cPanel Database Management

cPanel Database Management – जब हम Database Driven Dynamical Website या Web Application Create करते हैं, तब हमें हमारा सारा Data Database में Store करना होता है और Database में Data को Store करने के लिए सबसे पहले हमें हमारे Hosting Account पर एक Database Create करना होता है। नया Database Create करने के लिए cPanel के इस Part में हमें MySQL Databases Option को Click करना होता है, जिसके परिणामस्वरूप हमें निम्नानुसार Webpage दिखाई देता है:

cPanel Database Management - Hindi

उपरोक्त चित्रानुसार हम जिस नाम को Textbox में Specify करके “Create Database” Button पर Click कर देते हैं, उसी नाम का एक नया Database Create हो जाता है। इस Newly Create होने वाले Database को Modify करने के लिए भी हमें इसी Webpage पर निम्नानुसार दो Buttons प्राप्त होते हैं:

cPanel Database Management - Hindi

जिनका प्रयोग करके हम हमारे Database को किसी Specific Situation में Check या Repair कर सकते हैं। साथ ही हमारे द्वारा Created सभी Database की Information हमें इसी Webpage पर दिखाई देती है, जहां हम हमारे किसी Specific Database को Delete भी कर सकते हैं।

हम जो भी Database Create करते है, उस Database को तब तक Use नहीं कर सकते, जब तक कि उस Database के साथ कोई User Associated न हो। इसलिए सामान्‍यत: जब हम कोई नया Database Create करते हैं, तो उसी समय इसी Webpage पर निम्नानुसार Information Specify करके नया User भी Create कर लेते हैं:

cPanel Database Management - Hindi

नया User Create करने के बाद हमें उस नए User को अपने Newly Created Database के साथ Associate करना होता है और ऐसा करने के लिए हमें इसी Webpage के निम्नानुसार हिस्से को Use करना होता है:

cPanel Database Management - Hindi

हम हमारी जरूरत के अनुसार एक से ज्‍यादा Database Users भी Create कर सकते हैं और एक से ज्‍यादा Users को समान Database के साथ Associate कर सकते हैं, ताकि एक से ज्‍यादा Users उस Database के Data को Access व Manipulate कर सकें।

जैसे ही हम Newly Created User को Newly Created Database के साथ Associate करने के लिए उपरोक्तानुसार User व Database को Select करके “Add” Button पर Click करते हैं, हमारे सामने निम्न चित्रानुसार All Privileges Page Display होता है, जहां हम इस बात को तय करते हैं कि Newly Created User, जिस Database के साथ Associate हो रहा है, उस Database को किस हद तक Access कर सकता है:

cPanel Database Management - Hindi

हम हमारे User को Database पर जो भी Privileges Provide करना चाहें, इस Form पर वे सभी Privileges Provide कर सकते हैं। Specific Privileges Allow करने के बाद हमें “Make Changes” Button पर Click करना होता है।

cPanel Database Management - Hindi

परिणामस्वरूप इसी Webpage पर हमें हमारे सभी Databases व उनसे Associated Users दिखाई देने लगते हैं, जिन्हें हम चाहें तो अपनी जरूरत के अनुसार Delete, Change या Modify कर सकते हैं।

cPanel के इसी Section में हमें “MySQL Database Wizard” नाम का भी एक Option प्राप्त होता है, जिसका प्रयोग करके हम एक Wizard के माध्‍यम से भी नया Database Create कर सकते हैं। जब हम इस Option को Click करते हैं, तो हमारे सामने निम्नानुसार Wizard का पहला Webpage Display होता है:

cPanel Database Management - Hindi

इस Webpage पर हमें हमारे Newly Create किए जाने वाले Database का नाम Specify करके “Next Step” Button पर Click करना होता है, जिसके परिणामस्वरूप हमारे समाने निम्नानुसार अगला Wizard Webpage Display होता है:

cPanel Database Management - Hindi

इस Webpage पर हमें हमारे Newly Create होने वाले Database के लिए नया User Create करना होता है, जो कि Newly Create होने वाले User से Associate होता है।

