Web Browser War

Web Browser War – हालांकि 1991 में Internet को Public Access के लिए पूरी तरह से Free कर दिया गया था, लेकिन Internet को Use करने के लिए Tim ने जिस World Wide Web Project को Develop किया था, वह अभी तक भी Publicly उपलब्‍ध नहीं था। इसलिए केवल Tim व CERN के वैज्ञानिक ही Web से सम्बंधित Research व Development किया करते थे और लोगों को केवल वो ही Information व Documents Access करने के लिए मिलते थे, जिन्हें CERN द्वारा Web के रूप में Publish किया जाता था।

जिसकी वजह से Web पर Content के Development की Speed लगभग न के बराबर थी। इसलिए Tim ने निर्णय किया कि जिस तरह से Internet Public के लिए पूरी तरह से Accessible है, उसी तरह से World Wide Web से सम्बंधित Technology को भी Public के लिए पूरी तरह से Free कर दिया जाए ताकि अन्‍य लोग भी Web के Development में Participate कर सकें और Web अधिक तेजी से Develop हो सके।

फलस्वरूप 1993 में Tim ने Web Development से सम्बंधित Technology यानी HTTPHTML को पूरी तरह से Public के लिए Free उपलब्ध करवा दिया, जिसके परिणामस्वरूप अब हर वह व्‍यक्ति Web Development कर सकता था, जिसे HTML का ज्ञान था और उस समय HTML एक बहुत ही सरल Markup Language थी, जिसे कोई भी व्‍यक्ति बड़ी ही आसानी से सीखकर उपयोग में ले सकता था।

जैसे ही Tim ने Web Development से सम्बंधित Basic Technologies यानी HTTP व HTML की Description को Public के लिए Freely Available करवाया, Web Development में तेजी से विकास होने लगा और अगले दो सालों तक Web को ज्यादा से ज्यादा आसानी से व बेहतर User Experience के साथ Use करने के लिए नए-नए Web Browsers बनाए जाने लगे, जो कि Tim द्वारा Develop किए गए WorldWideWeb नाम के Web Browser की तुलना में काफी ज्यादा Advanced थे और इसी दौरान जो सबसे ज्यादा Popular होने वाला Web Browser बनाया गया, उसका नाम Mosaic था।

Mosaic ही वह Web Browser था, जिसने Internet को नई उंचाईयां दी थी और लोगों में Internet को वास्तव में Popularize किया था। इसे University of Illinois Urbana Champaign में स्थित NCSA (National Center for Supercomputing Applications) के Mark AndreessenEric Bina ने बनाया था, इसीलिए जब शुरूआत में इसे Launch किया गया था, तब इसका नाम केवल Mosaic नहीं बल्कि NCSA Mosaic था।

आगे चलकर यही Mosaic Web Browser, Netscape Navigator नाम से जाना गया जिसे Mark Andreessen की कम्पनी Netscape ने बनाया था और वास्तव में इस Netscape Navigator Browser को लगभग उन्हीं Developers ने Develop किया था, जिन्होंने Original Mosaic को बनाया था।

इसलिए हालांकि Mosaic के Official Development को 7 January, 1997 को पूरी तरह से बन्द कर दिया गया था, लेकिन फिर भी Netscape Navigator, Mosaic का ही Modified रूप था और वर्तमान समय में हम इसी Netscape Navigator को Mozilla Firefox के नाम से जानते हैं जो कि Mozilla Project का Implementation है।

हालांकि Mosaic को बने हुए 20 साल से अधिक हो चुके हैं, लेकिन फिर भी Mosaic Web Browser को जिस Look, Feel and Working के साथ बनाया गया था, वो आज के Modern Web Browsers में भी लगभग ज्‍यों के त्यों हैं। यानी आज के Modern Web Browser जैसे कि Google Chrome, Internet Explorer, SafariMozilla Firefox सभी GUI आधारित Web Browsers हैं, सभी में एक Addressbar है और Navigation के लिए सभी में Forward, Back, Reload जैसे Buttons हैं, जिन्हें वास्तव में Mosaic में ही पहली बार Add किया गया था।

Mosaic से पहले मूल रूप से Tim द्वारा Develop किया गया WorldWideWebErwise तथा ViolaWWW नाम के Web Browsers के माध्‍यम से Web Surfing की जाती थी, लेकिन इन सभी Web Browsers की एक मुख्‍य कमी ये थी, कि इनके द्वारा जिन भी Webpages को Visit किया जाता था, उनमें यदि कोई Image होती थी, तो वे Images समान Page पर दिखाई नहीं देती थीं, बल्कि उन Images को अलग Window में Open करके देखना पडता था।

इसलिए जब Mosaic Web Browser Launch हुआ, तो ये Web Browser लोगों में काफी  तेजी से Popular हो गया, क्‍योंकि ये Web Browser किसी Webpage के Content व Images दोनों को समान Window में एक साथ Render करने में सक्षम था। यानी Images Content के साथ ही दिखाई देती थीं, जिसकी वजह से लोगों ने इसे मुख्‍य Web Browser के रूप में Use करना शुरू कर दिया व Tim द्वारा Develop किया गया WorldWideWeb तथा उस समय तक उपलब्ध Erwise, ViolaWWW, MidasWWW, tkWWWCello जैसे अन्‍य Web Browsers जल्दी ही Market से लुप्त हो गए क्‍योंकि लोग पूरी तरह से Mosaic को Use करने लगे थे।

