Android Service – The Basic Fundamentals

Android Service – Activities का Lifetime काफी कम होता है और वे कभी भी Shut-Down हो सकते हैं अथवा जरूरत के अनुसार उन्हें Close किया जा सकता है। जबकि Services वे Background Programs होते हैं, जो User की जानकारी के बिना Background में Continually Run होते रहते हैं।

Services को हम Background Processes भी कह सकते हैं और निम्‍न चित्रानुसार Windows OS के Task Manager में दिखाई देने वाले Background Processes की तरह मान सकते हैं, जिनका कोई User Interface नहीं होता, बल्कि वे Background में Invisibly Run हो रहे होते हैं और विभिन्‍न प्रकार की System व Application Related Requirements को Fulfill कर रहे होते हैं:

Android Service

Android Service

उदाहरण के लिए जब हम हमारे Android Device पर कोई Music सुन रहे होते हैं, उसी दौरान हम अपने WhatsApp Application पर किसी को Reply भी कर रहे होते हैं अथवा Hangone App या Facebook App पर किसी के साथ Chat करते हुए Multitasking भी कर रहे हैं, लेकिन हमारा Music, WhatsApp, Facebook या Hangout App को Use करते समय भी Continuously Run हो रहा होता है, क्‍योंकि वह हमारी जानकारी के बिना Background में एक Service की तरह Run हो रहा होता है।

Services की यही विशेषता है कि उनका कोई User Interface होना जरूरी नहीं होता और बिना User Interface के भी वे Background में Invisibly Run होते हुए हमारी किसी Requirement को पूरा कर रहे होते हैं।

Services, Android OS का एक ऐसा तरीका हैं, जिनके माध्‍यम से हम किसी Operation को Background में Invisibly Running रख सकते है। इसलिए जब हमें किसी Task को लम्‍बे समय तक Running रखना होता है, जैसे कि किसी बड़ी File को Upload/Download करना, तब इस प्रकार की जरूरत को पूरा करने के लिए हम Service Create करते हैं।

चूंकि Services के लिए कोई User Interface होना जरूरी नहीं होता, इसलिए Services के Start, Activate, Pause, Resume या End आदि से सम्‍बंधित Stat Related Information को Notifications के माध्‍यम से Handle किया जाता है।

Services Create करने के हमेंशा दो तरीके होते हैं:

  1. पहले तरीके के अन्‍तर्गत किसी Service को Activity के माध्‍यम से Create किया जाता है। इस प्रकार की Services, उस Activity के Stop होने के साथ ही समाप्‍त हो जाती हैं, जिसके माध्‍यम से इन्‍हें Create किया गया होता है।
  1. जबकि दूसरे तरीके के अन्‍तर्गत इन Activities को स्‍वतंत्र रूप से Create किया गया होता है, जिसकी वजह से ये किसी Application की किसी Activity के साथ Bound नहीं होते, परिणामस्‍वरूप किसी Application के Start या Stop होने से इनके Run होने पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता और एक बार Start होने के बाद ये Background में Invisibly Continually Run होते रहते हैं।

इसी बात को यदि हम दूसरे तरीके से कहें तो एक Android System, Local ServiceRemote Service के रूप में दो प्रकार की Services Define कर सकता है। Local Service के रूप में जो Service Create की जाती है, उसे Current Device का केवल वही Applications Use कर सकता है, जिसने Service को Create किया होता है, जबकि Remote Service के रूप में जिस Service को Create किया गया होता है, उसे उस Device के विभिन्‍न Applications अपनी जरूरत के अनुसार Use कर सकते हैं।

अत: Local Service को हम किसी Activity द्वारा किसी Application के माध्‍यम से Create की गई Service कह सकते हैं, जबकि Remote Service को हम एक स्‍वतंत्र रूप से Create की गई Service कह सकते हैं।

Services को हम एक निश्चित समयान्तराल पर किसी Specific Task के Complete होने के लिए बार-बार Execute होने हेतु Schedule भाी कर सकते हैं और ये Scheduling करने के लिए हम Cron-Jobs Setup कर सकते हैं, जिनके बारे में हम आगे विस्‍तार से जानेंगे।

Android Intents - The Basic Fundamentals
Content Provider in Android - The Basic Fundamentals

Android in Hindi - BccFalna.comये Article इस वेबसाईट पर Selling हेतु उपलब्‍ध EBook Android in Hindi से लिया गया है। इसलिए यदि ये Article आपके लिए उपयोगी है, तो निश्चित रूप से ये EBook भी आपके लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

Android in Hindi | Page: 628 | Format: PDF

BUY NOW DOWNLOAD READ ONLINE