What is Database Normalization

What is Database Normalization – एक बार Record Layout बना लेने के बाद हम उस Record Layout (Table) पर Normalization Process को Apply कर सकते हैं। इस Process द्वारा हम एक Complex Database Design को Simple Relationships के Group के रूप में Break Down कर लेते हैं। Normalization इसलिए भी जरूरी है क्‍योंकि इस Process से एक Database System उसी तरह से Represent होता है, जिस तरह से एक Real Life Business Represent होता है।

Normalization का एक Formal Mathematical आधार है, लेकिन ये सारा Process वास्तव में Commonsense पर आधारित होता है और हमें Database को अच्छी तरह से Design करने के लिए इसी Commonsense को Use करना होता है। Normalization के बाद एक Database में निम्न विशेषताएं आ जाती हैं:

  • Database Maintain करना आसान हो जाता है।
  • Database को आसानी से Future Use के लिए Expand किया जा सकता है।
  • इसमें आवश्‍यकता से अधिक Duplicate Data Store नहीं होते हैं।
  • Data Inconsistencies की सम्भावना कम हो जाती है।
  • Update व Delete Anomalies का Effect कम हो जाता है।

Dr. E.F. Codd ने तीन Normal Forms Propose किए थे, जिसके आधार पर एक अच्छा Relational Database Design तैयार किया जा सकता है। इन तीनों Normal Forms को First Normal Form, Second Normal FormThird Normal Form नाम दिया गया है। इसके अलावा Third Normal Form को Expand करते हुए Codd ने एक और Normal Form Boyce-Codd Form प्रदान किया था, जो कि Third Normal Form का ही विस्तृत रूप है।

बाद में Researchers ने Fourth Normal FormFifth Normal Forms को भी Develop किया, लेकिन ज्‍यादातर Databases का Third Normal Form में होना एक अच्छा Relational Database Design माना जाता है। Normalization Processes को अपने Database पर Apply करके हम अपने Database में निम्न बातें Ensure करते हैं:

  • सभी Tables के सभी Attributes Atomic (Individual) हों। यानी कोई भी Field एक से ज्‍यादा मानों को Store करने में सक्षम ना हो।
  • किसी Table में कोई भी Repeating Field ना हो, जो किसी Entity के एक ही Attribute को एक से ज्‍यादा बार Store करे।
  • किसी Table के सभी Fields सिर्फ और सिर्फ उस Table के Primary Key पर ही Depend हों।
  • Table की सभी Non-Key Attributes को Table से Remove कर दिया गया हो।

अब हम हमारे Video-Rental Store के Database को लेते हैं। Video Store के Owner ने अपने Data को Excel Spreadsheet में Store कर रखा है। हालांकि Microsoft Company Excel को एक सबसे ज्‍यादा Use किए जाने वाले Unofficial Database के रूप में देखती है। फिर भी हम इसमें किसी Database को सरलता से Manage नहीं कर सकते हैं, क्‍योंकि इसमें Data का बार-बार Duplication करना पडता है। इसमें Actor की Information को एक से ज्‍यादा Columns में Store करना पडता है, जिससे SQL Query को Run करना मुश्किल हो जाता है। यानी एक Excel Spreadsheet में Stored Data को Manage करना काफी मुश्किल है, इसलिए हमें इस Database को Normalize करने की जरूरत है। (What is Database Normalization in Hindi)

Logical Design of Database
Ensure Attributes Are Atomic - DBMS Normalization

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindiये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी रहा, तो निश्चित रूप से ये पुस्तक भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी। 

Oracle 8i/9i SQL/PLSQL in Hindi | Page: 587 | Format: PDF

BUY NOW GET DEMO REVIEWS