Creating a Circular Linked List Algorithm

Creating a Circular Linked List Algorithm – जिस तरह से हम किसी साधारण One – Way Linked List Create करते हैं उसी तरह से एक Circular Header Linked List भी Create होती है। अन्तर बस इतना होता है कि किसी साधारण One – Way Linked List में List के अन्तिम Node में Null Initialize करके List के अन्त को Represent किया जाता है जबकि Circular Header Linked List में List के अन्त को दर्शाने के लिए List के अन्तिम Node में NULL Initialize नहीं किया जाता बल्कि NULL के स्थान पर उसी Linked List के START Pointer का Address Store कर दिया जाता है, जिससे List का अन्तिम Node हमेंशा Linked List के शुरूआत को यानी START को Point करता है।

किसी Circular Linked List को Create करने के लिए हम निम्न Algorithm का प्रयोग कर सकते हैं जो कि ठीक उसी प्रकार का Algorithm है जिस प्रकार के अन्‍य Algorithm होते हैं। अन्तर केवल इतना है कि इस Linked List में Create होने वाला Node जब Linked List के अन्त में जुडता है तब उसके LINK Part में START का Address Store कर दिया जाता है जबकि यदि इस Linked List में कोई नया Node Linked List के बीच में या शुरूआत में Insert किया जाता है तो Circular Header Linked List व एक सामान्‍य One – Way Linked List के Algorithm में किसी प्रकार का कोई अन्तर नहीं होता है।

[code]
Starting New CIRCULAR Linked List Algorithm 
IF START = NULL then
  PTR = AVAILABLESPACE
    [ Assign that Node to New Linked List which Currently Points 
      AVAILABLESPACE Linked List’s Pointer. ]
 
    AVAILABLESPACE = AVAILABLESPACE[LINK]
    [ Assign Next AVAILABLESPACE NODE to AVAILABLESPACE Pointer. ] 
 
    PTR[INFO] = ITEM  
    [ Insert the ITEM in the INFO Part of the newly Created Node. ]

    PTR[LINK] = START
    [ Insert NULL in the LINK Part of the newly Created Node 
      which is indicating the end of the Linked List. ]
 
  START = PTR
  [ Give the Address of newly created node PTR to START so that 
    START may point newly created first node PTR of the Linked List. ]
 
EXIT
[/code]

हम देख सकते हैं कि ये Algorithm ठीक उसी प्रकार का है जिस प्रकार का Algorithm हमने One – Way Linked List Create करने के लिए Use किया था। अन्तर केवल PTR[LINK] = START Statement में है जहां किसी सामान्‍य One – Way Linked List में PTR[LINK] = START के स्थान पर PTR[LINK] = NULL होता है।

Circular Header Linked List
Two – Way Lists OR Doubly Linked List

Data Structure and Algorithmes in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Data Structure and Algorithms in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Data Structure and Algorithms in Hindi | Page: 433 | Format: PDF

BUY NOW GET DEMO REVIEWS