उपरोक्त चित्रानुसार Newly Create होने वाले User की Information को Fill करके जैसे ही हम “Create User” Button पर Click करते हैं, हमारे सामने निम्नानुसार अगला Webpage Display होता है:

cPanel Database Management - Hindi

इस Webpage पर हम पहले की तरह ही अपने Newly Create होने वाले User को अपनी जरूरत के अनुसार Privileges Provide करके “Next Step” Button पर Click करते हैं। परिणामस्वरूप हमारे सामने फिर से निम्नानुसार एक और Webpage Display होता है:

cPanel Database Management - Hindi

जो हमें इस बात की Information देता है कि Newly Created Database के साथ Newly Created User Associate हो गया है।

हम यदि चाहें तो और Database Create करने के लिए “Add anointer database.” Hyperlink को Click कर सकते हैं अथवा “Add another user for your MySQL database.” Hyperlink पर Click करके Newly Created Database के लिए और नए Users Create कर सकते हैं अथवा “Return Home” Hyperlink को Click करके मुख्‍य Webpage पर Return हो सकते हैं।

इनके अलावा हमें cPanel के इसी Section में phpMyAdmin नाम का एक और Option प्राप्त होता है, जो कि हमारे MySQL Database को Manage करने के लिए एक प्रकार का Web Application होता है। ये Web Application Exactly उसी के समान होता है जो हमें Local Development के दौरान WAMP, LAMP या XAMPP Package Web Development Package में Available होता है। इस Option को Click करते ही हमारे सामने निम्नानुसार Screen Display होता है:

cPanel Database Management - Hindi

इस phpMyAdmin Application के बारे में Detail से Discuss करना इस पुस्तक में सम्भव नहीं है क्योंकि इस Software के बारे में तभी Detail से Discuss किया जा सकता है, जबकि हम MySQL पर पुस्तक लिख रहे हों और हमारी ये पुस्तक एक Website Create करने व उसे Manage करने से सम्बंधित है।

सामान्‍यत: हमें इस Section का प्रयोग करते हुए अपने Database को Manage करने की जरूरत नहीं होती, बल्कि Database Related सारे काम DBA यानी Web Application के Database को Handle करने वाला Administrator ही करता है।

फिर भी यदि आप DBA Level के Developer हैं, तो आप इस Software का प्रयोग करके अपने Database को पूरी तरह से Handle कर सकते हैं और यदि आपको MySQL जैसे किसी भी Database का ज्ञान है, तो इस Software को Use करने के लिए आपको कुछ Special सीखने की जरूरत नहीं होगी।

इनके अलावा cPanel हमें Remote MySQL नाम का एक और Option Provide करता है, जिसका प्रयोग करके हम localhost पर Local Website या Application द्वारा अपने Remote Web Server के MySQL Database में Stored Data को Access व Manipulate करने की सुविधा प्राप्त कर सकते है। लेकिन सामान्‍यत: Security Reasons के कारण इस Option को Hosting Provider द्वारा Disabled ही रखा जाता है।

इन सभी cPanel Features के अलावा हमें Software/Services Advanced नाम के दो और Panels प्राप्त होते हैं, लेकिन सामान्‍यत: ये Panels पूरी तरह से Web Developer के लिए ही समझने योग्; व उसी के लिए उपयोगी होते हैं, जिनका प्रयोग करते हुए एक Web Developer Special प्रकार की Programming Requirements को Fulfill करने की सुविधा प्राप्त करता है। इसलिए इन दोनों Panels के विषय में हम यहां कोई Discussion नहीं करेंगे।

cPanel Domain Management
cPanel - Softaculous Apps Installer

WordPress in Hindi - BccFalna.comये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook WordPress in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

WordPress in Hindi | Page: 420 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Special Discount Offer

खरीदिए एक से ज्‍यादा EBooks, और पाईए ₹100 से ₹1200 तक का Extra Cash Discount

Discount Coupon Codes