर Develop किया हो, तो उसे MacOS या Windows System पर Run करने के लिए हमें केवल उस Program की Script को Source Computer System से Target Computer System पर Simple Text File के रूप में Copy-Paste करना होता है और अगर Target Computer System पर भी Compatible Python Interpreter Installed है, तो हम अपनी Script को तुरन्‍त Run कर सकते हैं।

इसके अलावा Python हमें कई Built-In तरीके Provide करता है, जिनके माध्‍यम से Source Computer System के GUI, Database Functionality, Web System आदि को बिना कोई Change किए हुए पूरी Compatibility के साथ Target System पर Port करके बिना किसी परेशानी के Run कर सकते हैं।

जबकि विभिन्‍न Operating System व Computer System Architecture पर GUI, Database, Web Systems आदि पूरी तरह से भिन्‍न होते हैं और Python, विभिन्‍न Operating System व Computer System Architecture के बीच Program Portability की सुविधा Built-In तरीके से ही Provide कर देता है।

Python have Large Collection of Supports

Python के साथ हमें Standard Libraries के रूप में Prebuilt Portable Functionality वाले Codes का एक विशाल Collection मिलता है जिनका प्रयोग करके हम विभिन्‍न प्रकार की Common जरूरतों को बहुत ही आसानी से पूरा कर सकते हैं। ये Libraries विभिन्‍न प्रकार के Application Level Programming Tasks, Pattern Matching, Network Scripting जैसी जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

Python का Standard Libraries का ही विशाल Collection नहीं है, बल्कि विभिन्‍न प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए हमें ढ़ेर सारी Third-Party Libraries भी मिलती हैं, जो उन जरूरतों को बड़ी ही आसानी से पूरा करने में उपयोगी साबित होती हैं, जिन्‍हें Standard Libraries द्वारा आसानी से पूरा नहीं किया जा सकता।

इतना ही नहीं, Python हमें ये सुविधा भी देता है कि हम किसी भी Standard Library अथवा Third-Party Library को Extra-Ordinary जरूरतों को पूरा करने के लिए बड़ी ही आसानी से Extend भी कर सकते हैं।

Python की Flask, Django जैसी Third-Party Libraries का प्रयोग करके हम बड़ी ही आसानी से Websites व Web Applications Develop कर सकते हैं। जबकि SciPy, NumPy, scikit-learn, TensorFlow जैसी Third-Party Libraries का प्रयोग करके हम Python को Artificial IntelligenceMachine Learning जैसी जरूरतों को पूरा करने के लिए Use कर सकते हैं।

इन विभिन्‍न प्रकार की Libraries को Support करने के कारण ही Python को Multi-Purpose Scripting Language कहा जाता है क्‍योंकि विभिन्‍न प्रकार की Supporting Libraries का प्रयोग करके हम एक Python Scripting Language द्वारा कई तरह के Complex Tasks को भी Successfully Complete कर लेते हैं।

Python Supports Multiple Types of Component Integration

Python Scripts विभिन्‍न प्रकार के Integration Mechanisms को Use करके Application के विभिन्‍न Parts से आसानी से Communicate कर सकता है। Python Script को हम एक CustomizationExtension Tool के रूप में भी Use कर सकते हैं। Python द्वारा हम C/C++ Code Libraries को Invoke कर सकते हैं और C/C++ Programs द्वारा Python Script को Call कर सकते हैं।

इसी तरह से Python के साथ Java व .NET Components को भी Integrate कर सकते हैं और Serial Port पर COM Framework के माध्‍यम से SOAP, XML-RPC, CORBA जैसे Interfaces द्वारा किसी दूसरी Device के साथ Interact भी कर सकते हैं।


Special Discount Offer

खरीदिए एक से ज्‍यादा EBooks, और पाईए ₹100 से ₹1200 तक का Extra Cash Discount

Discount Coupon Codes