Android Intents – The Basic Fundamentals

Android Intents वास्तव में System Messages होते हैं, जो कि Android Platform को Device के अन्दर Running रखते हैं और उस Android Platform पर Run होने वाले विभिन्न Applications को विभिन्न प्रकार के Events के लिए Notify करते हैं।

यानी जिस प्रकार से हमारे Computer System में Operating System विभिन्न प्रकार के Hardware व Software Events को Trigger करके Applications को कोई Specific Task Complete करने के लिए Notify करता है, ठीक उसी तरह से Android Device में किसी भी प्रकार के Hardware State Change (जैसे कि SD Card को Device में Insert या Remove करने) अथवा Software State Change (जैसे कि SMS के रूप में नए Incoming Data के आने अथवा जाने या फिर Application के Menu Option को Touch करने, आदि) के रूप में विभिन्न प्रकार के Events के Trigger होने पर भी Android System, Android App को किसी Specific Task के Complete होने के लिए Notify करता है।

अन्‍य शब्दों में कहें तो जिन्हें अन्‍य Operating Systems में Messages या Events के नाम से जाना जाता है, उन्हें ही Android Platform के अन्तर्गत Intents कहते हैं और हम न केवल किसी Intent को Respond कर सकते हैं, बल्कि अपनी जरूरत के अनुसार नया Intent Create भी कर सकते हैं और उन Intents के Response में किसी Specific Activity को Launch भी कर सकते हैं अथवा इस बात को तय कर सकते हैं कि वह Situation कब आएगी, जब कोई Specific Intent Trigger होगा।

उदाहरण के लिए यदि हमें किसी Intent को उस समय Trigger करना हो जबकि वह किसी Specific Location के 200 Meter के दायरे में आए, तो इस प्रकार के Intent को Schedule करने के लिए हमें हमारे स्वयं के Intent Create करने की जरूरत पडती है।

यदि एक Android Developer के रूप में Intent के महत्‍व को सरल शब्‍दों में समझने की कोशिश करें, तो Intent हमें किसी Specific Hardware/Software Event Trigger होने के Response में एक Activity से दूसरी Activity पर Move करने की सुविधा देता है।

उदाहरण के लिए मानलो कि हमारे Android App में Main Activity पर एक Button है, जिसे Click करने पर एक नया Alert Box Display होता है। इस स्थिति में एक Button के Click होने पर Response रूप में Display होने वाला Alert Box एक प्रकार का Intent होता है।

Intents का प्रयोग करते हुए हम एक Activity के Data को दूसरी Activity बीच Pass करने का काम करते हैं। हम अपनी किसी Specific जरूरत को पूरा करने के लिए एक Intent के माध्‍यम से ही सम्‍पूर्ण Current Activity को भी एक Object की तरह दूसरी Activity पर Pass कर सकते हैं। इतना ही नहीं हम चाहें तो Intents का प्रयोग करते हुए किसी नए Android Application को भी Open कर सकते हैं अथवा किसी Service को Launch/Activate कर सकते हैं, जो कि Background में Run होते हुए Current Android Application की किसी Requirement को Invisibly पूरा करने लगता है।

सरल शब्‍दों में कहें तो Intent ही वह तरीका हैं, जिनके माध्‍यम से Current Android Application की Current Activity के किसी Trigger होने वाले Event के Response में Current Application अथवा किसी अन्‍य Android Application की किसी दूसरी Activity को Launch कर सकते हैं। जबकि सामान्‍यत: किसी Intent को Current Activity के User Interface में स्थित किसी UI Control को Click करने पर Trigger होने वाले Click Event के Response में ही Fire किया जाता है।

Intents का प्रयोग सामान्‍यत: कोई SMS Send करने, किसी Service को Start करने, किसी Activity को Launch करने, किसी Webpage को Display करने, Contact List को Display करने, कोई Phone Number Dial करने अथवा किसी Phone Call को Receive करने जैसी जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाता है।

Intents को हमेंशा Android App द्वारा ही Initiate किया जाता हो, ऐसा जरूरी नहीं है, बल्कि इन्‍हें Android Operating System द्वारा भी Initiate किया जाता है ताकि वह हमारे Android Application को कोई Specific Notification दे सके।

उदाहरण के लिए जब आप किसी Android App को Use कर रहे होते हैं, उसी समय कोई SMS आता है तो आपको उस नए आने वाले SMS का जो Notification प्राप्‍त होता है, वह एक Intent के माध्‍यम से ही प्राप्‍त होता है, लेकिन इस Intent को किसी Application द्वारा नहीं बल्कि Android OS द्वारा Initiate किया गया होता है।

Intents, Implicit व Explicit यानी Automatic व Manual दोनों तरीकों से Initiate हो सकते हैं।

उदाहरण के लिए जब आप अपने Android Device के Mail App में आए हुए किसी Email में Exist किसी URL को देखने के लिए उसे Tap करते हैं, तो आपके Intention को समझते हुए उस URL से Associated Webpage को दिखाने के लिए आपके Android Device का Operating System स्‍वयं Intent के माध्‍यम से Web Browser Application को Launch कर देता है क्‍योंकि Android OS को पता है कि एक URL को Web Browser द्वारा ही देखा जा सकता है। इस स्थिति में Create होने वाला Intent, Android System द्वारा Automatically (Implicitly) Create होता है।

जबकि अपने Android App के किसी Button को Click करने पर Web Browser Application को Launch के लिए, हमें हमारे Intent को Manually Create करके Execute करना पडता है और इस Situation में हमारा Intent, Trigger होने वाले Action (Event) और उसके Response में Execute होने वाले Action Handler या Event Handler के साथ Loosely Coupled रहता है।

Activities, ViewsIntents मात्र इन तीनों का प्रयोग करते हुए भी हम एक Completely Working Android App Create कर सकते हैं और ढेरों ऐसे Android Apps पहले से उपलब्‍ध हैं, जिन्‍हें मात्र इन तीना चीजों का प्रयोग करते हुए ही Develop किया गया है।

Android Fragment - The Basic Fundamentals
Android Service - The Basic Fundamentals

Android in Hindi - BccFalna.comये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Android in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Android in Hindi | Page: 628 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE