क्‍यों ठीक से सीखना जरूरी है C++?

C++ in HindiC++ in Hindi: वर्तमान समय में जितनी भी Modern Programming Languages Develop की गई हैं, वे सभी Object Oriented Programming System पर आधारित Programming Languages हैं और “C++” एक ऐसी Programming Language है, जिसमें OOPS के नियमों को काफी आसानी से Implement किया जा सकता हैा

यानी Object Oriented Programming System के Concepts को C++ द्वारा काफी आसानी व सुविधापूर्ण तरीके से सीखा जा सकता है। हालांकि C++ वास्‍तव में “C” Language का ही Extended रूप है, जिसे सबसे पहले “C with Class” नाम से जाना गया था। यानी जब “C” Language में Class के Feature को Implement किया जाता है, तब वही C Language एक C++ Language के रूप में Convert हो जाती है।

इसलिए “C” Language में जिन कामों को किया जाता है, C++ Language में उन सभी कामों को उसी तरह से किया जा सकता है। साथ ही “C++” में Object Oriented Concepts का प्रयोग करके Program Codes को Reusable भी बनाया जा सकता है, जो कि Object Oriented Programming System का Key Concept है।

यानी जिस तरह से Programming के Basics को अच्‍छी तरह से सीखने के लिए “C” Language को अच्‍छी तरह से सीखना जरूरी है उसी तरह से Object Oriented Programming को सीखने के लिए “C++” Language को सीखना जरूरी है।

यदि आप “C++” Programming Language को अच्‍छी तरह से सीख लेते हैं, तो आपको दुनियां की किसी भी Object Oriented Programming Language को सीखने में ज्‍यादा समय नहीं लगता। साथ ही जितनी अच्‍छी तरह से आपकी “C++” Language Clear होती है, उतनी ही अच्‍छी तरह से व जल्‍दी से आप किसी भी अन्‍य Object Oriented Programming Language को सीख पाते हैं।

हालांकि “C++” Language का विकास “C” Language के विकास के लगभग कुछ सालों बाद ही हो गया था,  क्‍योंकि “C” Language में विभिन्‍न प्रकार के Business Applications को Manage व Maintain करना काफी मुश्किल हो जाता था। साथ ही ज्‍यादातर Business Applications में बार-बार एक जैसे Codes लिखने पडते थे। इसलिये एक ऐसे तरीके की जरूरत महसूस की गई, जिससे एक बार लिखे गए Codes को अपनी सुविधानुसार बार-बार Reuse किया जा सके और OOPS यानी Object Oriented Programming System के Concepts ने इसी जरूरत को पूरा किया था।

“C” Language की तरह ही “C++” Language का विकास भी काफी समय पहले हो गया था लेकिन फिर भी काफी पुरानी Programming Language होने के बावजूद भी इसे आज भी BCA, PGDCA, MCA, भारत सरकार के Communication Department द्वारा अधिकृत O-Level, A-Level, B-Level व M-Tech Level तक के Courses में “C++” Language को पढाया जाता है।

क्‍योंकि “C++” Language, Object Oriented Programming System के सभी Concepts को पूरी तरह से Implement करने में सक्षम है। जबकि अन्‍य Object Oriented Programming Languages में OOPS के सभी Concepts को पूरी तरह से Implement नहीं किया जा सकता।

जैसाकि हमने पहले भी कहा कि हम जिन कामों को “C” Language द्वारा कर सकते हैं, उन सभी कामों को “C++” Language द्वारा Object Oriented तरीके से भी कर सकते हैं। यानी “C” Language की तरह ही “C++” Language का प्रयोग भी Windows, UNIX, Linux आदि Operating Systems, Oracle Database, MySQL, MSSQL Server, IIS, Apache Web Server, PHP System Level Software को Develop करने के लिए किया गया है।

इसी तरह से विभिन्‍न प्रकार के Mobile Platforms, Satellite Connected Software, Set Top Box आदि के Software भी “C++” Language में Develop किये जाते हैं। iPhone व iPad की Programming के Codes को आसान व Reusable बनाने के लिए “C++” Language को Use किया जाता है।

सभी तरह के Embedded Software, Device Drivers व Network Drivers बनाने के लिए भी “C++” Language को Use किया जाता है। यहां तक कि विभिन्‍न प्रकार की Programming Languages के Assemblers, Compilers, Interpreters, विभिन्‍न प्रकार के Micro-Controllers व OS Kernels को भी “C++” Language में बनाया जाता है।

ज्‍यादातर Multimedia Programs जैसे कि Games, Sound Editing Software, Video Editing Software, Animation Programs आदि को भी मूल रूप से “C++” Language में ही बनाया गया है, क्‍योंकि “C++” Language की Performance “C” Language की तरह होती है और Program के Codes को Reusable व Maintainable बनाने की क्षमता C++ के Object Oriented Concept से प्राप्‍त होती है।

चूंकि C++, “C” Language का ही Extended रूप है, इसलिए C++ Programming Language  का प्रयोग भी  किसी भी Computer या Digital Electronic Device के Hardware को Directly Access करने के लिए किया जा सकता है। यानी “C” Language की तरह ही C++ Language का प्रयोग भी Low Level Hardware Programmingके लिये बहुत ज्‍यादा किया जाता है।

“C” Language की तरह ही “C++” Language में भी ये क्षमता है कि हम इसमें Assembly Language को Inline Assembly के रूप में उपयोग में ले सकते हैं व किसी भी Device के Hardware (Memory, CPU, etc…) को Directly Access कर सकते हैं।

उपरोक्‍त Discussion से ये सारांश न निकालें कि “C” व C++ Languages केवल Hardware Level Programmingके लिए ही उपयोगी है। वास्‍तव में “C” Language किसी भी अन्‍य Programming Language का आधार है। इसलिए Programming का Basic समझने के लिए जिस तरह से “C” Language सीखना जरूरी है उसी तरह से Object Oriented Programming Concepts को अच्‍छी तरह से समझने के लिए “C++” Language को सीखना जरूरी है।

इसलिए यदि आपने “C++” Language को ठीक से नहीं समझा, तो आप कभी भी Object Oriented Programming Concept को ठीक से नहीं समझ पाऐंगे, जो कि वर्तमान समय में सभी Programming Languages का मूल आधार है।”C” Language की तरह ही C++ Language केवल एक Programming Language ही नहीं है, बल्कि ये Object Oriented Programming को आसानी से सीखने का मूल आधार है।

“C++” Programming Language को आसानी से सीखने के लिए हमने “C++ Programming Language in Hindi” पुस्‍तक तैयार की है, जो आपको Step by Step न केवल C++ Language में Programming करना सिखाती है, बल्कि आपको ये भी बताती है कि किसी Program  को Object Oriented तरीके से किस तरह से Develop किया जाता है।

यानी ये पुस्‍तक आपको केवल “C++” Language में Coding करना नहीं सिखाती, बल्कि आपको विभिन्‍न प्रकार की Programming Related Problems को Object Oriented तरीके से Solve करना सिखाती है, जिससे आप केवल Programming Language नहीं सीखते बल्कि Object Oriented तरीके से किसी भी Problems को Solve करना सीखते हैं।

यदि आप Computer Programming Field में अपना Career बनाना चाहते हैं तो ये पुस्‍तक आपके लिए काफी उपयोगी व जरूरी पुस्‍तक है, जिसे आपको जरूर खरीदना चाहिये। क्‍योंकि वर्तमान समय में चाहे किसी भी Programming या Development Field में जाऐं, सभी जगह किसी न किसी तरह की Object Oriented Programming Language में ही Development किया जाता है और यदि आप Object Oriented Programming को ठीक तरह से नहीं जानते, तो किसी भी Company में आपको Job प्राप्‍त होना मुश्किल है।

ये पुस्‍तक PDF EBook के रूप में है, इसलिए आप इस पुस्‍तक को न केवल अपने Computer पर पढ सकते हैं, बल्कि आप इस पुस्‍तक को किसी भी ADOBE Reader Supported Mobile Phone, Tablet PC, Netbook, Laptop पर भी पढ सकते हैं और इसमें दिये गए Programs व Examples को तुरन्‍त Copy करके अपने Computer पर Run कर सकते हैं व Program का Effect देख सकते हैं।

इस पुस्‍तक को PDF EBook के रूप में खरीदने से सम्‍बंधित किसी भी तरह की समस्‍या के समाधान हेतु आप Mobile Number: 097994-55505 पर Call कर सकते हैं, जहां मैं स्‍वयं आपके पुस्‍तक खरीदने से सम्‍बंधित किसी भी तरह के सवाल का जवाब देता हूं अथवा किसी भी तरह के Confusion को Solve करता हूं।

पुस्‍तक खरीदने से पहले आप इसके कुछ SAMPLE CHAPTERS को DEMO EBOOK के रुप मे Download करके भी पढ सकते हैं, ताकि आप जान सकें कि पुस्‍तक कितनी सरल भाषा में लिखी गई है।

ये पुस्‍तक न केवल आपके Programming Career को एक नई दिशा देने में मदद करती है, बल्कि यदि आप कोई Degree Level Course जैसे कि BCA, PGDCA, MCA, O-Level, A-Level, B-Level आदि भी कर रहे हैं, तो भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होती है और आपके ज्‍यादातर Syllabus को Cover करती है।

इस पुस्‍तक की सबसे बडी विशेषता ये है कि ये पुस्‍तक आसानी से समझने योग्‍य हिन्‍दी भाषा में लिखी गई है और हिन्‍दी भाषा के क्लिष्‍ट शब्‍दों का प्रयोग करने के स्‍थान पर इसमें English भाषा के शब्‍दों का प्रयोग ज्‍यादा किया गया है क्‍योंकि Computer Programming में English भाषा के शब्‍द, हिन्‍दी भाषा के शब्‍दों की तुलना में ज्‍यादा आसानी से समझ में आ जाते हैं।

और जैसाकि हम सभी जानते हैं कि हर पुस्‍तक में समय-समय पर नए Content Add होते रहते हैं, जिससे पुस्‍तकों का नया Version आता रहता है। यदि आप इस पुस्‍तक को PDF Format EBook के रूप में खरीदते हैं, तो इस पुस्‍तक के सभी Updated Versions आपको Lifetime Free प्राप्‍त होते हैं, जिनके लिए आपको अलग से कोई Extra Charge कभी भी नहीं देना होता।

यानी इस पुस्‍तक में भविष्‍य में जब भी कोई परिवर्तन किया जाएगा, उस परिवर्तित वर्जन के लिए आपको अलग से कोई Payment नहीं करना होगा, बल्कि हर Updated Version Update होते ही आपको आपके EMail पर Automatically भेज दिया जाएगा, जिसके लिए आपको अलग से Request करने की भी जरूरत नहीं होगी।

यदि आप चाहें तो BUY NOW Button को क्लिक करते हुए इस पुस्‍तक को अभी खरीद सकते हैं अथवा DOWNLOAD Button को क्लिक करते हुए इस Website पर उपलब्‍ध सभी EBooks का FREE DEMO Download कर सकते हैं तथा 800+ Pages पढ कर इस बात का निर्णय ले सकते हैं कि ये EBooks आपके लिए कितनी उपयोगी हैं।

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE

Download All Hindi EBooks

सभी हिन्दी EBooks C, C++, Java, C#, ASP.NET, Oracle, Data Structure, VB6, PHP, HTML5, JavaScript, jQuery, WordPress, etc... के DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।