Mosaic Web Browser के तेजी से Popular होने के कुछ और कारण भी थे। जिस समय Mosaic को Launch किया गया था, उस समय मूल रूप से तीन GUI Operating Systems Microsoft Windows, MacintoshUnix Market में सर्वाधिक Use होते थे और Mosaic Web Browser इन तीनों ही Operating Systems के लिए Develop किया गया था, जिसकी वजह से कोई भी User यदि Mosaic को Use करना चाहता था, तो उसे अपना Operating System या Computer System Change करने की जरूरत नहीं होती थी, बल्कि बिना किसी परेशानी के वह अपने Current Computer ArchitectureOperating System के लिए Mosaic Web Browser को Download करके Use कर सकता था।

इसके अलावा Mosaic Web Browser की एक सबसे मुख्‍य विशेषता ये थी कि ये पूर्ण GUI Web Browser था, जिसमें Point and Click Device यानी Mouse का प्रयोग करते हुए Web Surfing किया जाना सम्भव था, जबकि Mosaic से पहले तक उपलब्ध अन्‍य Web Browsers जैसे कि WorldWideWeb, ViolaWWW आदि में Web Surfing करने के लिए अभी भी Manual Commands लिखने पडते थे।

इस तरह से Mosaic वास्तव में एक True GUI Web Browser था, जो कि User को वास्तव में बड़ी ही आसानी व तेजी से Web के माध्‍यम से Internet को उसकी पूर्ण क्षमताओं के साथ Use करने की सुविधा Provide करता था।

इतना ही नहीं Mosaic से पहले के सभी Web Browsers केवल HTTP Protocol को ही Handle करने में सक्षम थे। यानी केवल उन्हीं Documents को Access करके Web Browser के माध्‍यम से Render कर सकते थे, जो कि HTTP Protocol पर आधारित होते थे। लेकिन Mosaic एक ऐसा Web Browser था जो HTTP के साथ ही FTP, NNTPGOPHER Protocol के Client के रूप में भी काम कर सकता था और इसी वजह से Mosaic Web Browser में ImagesContent को एक साथ Render करना सम्भव हो पाया था। जबकि Mosaic को Use न करने वाले Users को File Transfer करने या अन्‍य प्रकार के काम करने के लिए Different Client Software को Use करना पडता था।

इस प्रकार से Mosaic Web Browser ने World Wide Web को Modern State तक पहुंचाने में सबसे महत्वपूर्ण Role Play किया, जिसकी वजह से हम आज के Modern Web को देख पा रहे हैं और Internet की विभिन्न प्रकार की सुविधाओं का लाभ सरलता से उठा पा रहे हैं।

World Wide Web जिसे सामान्यत: Web भी कहा जाता है, एक Global Information Hub है, जिसे Users ऐसे Computer या Mobile Phone Devices के माध्‍यम से Read व Write कर सकते हैं, जो कि Internet से Connected हों।

 

What is Web and How it Works

सामान्यत: लोग Internet व Web को एक ही चीज समझ लेते हैं, जबकि Web एक प्रकार की Service है जो Internet के माध्‍यम से Run होती है और एक विशिष्‍ट प्रकार की जरूरत को पूरा करती है, ठीक उसी प्रकार से जिस प्रकार से Email एक Service है जो कि Internet के माध्‍यम से Run होता है और Internet के माध्‍यम से दुनियां के किसी भी हिस्से में Email Send/Receive करने की जरूरत को पूरा करता है।

Web वास्तव में मूल रूप से चार चीजों HyperText transfer Protocol (HTTP), HyperText Markup Language (HTML) व Web Browser तथा Web Server पर आधारित है। जहां-

  • HTTP Protocol इस बात को निश्चित करता है कि Internet के माध्‍यम से Webpages के रूप में Information को किस प्रकार से दो Internet Supported Devices के बीच Transact किया जाएगा।
  • HTML वह Markup Language है, जिसका प्रयोग करते हुए Web पर Place करने हेतु Information को Webpage के रूप में Define किया जाता है।
  • Web Server वह Software होता है, जो Web Browser द्वारा Request किए गए Webpage को Serve करने का काम करता है।

यदि सरल शब्दों में कहें, तो Web BrowserWeb Server दोनों एक ही Software के दो हिस्से होते हैं जो दो अलग Devices पर Install किए जाते हैं। Web Browser वह हिस्सा होता है, जिसके माध्‍यम से User किसी Specific Information को प्राप्त करने के लिए Webpages की Request करता है और Web Server वह हिस्सा होता है, Web Browser से आने वाली Requests को Response करता है तथा Requested Resource को Response के रूप में फिर से Web Browser को Return करता है।

Download All EBooks

सभी हिन्दी EBooks के DEMO DOWNLOAD LINKS प्राप्‍त करें, अपने EMail पर।

Register करके Login करें। इस Popup से छुटकारा पाएें।