Event Handling – Immediate Response and Change Events

किसी Page के Processing के इस Stage में हमारा Page पूरी तरह से Load व Validate हो चुका होता है। इसलिए ASP.NET अब उन सभी Events को Fire करता है, जो अन्तिम Postback के बाद से Trigger हो चुके हैं। किसी Page के ज्यादातर हिस्से के लिए ASP.NET Events दो प्रकार के होते हैं:

Immediate Response Events

इसके अन्तर्गत किसी Submit Button को अथवा किसी अन्‍य Button को Click करना या फिर किसी Image Region को Click करना या किसी ऐसे Rich Web Control Link को Click करना, जो कि __doPostBack() नाम के ASP.NET Server द्वारा Current Page के लिए Automatically Create होने वाले JavaScript Function के माध्‍यम से Postback को Trigger करता है, इस प्रकार के Events को Immediate Response Eventsके नाम से जाना जाता है क्योंकि ये Events तुरन्त Trigger हो जाते हैं।

Change Events

इसके अन्तर्गत किसी Control के Selection में होने वाले Changes या किसी TextBox के Text में होने वाले Changes के कारण Trigger होने वाले Events Include होते हैं। यदि इन Events को Trigger करने वाले Web Controls की AutoPostBack Property True Set हो, तो जैसे ही इन Controls को Use किया जाता है, ये Events Fire होने लगते हैं और Continuously Fire होते हैं। जबकि यदि ये Property False Set हो, तो ये Event तब Fire होते हैं, जब Page फिर से Web Server पर Postback होता है।

हम समझ सकते हैं कि ASP.NET का Event Model किसी Traditional Windows Based Desktop Application के Event Model की तुलना में काफी अलग होता है। किसी Windows Application में Form की State Local Computer की Memory में ही Stored रहता है और Application Continuously Run होता रहता है।

यानी हम हमारे Desktop Application में कभी भी और किसी भी समय किसी भी Event को Immediately Respond कर सकते हैं। जबकि ASP.NET Application में हर काम एक Stage के दौरान Trigger होता है और परिणाम के रूप में सभी Events एक Batch के रूप में एक साथ Execute होते हैं।

उदाहरण के लिए मानलो कि हमारे किसी Page पर कोई Submit Button व TextBox Controls Places है जो कि Automatically Postback नहीं होते। जहां हम हमारे TextBox Control के Text को Change करते हैं और फिर Submit Button पर Click करते हैं। Submit Button को Click करने व Response के फिर से Retrieve होने तक ASP.NET Server पर निम्न क्रम में कई Events Trigger होते हैं:

  • Init
  • Load
  • TextChanged
  • Click
  • PreRender
  • Unload

ASP.NET के Event Handling के इस तरीके को ध्‍यान में रखना एक ASP.NET Web Forms Developer के रूप में हमारे लिए काफी उपयोगी साबित होता है। इस Event Model के अपने फायदे व नुकसान भी हैं।

फायदे के रूप में हमें ये Event Model एक Developer के रूप में हमें Higher Level का Abstraction Provide करता है, जिसके कारण हमारा Program Code, एक Stateless Protocol आधारित Web Application भी Event Driven Desktop Application के Development Process को Simulate करता है। परिणामस्वरूप हम ज्यादा तेज गति से एक ऐसा Web Application Develop कर सकते हैं, जैसाकि कोई Windows Application Develop करते हैं।

जबकि नुकसान के रूप में हम एक गलती करते हुए ये भूल जाते हैं कि ASP.NET का ये Event Model वास्तव में Windows Application के Event Model का Simulation मात्र है। जिसकी वजह से हम एक Web Application को एक Desktop Application की तरह Exactly समान प्रकार से Treat नहीं करवा सकते जिस तरह से एक Windows Application Treat होता है।

यानी एक ASP.NET Web Application में पिछली Request का Data Member Variables के रूप में Memory में Stored नहीं रहता, जिसे अगली Request में फिर से Reuse किया जा सके और न ही हम View State के रूप में बहुत सारे Data को Client व Server के बीच Transmit करवा सकते हैं, क्योंकि ऐसा करने से Web Application की Performance काफी प्रभावित होती है।

Page Framework Initialization, User Code Initialization and Validation
Event Handling - Web Forms Processing Stages

Core ASP.NET WebForms in Hindi - BccFalna.com: TechTalks in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Core ASP.NET WebForms with C# in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Core ASP.NET WebForms in Hindi | Page:647 | Format: PDF

BUY NOW GET DEMO REVIEWS