JSP – Parts of Web Application

Parts of Web Application – JSP (Java Server Pages) एक Java Programming Language पर आधारित Technology है, जिसका प्रयोग करके हम बड़ी ही आसानी से Java Programming Language के Coding Syntax व Programming Concepts का प्रयोग करते हुए Dynamic Web Sites व Web Applications Develop कर सकते हैं।

JSP का प्रयोग हम Exactly उसी प्रकार से कर सकते हैं, जिस प्रकार से हम HTML Markup के बीच PHP Programming Codes को Embed करते हैं। अन्तर केवल इतना है कि JSP का प्रयोग करते हुए हम जो Dynamic Pages Create करते हैं, उनमें Pages को Dynamic बनाने के लिए हम Java Programming Language के Codes लिखते हैं।

JSP हमें ऐसे TagsElements Provide करता है, जिनका प्रयोग करके हम बड़ी ही आसानी से अपने HTML Page में किसी Backend Database में Stored Data को अथवा Java Objects के रूप में Defined Business Logic को Access करके Embed कर सकते हैं तथा Java Application Development की Complexities को Deeply समझे बिना भी Java Based Web Sites व Web Applications Create कर सकते हैं।

Java Server Pages एक तरह से .jsp Extension युक्त Text Files ही होते हैं, जिसे हम HTML Pages के Replacement के रूप में Use करते हैं। यानी हम किसी .jsp File में Exactly वैसे ही HTML Markup Codes Use कर सकते हैं, जिस तरह से .html Static File में करते हैं। लेकिन .jsp File में हम हमारी जरूरत के अनुसार Java Codes भी लिख सकते हैं और JSP Pages को Dynamic बनाने के लिए Underlying Database से Data Access करके HTML Markups के बीच Embed भी कर सकते हैं।

जबकि इन Dynamic Pages को Create करने के लिए हमें कोई नया Programming Language नहीं सीखना पडता, क्‍योंकि Server Side Codes लिखने व Webpage को Dynamic बनाने के लिए हम Java Programming Language के Syntaxes व Package Library को Use कर सकते हैं।

जब हम कोई JSP Page Create करते हैं और इस JSP Page को जब User, Web Browser के माध्‍यम से Open करता है, तो User की Request को पूरा करने के लिए Web Browser, User द्वारा Request किए गए JSP Page की Information को HTTP Protocol के माध्‍यम Web Server पर भेजता है, जहां Web Server को जब इस बात का पता चलता है कि User ने किसी .jsp Page के लिए Request Perform किया है, तो वह उस .jsp Page को Static HTML Page की तुलना में अलग तरीके Treat करते हुए सभी HTML Markups को तो ज्‍यों का त्यों User के Web Browser में Pass कर देता है।

लेकिन जिस हिस्से में Java Codes लिखे होते हैं, उन्हें Webpage के Dynamic Content Generate करने के लिए Web Server पर Installed Java Virtual Machine पर Send करता है, जहां Java Codes को JVM द्वारा Execute करने के बाद Generate होने वाले Result को Dynamically HTML Page में Embed किया जाता है। परिणामस्वरूप User को एक Dynamically Create होने वाला HTML Webpage Output के रूप में प्राप्त होता है।

इस प्रकार से JSP Page एक ऐसा तरीका Provide करता है, जिसमें HTML Code पूरी तरह से Webpage के Presentation Layer को Represent करता है जबकि Business Logic को Java Codes के माध्‍यम से Implement किया जाता है। फलस्वरूप Presentation Layer व Business Logic दोनों पूरी तरह से एक दूसरे से Separated रहते हैं, जो कि क्रमश: Front-TierMiddle-Tier को Represent करते हैं, जबकि Database के रूप में Backend-Tier को Represent किया जा सकता है।

Parts of Web Application

Web Applications मूलत: Client/Server Applications होते हैं, जहां Client Computer को Use करने वाला User, Web Server Computer पर स्थित किसी Resource को Access करता है और दोनों Computers आपस में एक दूसरे से Internet/Intranet के माध्‍यम से जुडे होते हैं।

Web Application में User अपने Client Computer पर स्थित Web Browser को Use करते हुए अपने Web Application के User Interface को Use करता है और Web Browser द्वारा Provided User Interface के माध्‍यम से ही Web Application को Access/Manipulate करता है। Web Application किसी न किसी Web Server Software के Control में Server Computer पर Run होता है।

यदि हम Java Application की बात करें, तो Tomcat Server सबसे ज्यादा Use किया जाने वाला Web Server है। साथ ही Tomcat Server सबसे ज्यादा Mature व Fast भी है। ज्यादातर Web Applications में Server Computer पर किसी न किसी प्रकार का DBMS (Database Management System Software) भी Installed होता है, जिसमें Stored Data को ही Webpage पर Dynamically Display किया जाता है या Database में ही Client Side से आने वाले Data को Store किया जाता है।

यदि हम Web Application के विभिन्न Parts को एक Simple चित्र के रूप में Represent करें, तो निम्नानुसार कर सकते हैं-

JSP - Parts of Web Application » Core JSP in Hindi - BccFalna.com
Java Servlet Lifecycle
HTTP (Hyper Text Transfer Protocol) for Webpage – Request and Response